03 जनवरी, 2009

आप क्या कहना चाहेंगे ?


मैं एक सच्चा वाक्या प्रस्तुत करती हूँ आपके आगे - देश के ऐसे नागरिकों को क्या आप संवेदनशील कहेंगे ? क्या यह होती है देश के प्रति निष्ठा? हाँ , बातें हैं देश के लिए ही !.......
मेरा बेटा, ( जो एक आर्मी ऑफिसर है ) - ट्रेन से अपने लोकेशन पर जा रहा था। उसी कम्पार्टमेंट में एक महाशय एक लड़की पर प्रभाव जमाते हुए जोश में कह रहे थे - जवाब देना है, हमें हाथ-पर-हाथ रखकर नही बैठना है! मैं चाहता हूँ युद्ध हो, मैं अनुभव करना चाहता हूँ......... बहुत देर से उनकी बातें सुन रहा था मेरा बेटा, अनुभव की बात पर उसने पूछा - "क्या आपके घर का कोई सदस्य फौज में है?" उन्होंने कहा - 'नही'। मेरे बेटे ने कहा - 'फिर? फिर आप क्या अनुभव कर पाएँगे और किस मायने में? पहले अपने घर से किसी को देश की सुरक्षा में भेजें , फिर ऐसी बात कहें..........!!!'

वो महापुरुष थोड़ा रुके और फिर अपना प्रश्न दागा - 'आप क्या करते हैं?' बड़े फक्र से मेरे बेटे ने कहा - 'मैं फौज में हूँ, मैं एक आर्मी ऑफिसर हूँ!'

उन्होंने तो चुप्पी साध ली, पर आप कहिये - क्या यह कोई टाइम पास मसला है, या कोई बौद्धिक अनुभव?

35 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सरीक . कई जगह पर ऐसे फाकू उस्ताजो से पाला पड़ जाता है . धन्यवाद्

    उत्तर देंहटाएं
  2. सबसे पहले तो हमें फक्र है -- म्रगंक एक फौजी है ...
    फक्र है आप पर -- आप उसकी माँ और हमारी दीदी है ...

    बौधिक अनुभव --- कितने लोग समझते है इसे ? देश मैं कोई आतंकवादी हमला होता है तो २-३ दिन हल्ला मचाते है लोग ... फिर सब अपने में मस्त ... अगर आज देश हर घर से १ व्यक्ति को फौज में भरती करने लगे तो कोई युद्ध नहीं चाहेंगा... आज आर्मी related फिल्म आती है.. देखने सब जाते है, वाह वाह करते है... जय हिंद और न जाने क्या क्या...( में भी इन सब में शामिल हु) पर उस बात को अनुभव कितने कर पाते है ? कहना और करना ..और सिर्फ कहना ही कहना ... बहोत फरक है दोनों में ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. निश्चित ही आप जो कह रही है वो सही है... आज हमे आवश्यकता है की हर एक नागरिक अपनी जिम्मेदारी को समझकर अपने सामर्थ के अनुसार काम करे. हम जो भी करे उसमे देश हित की भावना हो... तब हम कह सकते है हम भारतीय है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सच है की हम चाहते हैं युद्ध हो भी तो भी अब उत्तर देने का समय आ गया है | किन्तु यह राय देने से पहले हमें अपना योगदान निर्धारित करना होगा | हम हमारे देश को बदला लेने के लिए क्या देने जा रहे हैं केवल शब्द? तब तो भारत के पास भिन्न भाषाओँ के सेंकडों शब्द कोष हैं माँ भारती अब उस से बहुत कुछ मांगती है - जय हिंद

    उत्तर देंहटाएं
  5. palo ki khata sadiya bhugtati hain...
    yudh kisi masle ka hal nahin hai.
    yadi thopa jaye to ladna to hai hi samman ke atam samman swabhimaan. bhi kuch hota hai ki nahi.
    Waise Itihaas bhi gawah hai hai yudh se kabhi masle hal nhi hua.
    Live n let live.
    Rahi tym pass ki baat wo humare mahaan desh mein 80% logo ko koi kaam nhi na hi unke paas dimaag hai kuch achcha sochne ka.
    siway Bhagwan aur sarkaar ko dosh dene ke...
    unse poochha jaaye ki unhone bhagwan sarkaar ya desh ke liye aaj tak kya kiya hai aur kya kar sakte hain....?????

    उत्तर देंहटाएं
  6. जख्मी हूं क्यूंकि मैं भी तेरे जैसा जिस्म और नाम रखता हूं
    ईमान कि बात मत करो,मैं देश के लिए अपनी जान रखता हूं
    माँ का आँचल,बहन का प्यार रखता हूं ,किसी कि नज़रों का
    वो सुना-सुना इंतज़ार रखता हूं

    अब बोलो तुम ज़रा क्या यही खता है मेरी आज
    तेरे लिए सब छोड़ आया,अब दिल में छुपाकर अपना छोटा सा
    परिवार रखता हूं
    तुझसे मिले ना मिले वो प्यार ,दिल में नही कोई सवाल रखता हूं
    मैं तेरा ख़्याल रखता हूं बस यही एक अधिकार रखता हूं

    मैं किन-किन की नज़रों में व्यापार करता हूं ?
    तो सुनिए हाँ ये सच है कि मैं व्यापार करता हूं
    तेरे लिए, देश के लिए अपनी खुशियों ,अपने सपनो का
    बहिष्कार करता हूं
    और तेरी हिफाज़त के लिए एक बन्दूक,एक खंज़र,
    एक तलवार रखता हूं
    ये सच है मैं जानता हूं कि तुम मेरी कीमत नही जानोगे फिर भी
    तेरे कदमो में अपनी माँ से मिला वो आशीर्वाद,वो प्यार रखता हूं
    मैं बस यही व्यापार करता हूं,दिल मैं नही कोई सवाल रखता हूँ
    हाँ तेरी हिफाज़त के लिए एक बन्दूक,एक खंज़र,
    एक तलवार रखता हूं
    ये कविता मेरे बड़े भाई को समर्पित आप उन्हें ये जरूर पढाना.......
    यहाँ पर तमाशा देखने वाले बहुत हैं.......तालियाँ बजाने वाले भी बहुत हैं.......दुःख बटने वाले प्यार बाटने वाले अमन और शान्ति फेलाने वाले बहुत कम भाई ने सही जवाब दिया.......अच्छा लगा की आपने ये बात सबके सामने रखी.......... आपका शेतानु


    अक्षय-मन

    उत्तर देंहटाएं
  7. मैंने भी मेरे ब्लॉग पर इस बारेमे लिखा है..की सब लोग बोल रहे थे जब मुंबई में हुवा तब की अपने सिपाही कुछ नहीं कर रहे है..मैंने मेरे घर में मेरे पतीमहोदय से ही कहा था की घर के खानेके टेबल पे रोटी सब्जी खाते खाते ये बात करनी आसन है...वो लोग वहा काम कर रहे है उनको कुछ भी कहेने का आपको कोई हक्क नहीं है..
    और ये ही बात सही है...हम सब को यहाँ बाते बनानी आती है..वो माँ की हालत सोचिये जो अपने बेटे को जिसका अंत मालूम नहीं है उनको भेज रही है..हम तो एक ट्रेन को आने में देरी होती है तो सरकार की गलतिया ढूंढ़ते है..किसीको कुछ भी बोलने का हक्क नहीं है...
    बहोत सही कहा आपके बेटे ne..और आपके बेटे को सलाम है मेरा और आपको वंदन..

    उत्तर देंहटाएं
  8. na to yeh time pass masla hai aur na hi bodhik
    yeh to byikyti ke aatma hai jo dheere mar rahi hai
    na sochne ki shakti na smjhane ki.................................................................??????????????????

    उत्तर देंहटाएं
  9. धन्य हैं आप जिसका ऐसा हीरे सा बेटा है...बहुत सही सवाल किया उसने...इश्वर उसे हमेशा स्वस्थ और खुश रखे...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  10. आप का सवाल बिलकुल उचित है,ओर हमे खम्खां मै भी ऊंची ऊंची नही छोडनी चाहिये, लेकिन जब जनता का कोई भी अपना मरता है किसी हादसो मै, जो बिलकुल निर्दोष होता है तो उस ओर परिवार को दर्द होता है, ओर एक आम आदमी चिल्लाने के सिवाया ओर कर भी क्या सकता है, लेकिन जो वाक्या आप ने बताया, यहां यह बात गलत है.
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  11. Didi Shekhchilli ka naam to aapne suna hi hoga. jake pair na fate biwai so ka jane pir parai.

    उत्तर देंहटाएं
  12. नववर्ष की शुभकामनाएँ।
    आपको व आपके बेटे को हमारा धन्यवाद । आज जो कुछ सुरक्षित हम महसूस कर रहे हैं वह इन्हीं के कारण कर रहे हैं। भारत के साथ जो देश आजाद हुए वहाँ की और भारत की सेना में जमीन आसमान का अन्तर है। बोलना बहुत सरल है, वे करते हैं,, जब जरूरत होती है, हम बोलते हैं जरूरत हो या न हो।
    घुघूती बासूती

    उत्तर देंहटाएं
  13. जो मुंह में बर्फ रखने में सक्षम नहीं वह उस ठंक का एहसास भी नहीं कर सकता रश्मि प्रभा जी। जिस तरह बारिश की हर बूंद सूखी जमीन का तृप्त करती है। उसका एहसास हमें खुशी देता है, उमंग पैदा करता है। वह अनमोल होती है। वैसे ही आपका बेटा फौज में है, वह और आप सही मायने में उस सेवाभाव को निकटता से महसूस कर सकते हैं। समझ सकते हैं। डींगे हांकना तो आसान है, शायद टे्रन वाले भाईसाहब को बॉर्डर पर खड़ा भी कर दिया जाए, तो उनकी सांसे वहीं पूरी हो जाएं। लेकिन अच्छा लगा, क्योंकि मेरे परिवार में फौज का ताल्लुक रहा है। मेरे चाचा करगिल लड़ाई में शहीद हुए थे। वह जज्बा, जोश महसूस कर सकते हैं। थोड़ा ही सही। पर आपके बेटे को सलाम।

    आपको व आपके बेटे को नववर्ष की शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. कोई फौज में जाना नही चाहता, लेकिन युद्ध की बात पर सभी फड़कने लगते हैं| क्या कहें यही सच्चाई है समाज की|

    उत्तर देंहटाएं
  15. मुझे ये जान कर बहुत खुशी हुआ की आप एक फोज की माँ है! और उसने बहुत ही सही जबाब दिया!

    उत्तर देंहटाएं
  16. विहार की अमूल्य धरती किसी परिचय की मोहताज नही है । और उससे भी कही पन्त जी परिचय के मोहताज नही है । आपने जो लिखा है उससे तो पता चलता है कि आपको कविताई सोच विरासत में मिली है । जिसकी बानगी आपने बखूबी पेश किया है । अच्छा लगा । एक बार मेरे और जरूर झांकना । आपको धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  17. बौद्धिक स्तर पर तो मैं नही जानती की क्या कहूं?
    चूंकि मेरे बड़े भाई वायु सेना में थे, कारगिल युद्ध के
    समय, वे गुजरात के कच्छ क्षेत्र में नलिया स्टेशन
    पर पोस्टेड थे. तब जो अनुभव मैंने या मेरे परिवार
    ने किए, वे यही कहते हैं की युद्ध से विनाश ही होता
    है, और जहाँ तक उन महाशय के अनुभव की बात है,
    तो ये कहूँगी, 'अनुभव' युद्ध में जाकर करें, और अपने
    स्वजनों को भी कराएं, तभी उनका 'अनुभव' पूर्ण होगा!

    उत्तर देंहटाएं
  18. वाकई ये बात सिर्फ़ बौधिक सुख की नही है और वो शख्स इसे कैसे अनुभव कर सकता है ,इन लोगों को सिर्फ़ बात करने केलिए वजह चाहिए,
    वाकई आपको अपने ऊपर फक्र होनी चाहिए एक आप एक फौजी ऑफिसर की माँ हैं...

    आपको ढेरो बधाई और नव वर्ष की मंगलकामनाएं

    जी ग़ज़ल में ढूँढने के क्रम में उसके खुशबु की चर्चा करी है मैंने .. आप मेरे ब्लॉग पे आई आपका ढेरो स्वागत है आपका स्नेह परस्पर मिले यही उम्मीद करूँगा ....

    अर्श

    उत्तर देंहटाएं
  19. ये एक ज्वलंत मसला है इस समय, युद्ध होना चाहिए या नहीं.. हर कोई अपनी अपनी भावना के अनुरूप ही अपने विचार व्यक्त करता है.. हर किसी के अन्दर गुस्सा है ये तो तय है पर ये भी सच है कि हर कोई युद्ध चाहता भी नहीं है..! युद्ध होने को तो हफ्ते या महीने भर का ही होगा पर उसका परिणाम महीने दो महीने या साल भर नहीं बल्कि जाने कितनी सदियाँ भुगतती हैं..
    जो इंसान सरहद पर देश कि सुरक्षा में बैठा है अपना घर परिवार छोड़ कर.. उसे ज्यादा सही पाता होता है कि युद्ध के बाद क्या होता है.. ?? हम लोगो को क्या है? मुह से बोलना ही तो है, बोल दिया कि अब तो युद्ध होना चाहिए.. क्यूँ कि अब हर महीने कहीं ना कही बम ब्लास्ट हो ही रहा है.. नए साल की शुरुआत ही इस खाणार से हुयी कि असम में तीन जगह बम ब्लास्ट हुआ.. तो ये सब देख कर यही लगता है कि अब रोज-रोज के मरने से अच्छा है की एक बार में ही मर जाये हम..
    पर इस बार जो भी हो ऐसा हो कि फिर कभी युद्ध कि जरुरत ही ना पड़े.. मुझे पाता है ना युद्ध होगा ना हमले फूकेंगे.. सब कुछ ऐसा ही चलता रहेगा.. जो जनता अफजल के फांसी टलने को इतने सालों से हजम किये बैठी है चुपचाप, वो फिर से खामोश हो जायेगी.. क्यूँ?
    क्यूँ कि आजकल किसी के पास खुद के लिए वक़्त नहीं है तो देश के लिए कहाँ से आएगा?

    उत्तर देंहटाएं
  20. रश्मी जी मैने आपका सत्य वाकया पढ़ा, वास्तव में अगंभीर लोगों की यह निशानी है ॰॰॰॰ इस को पढ़ने के बाद मुझे प्रतिक्रिया स्वरुप यह पंक्ति बनाने को मजबूर होना पड़ा है॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰

    बदल गया है वक्त अब मानव का कारवां भटक गया है
    चाहत में अब मजा नहीं द्वेषचक्र में इंसा फंस गया है

    >>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>विनोद बिस्सा

    उत्तर देंहटाएं
  21. लोग दूसरे के मामले में ज्यादा एक्सपर्ट होते हैं। जो फ़ौज में नहीं है वह फ़ौज के बारे में ज्यादा बयान देता है।

    उत्तर देंहटाएं
  22. Respected Rashmi ji,
    Yah to un mahashaya ke ooper seedha tamacha hai.jo apnee bevakoofee bharee baten train men kar rahe the.
    Sath hee ye apke liye ,samaj ke liye garv kee bat ki ap ek army officer kee man hain.
    Poonam

    उत्तर देंहटाएं
  23. जिसने आर्मी लाइफ को जीया नही वह क्या जानेगा .:) बढ़िया पकड़ा

    उत्तर देंहटाएं
  24. रश्‍मि जी जानकर खुशी हुई आपका बेटा आर्मी में है मेरा सस्‍नेह नमन है देश के वीर को और
    आपको भी ...!

    उत्तर देंहटाएं
  25. आदरणीय रश्मि जी
    बहुत ही अच्छी पोस्ट के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद.
    नव वर्ष मंगल मय हो !

    सादर


    द्विजेन्द्र द्विज

    उत्तर देंहटाएं
  26. आदरणीय रश्मि जी

    बहुत ही अछी पोस्ट के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद.
    नव वर्ष मंगल मय हो !
    सादर

    द्विजेन्द्र द्विज

    उत्तर देंहटाएं
  27. जिसके पैर ना फटे बेवाई, वो क्या जाने पीर पराई ।

    उत्तर देंहटाएं
  28. रश्मि प्रभा की
    रश्मि की प्रभा
    रूपी
    देश के रक्षक
    को शत नमन
    --------------
    ऐसे वीरों
    और सपूतों की
    बदौलत है
    देश में अमन

    उत्तर देंहटाएं
  29. अतिसुन्दर प्रस्तुति, साधुवाद !! मेरे ''यदुकुल'' पर आपका स्वागत है....

    उत्तर देंहटाएं
  30. FIRST I FEEL SORRY I DIDNOT ABLE TO TYPE MY VIEWS IN HINDI, REALLY I M SO SORRY FOR THAT AND TRYING TO LEARN HINDI TYPING,
    I M AGREE WITH YOUR SON SAYING THAT SIRF BATEE KARNE SEE KUCH NAHI HOGA,

    AISEE HEE MERE KOO UN LOGO SEE KAFI DER THAK LARAI KARNI PARTI HAI, JO BOLTEE HAI KEE INDIA ME COROUPTION KAFI HAI BINA PAISE DIYEE KOI KAM NAHI HOGA,TAB MEE UNKO BOLTA HOO KE AGAR TUM PAISE DENA TOO BAND KAROO APNEE APP HE HO JAYEGEE,
    DAILY USE MEE HEE LOG ITNA CORRUPTION DE DETEE HAI KEE JAISE ROAD KOO SAFF KARNE WALEE KOO GOVT SEE SALREY MILTI HAI, FIR USEE UM KUCH MONEY KYO BOLTEE HAI KEE LEE LO ORR JARA JYADA SAFI KAR DO,THIS IS OUR RIGHT TO SAY HIM TO WORK PROPRELY, MANY OTHER CASE LIKE POST MAN ON DEWALI, SALES TAX PERSONS,TELEPHONE LINE MAN ETC

    AGAR HUM STICK HO FIR YEE APNEE APP HE BAND HO JAYEGEE, SIRF BOLNE SEE NAHI HOTA KEE DESH KA KUCH NAHI HO SAKTA, YEE DESH HAMARA HAI ORR HUME HE ISEE THEEK KARNA HAI, SO 99.9% I NEVER GIVE BRIBE TO ANY ONE CHAIYE MERE WORK KITNA BHEE LATE KYO NA HOO JAYEE,

    THE TRUTH IS MY LIFE MOTIVE AND ALWYS TRY TO BE WITH TRUTH

    उत्तर देंहटाएं
  31. hmm sahch kahti hai aap
    anubhav ghar baithe nahi hota
    jiska koi apna nahi ho wo nahi jaanta ki yudh hai kya kya nuksaan hota hai
    bahut achha jawaab diya aapke bete ne

    उत्तर देंहटाएं
  32. आपकी यह पोस्ट पढ़कर मुनव्वर राना का एक शेर बहुत याद आया :


    " चलो चलते हैँ मिल-जुलकर वतन पर जान देते हैं

    बहुत आसान है कमरे में वन्दे मातरम कहना "

    उत्तर देंहटाएं
  33. Sabse pahle me us bete ki maa hone par aapko badhai deta hu, Aapne dridhnishchay kar apne bete ko desh ki seva karne ke liye samarpit kiya jiske liye pura desh aapka aabhari hain aur aajeevan rahega,
    Rahi baat yuddh ki to yah ek jwalant masla hain desh ke har naagrik ke liye, ki yuddh hona chahiye ki nahi, ye baat jarur kahunga ki gandhiji ke kathnanusaar to aaj ke samay me desh ko chalaa nahin sakte ki koi ek gaal par maare to dusra bhi aage kijiye,
    Dushmano ko sabak sikhana hi chahiye nahi to ek din hum apne desh me alpsankhyak bankar ghoom rahe honge,
    Agar yuddh hi antim vikalp hota ho to jaroor karna chahiye aur mujhe fakr hain apne fouji bhaiyon par ki unhe sirf ek ishaara milne ki deri bhar hai, 101 ghante me dushman to apne pairo tale rond dalenge.
    Magar haan, ye ek bahas ka mudda nahi hona chahiye, atisamvedansheel muddo ko iss tarah ki bewaqt mulakaton me nahi uchaalna chahiye,
    Agar chote muh badi baat kar di ho to maaf kijiyega,
    Aapke javaad ki pratiksha me,
    Dilip Gour
    Gandhidham

    उत्तर देंहटाएं
  34. mrigank ki ye baat chu gayi man ko. bahut sahi baat kari usne.apne gharon mei baith ke sab bhashan dete hain, magar jo yudh ki seema per ho usae hi pata hai ki yudh kya hota hai......aur us maa ko bhi salaam jisne apne tukdae ko army join kerne se nahi roka......
    yoon to her maa ko apne bete se behad lagav hota hai, magar mrigank tumhare liyae kya hai, mujhae pata hai........

    उत्तर देंहटाएं
  35. Your blog keeps getting better and better! Your older articles are not as good as newer ones you have a lot more creativity and originality now keep it up!

    उत्तर देंहटाएं

शीशम में शीशम सी यादें

छोड़ कैसे दूँ उस छोटे से कमरे में जाना जहाँ पुरानी शीशम की आलमारी रखी है धूल भले ही जम जाए जंग नहीं लगती उसमें  ... ! न उसमे...