14 जून, 2013

यात्रा जारी है


धरती,आकाश के दराजों से 
हमेशा मैंने आशीष,दुआओं के
अनमोल,दुर्लभ 
चाभीवाले खिलौने निकाले हैं 
ताकि चेहरे की मुस्कान में क्षितिज नज़र आये 
जिसे जो भी देखे - दूर से देखे 
पास जाकर नफ़रत का आगाज़ न कर पाये 
.........
नफरत से चेहरे की कोमलता खत्म हो जाती है 
बचपन रूठ जाता है 
बात बात पर ज़ुबान से कटु बोल निकलते हैं 
जिनसे कोई रिश्ता नहीं पनपता 
हाँ - संजोये एहसास विकृत हो जाते हैं !!
......
जीवन में मैंने ख़ामोशी के अस्त्र-शस्त्र इसलिए नहीं उठाये 
कि मैं कमज़ोर थी 
दुर्गा के नौ रूप तो मेरा अस्तित्व हैं 
पर मातृ रूप को मैंने विशेष बनाया 
संहार किया प्रश्नों का निरुत्तर होकर ...
रक्तपात मेरे सपनों का उज्जवल भविष्य नहीं हो सकता था  
तो स्वयं को निर्विकार समझौते की कीलो से 
सामयिक यात्रा की सलीब पर चढ़ा दिया !
अदृश्य रक्त धरती को सिंचते गए 
वाष्पित हो आकाश को छूते गए 
सिलसिला जारी रहा ...

तारों के टिमटिमाते गीत यूँ ही नहीं मिले हैं मुझे 
ये तो उन खिलौनों का कमाल है 
जिसमें चाभी भरकर 
बच्चों के संग बच्चा बन मैंने भी तालियाँ बजाई हैं 
 !!! 
चाँद को मैं आज भी मामा कहती हूँ 
चरखा चलाती अम्मा के अनुभव सुनती हूँ 
अनुभवों की चाशनी बना खीर में डालती हूँ 
हौसलों के स्रोत को भोग लगाती हूँ 
खामोश धागों के कमाल पर आगे की यात्रा करती हूँ !!!

37 टिप्‍पणियां:

  1. इसी सिर्फ एक रचना नहीं कहा जा सकता। सच कहूं तो ये जीवन दर्शन है। जिसे पढ़कर अंश मात्र भी हम अपनाएं तो शायद जीवन को सार्थक और खुलहाल बना सकें। बहुत सुंदर


    नफरत से चेहरे की कोमलता खत्म हो जाती है
    बचपन रूठ जाता है
    बात बात पर ज़ुबान से कटु बोल निकलते हैं
    जिनसे कोई रिश्ता नहीं पनपता
    हाँ - संजोये एहसास विकृत हो जाते हैं !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. इसी सिर्फ एक रचना नहीं कहा जा सकता। सच कहूं तो ये जीवन दर्शन है। जिसे पढ़कर अंश मात्र भी हम अपनाएं तो शायद जीवन को सार्थक और खुलहाल बना सकें। बहुत सुंदर


    नफरत से चेहरे की कोमलता खत्म हो जाती है
    बचपन रूठ जाता है
    बात बात पर ज़ुबान से कटु बोल निकलते हैं
    जिनसे कोई रिश्ता नहीं पनपता
    हाँ - संजोये एहसास विकृत हो जाते हैं !!इसी सिर्फ एक रचना नहीं कहा जा सकता। सच कहूं तो ये जीवन दर्शन है। जिसे पढ़कर अंश मात्र भी हम अपनाएं तो शायद जीवन को सार्थक और खुलहाल बना सकें। बहुत सुंदर


    नफरत से चेहरे की कोमलता खत्म हो जाती है
    बचपन रूठ जाता है
    बात बात पर ज़ुबान से कटु बोल निकलते हैं
    जिनसे कोई रिश्ता नहीं पनपता
    हाँ - संजोये एहसास विकृत हो जाते हैं !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. अनहद नाद सी ......ईश्वरीय है ये रचना ....!!
    आप की सोच को नमन दी ....!!आपकी लेखनी को नमन ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. .
    .बेहतरीन अभिव्यक्ति आभार . सब पाखंड घोर पाखंड मात्र पाखंड
    आप भी जानें संपत्ति का अधिकार -४.नारी ब्लोगर्स के लिए एक नयी शुरुआत आप भी जुड़ें WOMAN ABOUT MAN क्या क़र्ज़ अदा कर पाओगे?

    उत्तर देंहटाएं
  5. बड़ी गहरी बातें सुन्दर शब्दों में व्यक्त कर दी हैं..बहुत ही सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  6. जेवण के अनुभव का निचोड़ है यह रचना .... और यात्रा तो अभी जारी है .... बहुत सुंदर और प्रेरक रचना

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सीखने के साथ
    धैर्य रखना भी सीख गई
    आपकी रचनाओं से ....
    सच्ची अभिव्यक्ती
    सादर
    हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  8.   बहुतही खुबसूरत अहसासो को गूंथ दिया रश्मि जी आपने ॥।

    उत्तर देंहटाएं
  9. खुबसूरत अहसास लिए ..सार्थक सन्देश देती आप की सुंदर रचना !
    बधाई और आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  10. खामोश धागों के कमाल पर आगे की यात्रा करती हूँ !!!
    shubhkamnaayen ....jivn ka satya ukerti rachna ....

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत बहुत सुन्दर है दी...
    धरती,आकाश के दराजों से
    हमेशा मैंने आशीष,दुआओं के
    अनमोल,दुर्लभ
    चाभीवाले खिलौने निकाले हैं
    ताकि चेहरे की मुस्कान में क्षितिज नज़र आये
    वाह!!!
    सादर नमन...

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार(15-6-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  13. जीवन में मैंने ख़ामोशी के अस्त्र-शस्त्र इसलिए नहीं उठाये
    कि मैं कमज़ोर थी
    दुर्गा के नौ रूप तो मेरा अस्तित्व हैं
    पर मातृ रूप को मैंने विशेष बनाया
    संहार किया प्रश्नों का निरुत्तर होकर ...-----

    जीवन के सारगर्भित सच को--
    जीवन दर्शन,आध्यात्म,अतीत और वर्तमान को गहन अनुभूतियों
    के माध्यम से रचना में व्यक्त किया है,
    यह रचना नहीं समूचा जीवन दर्शन है--
    सादर

    आग्रह है- पापा ---------

    उत्तर देंहटाएं
  14. नारी का यही रूप वन्दनीय है

    उत्तर देंहटाएं
  15. नफरत से चेहरे की कोमलता खत्म हो जाती है
    बचपन रूठ जाता है !!

    सरल शब्दों में स्वच्छ अभिव्यक्ति ..

    उत्तर देंहटाएं
  16. चाँद को मैं आज भी मामा कहती हूँ
    चरखा चलाती अम्मा के अनुभव सुनती हूँ
    अनुभवों की चाशनी बना खीर में डालती हूँ
    हौसलों के स्रोत को भोग लगाती हूँ
    खामोश धागों के कमाल पर आगे की यात्रा करती हूँ !!!

    और यही यात्रा सुखद है !
    सार्थक रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  17. इसी यात्रा में कई मील के पत्थर को भी तो लगाते जाना है.. ह्रदय को एक अलौकिक भाव से भर रही है ये यात्रा..

    उत्तर देंहटाएं
  18. सच है कि कुछ भी यूँ ही नहीं मिलता ...
    दर्शन और अध्यात्म आपकी कविताओं की पूँजी हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  19. आपकी इस कविता पर क्या टिप्पणी करूँ ...निशब्द हूँ बस ये ही कहूँगी ...यहाँ मेरे ही मन की बाते हैं ...जो मैं सोचती हूँ

    उत्तर देंहटाएं
  20. सिखाया तो यही गया है की दुश्मन से भी प्यार करो. कभी किसी से नफ़रत मत पालो. लेकिन ऐसा होता मुश्किल से.

    बहुत सुंदर भावपूर्ण प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  21. जीवन रात्र का निचोड़ है ... निरंरत चलती हई सी ... लाजवाब ...

    उत्तर देंहटाएं
  22. नफरत से चेहरे की कोमलता खत्म हो जाती है
    बचपन रूठ जाता है
    बात बात पर ज़ुबान से कटु बोल निकलते हैं
    जिनसे कोई रिश्ता नहीं पनपता
    हाँ - संजोये एहसास विकृत हो जाते हैं !!

    ....गहन जीवन दर्शन संजोये एक उत्कृष्ट रचना..हरेक पंक्ति एक सार्थक सन्देश देती हुई...

    उत्तर देंहटाएं
  23. सरल शब्दों में गहरी बात कह जाना तो कोई आप से सीखे ...:)बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत ही सुंदर अहसासो की खुबसूरत लाजबाब प्रस्तुति,रश्मि जी ,,

    RECENT POST: जिन्दगी,

    उत्तर देंहटाएं
  25. ..सार्थक सन्देश देती बहुत सुंदर भावपूर्ण प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  26. दुर्गा के नौ रूप तो मेरा अस्तित्व हैं
    पर मातृ रूप को मैंने विशेष बनाया
    संहार किया प्रश्नों का निरुत्तर होकर ...

    सच में माँ क्या कुछ नहीं करती ...
    सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  27. आपकी लेखनी पढ़कर हर बार निःशब्द हो जाती हूँ. जीवन को जानने और समझने के लिए जैसे एक और सूत्र हाथ लग जाए. बहुत बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  28. shayad ise padkhar main bhi kuch seekh sakun...kuch shakti prapt kar sakun....behad prernamayi rachna...aabhaar...

    उत्तर देंहटाएं
  29. जीवन के अनुभव ...उनसे उपजी परिस्थितियां ....ऐसे कई रास्तों से होकर गुज़रती हैं...पर इश्वर पर विश्वास और अपनी सहन शक्ति से हर राह कट जाती है ...बस वह विश्वास बनाये रखिये .....

    उत्तर देंहटाएं
  30. क्या बात है दीदी काफी दिनों से कुछ नहीं पेश किया.

    उत्तर देंहटाएं
  31. हमेशा की तरह एक और खुबसूरत भावना ...आभार दीदी

    उत्तर देंहटाएं
  32. जीवन में मैंने ख़ामोशी के अस्त्र-शस्त्र इसलिए नहीं उठाये
    कि मैं कमज़ोर थी
    दुर्गा के नौ रूप तो मेरा अस्तित्व हैं
    पर मातृ रूप को मैंने विशेष बनाया
    संहार किया प्रश्नों का निरुत्तर होकर .


    bahut khoob!

    उत्तर देंहटाएं

मृत्यु को जीने का प्रयास

मौत से जूझकर जो बच गया ... उसके खौफ, इत्मीनान, फिर खौफ को मैं महसूस करती हूँ ! कह सकती हूँ कि यह एहसास मैंने भोगा है एक हद तक ...