15 अगस्त, 2018

बड़े बड़े कारनामे झूठ होकर भी बहुत सच होते है बालमुकुंद




एक था बालमुकुंद
परियों की कहानी
सिंड्रेला के जादुई जूत्ते
आलू के कारनामे सुनकर
आखिर में अपनी दोनों बाहें
बेफिक्री से ऊपर उठाकर कहता
"सब झूठ है"
सुनकर हँसी आ जाती ....
झूठ से ही तो कल्पनायें निकलती हैं
सच की ईंट रखी जाती है
बच्चे इन्हीं कहानियों से
अपनी नई कहानी के रास्ते खोलते हैं
लेकिन बालमुकुंद तठस्थ था
झूठ है, फिर क्या मानना
क्या सोचना !
जज़्बा तैयार करना बहुत कठिन है
जब ना मानने के पुख्ता कारण हो !
क्योंकि हम जो लकीर खींचते हैं
वह आगे ही जाएगी
एक ही परिणाम होगा
यह तय नहीं है
तभी तो बचपन से
गाजर से
शकरकंद से
हम किला बनाते हैं
तोप की रचना करते हैं।
और दुश्मनों को मार गिराते हैं !
ये नन्हे नन्हे खेल
बड़े बड़े कारनामे
झूठ होकर भी
बहुत सच होते है बालमुकुंद
कुछ कर दिखाने का प्रतीक होते हैं  ...

14 अगस्त, 2018

अकेलापन ही सही, इस खुद्दारी में अपना अर्थ नज़र आया ।



प्रेम एक ही बार होता है
या कई बार,
किताबी या फिल्मी बातों से इतर,
मैंने,
हाँ मैंने,
एक बार नहीं,
दो तीन बार प्यार किया ...
क्यूँ का क्या जवाब ?
और क्यूँ ?
किसे देना है जवाब ?
कौन व्याख्या करने की,
तराज़ू पर तौलने की सामर्थ्य रखता है !
यह मेरा मन जानता है,
और यह मन की स्वीकृति है
कि मैंने प्यार किया ।
जब भी किया,
सामनेवाला उसका सही पात्र नहीं निकला,
कहा जा सकता है,
मैं सही पात्र नहीं निकली ।
उसे शरीर की तलाश थी,
मुझे मन की !
यकीनन,
स्पर्श प्रेम का माध्यम है,
पर,
जहाँ मन नहीं,
वहाँ शरीर छल है,
न दर्द ,न ख़ुशी
कुछ भी नहीं ।
...
फिर, मैंने मन की तलाश से ख़ुद को विमुख कर लिया,
मेरे एकाकी क्षणों में ,
मैंने एक बार नहीं,
कई बार ख़ुद की व्याख्या की,
और जाना,
मेरा प्रेम कभी भी स्वार्थी नहीं हुआ,
यदि स्वार्थ प्रबल होता,
तो मैं सिर्फ शरीर हो सकती थी,
लेकिन मुझे मन होना रास आया,
अकेलापन ही सही,
इस खुद्दारी में अपना अर्थ नज़र आया ।



08 अगस्त, 2018

अपने व्यक्तित्व को पहचानो, ... वही तुम्हारी कृति है ।




शब्दों की गहरी नदी में उतरकर,
कुशल तैराक बनी मैं,
सोच रही हूँ -
मैं एक कृति - अपने माँ पापा की,
वे भावातिरेक में आए होंगे,
तभी तो ऊँगली थमाकर मुझे कहा,
आगे बढ़ो ...
मैं बढ़ती गई,
अपने भीतर कुछ न कुछ गढ़ती गई,
स्तब्ध होती गई,
कितना कुछ छूटा,
कितना कुछ टूटा,
बेवजह कुछ जुड़ गया,
तार तार हुई मैं,
जार जार रोई,
कई संकल्प उठाये,
कई महत्वपूर्ण किनारे छोड़े,
मझदार को अपना विकल्प बनाया,
प्रश्नों के कटघरे में कहा एक दिन,
जवाब देना छोड़ो,
किसी जवाब से कुछ नहीं होगा ।
जो तुम्हारा है,
वह जवाबतलब करेगा नहीं,
और जो नहीं है,
वह किसी जवाब से संतुष्ट होगा नहीं ।
प्रश्नकर्ता की एक सनक होती है,
उसे मात देना होता है,
वह किसी भी स्तर पर उतरकर देगा ।
व्यर्थ की परेशानियों से खुद को मुक्त करो,
आँसुओं की नदी में निराधार बहने से बेहतर है,
अपने व्यक्तित्व को पहचानो,
... वही तुम्हारी कृति है ।
शैतान खुद को नहीं बदलता,
तो तुम किस परिवर्तन का संकल्प ले रहे ?
बाड़ का निर्माण करो,
बहुत ज़रूरी है खुद को सुरक्षित रखना,
न बुद्ध होने के ख्वाब देखो,
न यशोधरा बनने की चाह,
जो है,
उसे सम्भालकर रखो ...

हादसे स्तब्ध हैं

हादसे स्तब्ध हैं, ... हमने ऐसा तो नहीं चाहा था ! घर-घर दहशत में है, एक एक सांस में रुकावट सी है, दबे स्वर,ऊंचे स्वर में दादी,ना...