21 जुलाई, 2013

माँ तो हूँ ही - अब सासु माँ भी



माँ तो हूँ ही - अब सासु माँ भी . इन्हीं सुखद क्षणों के सुख के लिए मैं आप सबसे दूर थी . आइये इन क्षणों को देखकर अपना आशीर्वाद दीजिये . ये है मेरी बेटी सौ.खुशबू और मेरा दामाद चिरंजीवी सौरभ प्रसून …… 

मैं लिखूँगी उनका नाम

नहीं लिखूँगी मैं उनका नाम स्वर्णाक्षरों में, जिन्होंने तार तार होकर भी विनम्रता का पाठ पढ़ाया सम्मान खोकर झुकना सिखाया और रात भर ...