29 अक्तूबर, 2007

कागज़ की नाव




बड़ी लम्बी, गहरी नदी है..
पार जाना है...
तुम्हे भी, मुझे भी...
नाव तुम्हारे पास भी नहीं,
नाव मेरे पास भी नहीं...
जिम्मेदारियों का सामान बहुत है...
बंधू,
बनाते हैं एक कागज़ की नाव...
अपने-अपने नाम को उसमे डालते हैं॥
देखें,
कहाँ तक लहरें ले जाती हैं...
कहाँ डगमगाती है कागज़ की नाव...
और कहाँ जा कर डूबती है!
निराशा कहाँ है?
किस बात में है?
कागज़ की नाव को तो डूबना ही है...
पर जब तक न डूबे...
देखते-देखते वक़्त तो गुज़र जायेगा...
और जब डूबे...
तो दो नाम एक साथ होंगे....

12 टिप्‍पणियां:

  1. ye daulat bhi le lo,
    ye sohrat bhi le lo,
    bhale chhin lo mujhe se meri jawani
    magar mujhko lauta do,
    bachpan ka sagar
    ye kagaj ke kashti
    wo barish ka pani..............



    di..........ye maine nahi Jagjeet singh ne likha hai............[:P]

    उत्तर देंहटाएं
  2. बंधू,
    बनाते हैं एक कागज़ की नाव...
    अपने-अपने नाम को उसमे डालते हैं॥
    देखें,
    कहाँ तक लहरें ले जाती हैं...
    कहाँ डगमगाती है कागज़ की नाव...

    बहुत सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  3. रचना में सारे सकारात्मक विकल्प खुले है.जीवन की हर घटना को इसी सकारात्मक -भाव से देखें तो............ दुःख काहे को होय

    उत्तर देंहटाएं
  4. कल 13/12/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. ारुन जी ने सही कहा। सुन्दर रचना। शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  6. aur jab dube..
    to do naam sath sath honge....

    in shabdon ne sabhi bhawon ko samet liya...

    उत्तर देंहटाएं
  7. देखते-देखते वक़्त तो गुज़र जायेगा...
    और जब डूबे...
    तो दो नाम एक साथ होंगे....
    सहजीविता का यह भाव तो भले ही एक पल की उम्र लिए हो भव सागर पार करा सकता है

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर रचना दी... वाह!
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  9. जब जिंदगी कि विडंबनाओं से पार पाने की कोशिशें जरूरी हो जाती हैं तो किसी का साथ कुछ हद तक कोशिशों को आसान तो कर ही देता है !

    सुंदर रचना !

    उत्तर देंहटाएं

  10. सुंदर प्रस्तुति...
    मुझे आप को सुचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी का लिंक 05-07-2013 यानी आने वाले शुकरवार की नई पुरानी हलचल पर भी है...
    आप भी इस हलचल में शामिल होकर इस की शोभा बढ़ाएं तथा इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और नयी पुरानी हलचल को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी हलचल में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान और रचनाकारोम का मनोबल बढ़ाएगी...
    मिलते हैं फिर शुकरवार को आप की इस रचना के साथ।



    जय हिंद जय भारत...


    मन का मंथन... मेरे विचारों कादर्पण...

    उत्तर देंहटाएं
  11. शुभ प्रभात दीदी
    पुराना और खुशबूदार चाँवल
    की मानिंद प्यारी और पसंदीदा रचना

    सादर

    उत्तर देंहटाएं

अक्षम्य अपराध

उसने मुझे गाली दी .... क्यों? उसने मुझे थप्पड़ मारा ... क्यों ? उसने मुझे खाने नहीं दिया ... क्यों ? उसने उसने उसने क्यों क्यों ...