23 नवंबर, 2018

पुरुष/स्त्री



पुरुष यानी घर,
ठीक उसी तरह-
जैसे एक स्त्री आँगन ।
ऐसा नहीं कि स्त्री ने बाह्य संघर्ष नहीं किया,
पति की सुरक्षा नहीं की,
परन्तु,
पुरुष शरीर से शक्तिशाली था,
मन की कमजोरियों को,
उसने आंखों से बहने नहीं दिया,
तार तार होकर भी,
वह बना रहा ढाल,
ताकि स्त्री बनी रहे अन्नपूर्णा ।
पुरुष ने मिट्टी का दीया बनाया,
कि स्त्री भर सके उसमें रोशनी ,
अंधेरे से लड़ सके ...!
किसी भी बात की अति,
व्यक्ति को अत्याचारी
या निरीह बनाती है,
और वही होने लगा ।
पुरुष आक्रामक हो उठा,
स्त्री असहाय,
जबकि दोनों के भीतर रही जीवनदायिनी शक्ति,
दोनों थे पूरक,
लेकिन दोनों स्वयंसिद्धा बन गए,
एक दूसरे को नकार दिया,
भविष्य का पुरुष,
भविष्य की स्त्री ,
दोनों उग्र हो उठे,
परिवार,समाज से अलग
उनका एकल वर्चस्व हो,
इस कल्पनातीत इच्छा के आगे,
उनकी अद्भुत क्षमताएँ
क्षीण होने लगीं ।
प्रेम दोनों के आगे 
फूट फूटकर रो उठा,
घर का कोना कोना सिहरकर पूछने लगा,
कहाँ गया वह पुरुष
और वह स्त्री,
जिनसे मेरा वजूद था,
बचपन की मासूमियत थी,
बिना किसी तर्क के
पर्व-त्योहार थे, 
मेजबान और मेहमान थे ...
अब तो एक ही सवाल है,
इतना सन्नाटा क्यों है भाई,
या फिर है खीझ,
"ये कौन शोर कर रहा है" 
!!!

18 नवंबर, 2018

मन न भए दस बीस

 शरतचन्द्र का लिखा "देवदास" मेरी पहली किताब थी, जिसे मैंने डूबकर पढ़ा, और मेरा पूरा वजूद पारो' बन गया, कल्पनालोक की सीढियां उतरती पानी भरती, दौड़ती एक पुकार के साथ...देवदास$$$$ ।
फिर मेरी ज़िंदगी में आई शिवानी की "कृष्णकली" और मेरा एकांत शोख़ी से प्रवीर से बातें करने लगा ... "सुनो, यह तुम्हारी कुन्नी की साड़ी नहीं है"...
कृष्णकली की गली से निकली तो सामने खड़ा था "न हन्यते" का मिर्चा ...और अमृता बनकर मैं उससे मिलने गई । काश, मिर्चा देखता, लेकिन उससे क्या, अमृता की आहट से उसने वर्षों बाद भी उसे देख लिया ।
उम्र के साथ कहानियों का जो पड़ाव मिला हो, पात्रों में कहीं न कहीं समानता थी, शायद इसे ही कहते हैं पुनरावृति का आकर्षण, भविष्य का अद्भुत हस्ताक्षर ।
शिवाजी सामन्त की पुस्तक "मृत्युंजय" जब हाथ में आई तो कर्ण मेरी नसों में पुनः प्रवाहित होने लगा, दिनकर की "रश्मिरथी",लोगों की ज़ुबानी कहानी, सीरियल, इन सबसे एक बीजारोपण तो हो ही चुका था ।
इनदिनों, मैं एक तरफ वृंदावन में राधेकृष्ण सी चित्रित हो गई हूँ तो दूसरी तरफ कर्णसंगिनी बन कर्ण के अपमान, धैर्य की पराकाष्ठा देख रही हूँ । रसखान की पंक्तियों को गुनते हुए लगता है,"आठहुँ सिद्धि नवोनिधि को सुख नन्द की गाय चराय बिसारो"
सूरदास की कलम में उतरकर गोपिकाओं का हृदय बांचती हूँ -
"ऊधौ मन न भए दस बीस। एक हुतौ सो गयौ स्याम सँग, को अवराधै ईस।। इंद्री सिथिल भई केसव बिनु, ज्यौ देही बिनु सीस। आसा लागि रहति तन स्वासा, जीवहिं कोटि बरीस।। तुम तौ सखा स्याम सुंदर के, सकल जोग के ईस। ‘सूर’ हमारै नंदनँदन बिनु, और नाहिं जगदीस।।"

 कृष्ण का प्रयोजन कृष्ण ही जानें ।




10 नवंबर, 2018

स्मृति कह लो या आत्मा



वह नहीं है,
तो फिर,
जब किसी पदचाप को सुनके
किसी के गुजरने का एहसास होता है,
उसे क्या कहेंगे ?
आत्मा !
जिसे भय से,
हम भूत मान लेते हैं ।
दरअसल यह भूत,
अतीत है !
पर, हम डरने लगे,
डराने लगे,
तर्पण अर्पण,
झाड़फूंक करवाने लगे ...
यदि तर्पण अर्पण हो ही जाता है,
तो आत्मा कहाँ जाती है ?
किसी दूसरे शरीर में रूप पा लेती है,
फिर दिखाई क्यूँ देती है ?
और यदि नहीं पाया दूसरा शरीर,
तब तो तर्पण अर्पण अर्थहीन हो गया !
अगर आत्मा हमारे बीच ही रहना चाहती है,
तो रहने देते हैं न ।
क्यूँ स्मृतियों के गले लग
हम रोते भी हैं,
ढेरों कहानियाँ सुनाते हैं,
"काश,वह होता/होती" जैसी बातें करते हैं,
और उसे दूर भी करना चाहते हैं ।
आत्मा अमर है,
तभी तो,
राम,कृष्ण,रावण,कर्ण...
कुंती,सीता,द्रौपदी,गांधारी...
ये सब हमारे बीच आज भी हैं ।
ये हमारा व्यक्तिगत साक्षात्कार है उनसे,
जो हम अपने नज़रिए से,
उनकी व्याख्या करते हैं ।
इसी तरह पूर्वज हैं,
नहीं होते तो पितृ पक्ष का कोई अर्थ नहीं होता,
नदी,समंदर में खंडित दिखाई देते देवी देवता,
पुनः उपस्थित नहीं होते,
आशीषों से नहीं नहलाते ।
वे हैं -
अब इन सबको स्मृति कह लो
या आत्मा ।।।

गौर कीजियेगा

प्रेम विवाह हो या तय की गई शादी या कोई भी रिश्ता, अनबन की वजहें प्रायः वह नहीं होतीं, जो उनकी लड़ाई में दिखाई देती हैं, या शब्दों ...