11 अप्रैल, 2014

किसे ?






एक लम्बी सी चिट्ठी लिखना चाहती हूँ 
बहुत कुछ लिखना चाहती हूँ 
पर कोई ऐसा नाम जेहन में नहीं 
जिससे धाराप्रवाह सबकुछ कह सकूँ  … 
 चीख लिखूँ 
 डर लिखूँ 
सहमे हुए सन्नाटे लिखूँ 
सूखे आँसुओं की नमी लिखूँ 
बेवजह की खिलखिलाहट लिखूँ 
लिखूँ आँखों में उतरे सपने  … 
सोच रही हूँ नाम 
कौन होगा वह 
जो बिना किसी प्रश्न,तर्क कुतर्क के 
पढ़ेगा मेरी चिट्ठी 
और समझेगा !
कुछ दूर चलकर ही 
सुनने-समझने की दिशा बदल जाती है 
क्योंकि हर आदमी 
अपना प्रभावशाली वक्तव्य सुनाना चाहता है !
चिट्ठी छोटी सही 
छोटा सा मेसेज ही सही 
पढ़ने की फुर्सत नहीं 
पढ़ने लगे,सुनने लगे 
तो सलाह-मशविरे बीच से ही शुरू 
- पूरा कोई नहीं पढता 
सुनना तो बहुत दूर की बात है -
ज़िन्दगी स्केट्स पर है 
यह काम,वह काम 
यह ज़रूरत,वह ज़रूरत 
भावनाओं को समझने की बात दूर 
कोई सुनता भी नहीं 
भावनाएँ - बकवास हैं !
फिर प्रश्न तो है न कि 
अपनी बकवास किसे सुनाऊँ ?!

31 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज शनिवार (12-04-2014) को ""जंगली धूप" :चर्चा मंच :चर्चा अंक:1580 में "अद्यतन लिंक" पर भी है!
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. अपनी परछाई के अलावे किसी के पास समय नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह !

    इसीलिये तो
    वो सबकुछ
    नहीं लिखा
    जाता है
    जो उबल कर
    बाहर आता है
    बचा खुचा
    बाद में परोस
    दिया जाता है
    जिसे वैसे भी
    कोई नहीं खाता है
    सोच में चिट्ठी
    जरूर होती है
    खाली कागज
    लिफाफे में
    एक बंद करने
    के बाद बस
    पता लिखकर
    छोड़ दिया
    जाता है :)



    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह, क्या डूब के लिखा है ! और सत्य लिखा है , खो गया पढ़ते पढ़ते :)
    वैसे चलो हम तैयार हैं , सुनाओ ?
    ढेरों मंगलकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. हमें भी इंतज़ार रहेगा आपकी चिट्ठी का ! तर्क करने की अपेक्षा खामोश होकर सुनने से भी बहुत से समाधान मिल जाते हैं सुनने वाले को भी और सुनाने वाले को भी ! तो सोचिये मत जल्दी से पोस्ट कर दीजिये ! शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  6. एक मिनट भी नहीं लगा यह पढ़ने में। लिखिये..खूब लिखिये। :)

    उत्तर देंहटाएं
  7. भावनाएं यदि बकवास है , तो बकवास सुनाने के लिए भी कुछ सोचना चाहिए क्या , सुना ही देनी चाहिए ! :)

    उत्तर देंहटाएं
  8. जिस देश में सभी समझदार हो जाएं वहां मानवमूल्यों का ग्राही मिलना मुमकिन नहीं है...शुक्र है ब्लॉग है और कुछ अनजाने-अनचीन्हें लोग हैं...जो संवेदनाओ को जीते हैं...आप लिखती रहिये हम बैठे हैं इधर...एक-एक शब्द पढने और गुनने के लिये...

    उत्तर देंहटाएं
  9. इंतज़ार रहेगा आपकी चिट्ठी का !

    उत्तर देंहटाएं
  10. कुछ बातें सुनने मे बहुत अच्छी नहीं होती मगर सुननी पड़ती हैं

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह, सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  12. जो खुद को पढ़ सकता है वही आपकी चिट्ठी पढ़ पायेगा, जो खुद की आवाज सुनने में सक्षम है वही आपकी आवाज भी सुन पायेगा बिना प्रश्न,तर्क,कुतर्क के, निसंकोच चिट्ठी लिख कर तो देखिये :)

    उत्तर देंहटाएं
  13. हम हैं ना दीदी!! बेझिझक हमको सुनाइये... हमको तो वैसे भी दुनिया इमोसनल फूल सम्झता है.. आप बस सम्बेदना से भरा चिट्ठी अपने छोते भाई के नाम लिख दीजिये.. एकीन मानिए, आपके आँसू हमारे आँखों में दिखाई देंगे और आपकी मुस्कान में हमारा ठहाका!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. अपने मन से बड़ा कौन है साथी .. उस इश्वर से ज्यादा किसका साथ ... असल पीर तो वाही सुन और दूर कर सकते हैं .. गहरा अर्थ लिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. फिर प्रश्न तो है न कि
    अपनी बकवास किसे सुनाऊँ ..... बात तो सही है .. जो ना समझे उसके लिए तो अपनी बात बकवास ही हो जाती है ..

    उत्तर देंहटाएं
  16. फिर प्रश्न तो है न कि
    अपनी बकवास किसे सुनाऊँ ..... बात तो सही है .. जो ना समझे उसके लिए तो अपनी बात बकवास ही हो जाती है ..

    उत्तर देंहटाएं
  17. बस ऐसे में ही किसी हुमसोज़ ....किसी हम खयाली की ज़रुरत महसूस होती है .....एक सच्चे दोस्त की ..जो कहने से पहले ही मेरा दर्द जान ले ......

    उत्तर देंहटाएं
  18. एक चिट्ठी स्वयं को लिखी जाये | बहुत सुन्दर |

    उत्तर देंहटाएं
  19. मेरे नाम सब लिख डालिए .....वादा रहा कभी निराशा नहीं होगी

    उत्तर देंहटाएं
  20. चिट्ठी ....
    कितना अपनापन है ना इस शब्द में, प्यार, अपनापन, दुलार, रूठना , मनाना सारी भावनाओं की पोटली जैसी। लिखिए तो सही फिर देखिये ये कैसे अपना नाम पता ठिकाना ढूंढ लेगी … बहुत सुन्दर भाव

    उत्तर देंहटाएं
  21. kuch door chalkar hi sun ny or samjhany ki disha badal jati h............sahi kaha aapny di har aadmi chahta h keval usy suna jaye.....................

    उत्तर देंहटाएं
  22. किसे कहूँ कुछ भी अपना... अद्भुत भावाभिव्यक्ति... जैसे हममें से बहुतों के मन की बात आपने लिख दी हो. बहुत बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  23. Bahut hi achha post. didi aapne bahut hi achhe tarike se sadharan words me samjhaya hai* thank you so much*
    aap hamare blog par v jarur visit kijiyega hame bahut hi khushi hogi*
    thanks again*


    The best Hindi Blog for Hindi Success Related Articles, Inspirational Hindi Stories, Hindi Best Articles, and Personal Development

    www.hamarisafalta.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  24. अभिव्‍यक्ति का शीर्षक निश्चित रूप से विचार करने योग्‍य है .... परन्‍तु अब तो खुद ही सोच में होगीं आप की आखिर किसे ..... लिखें ?

    क्‍यूँकि प्रतिक्रियाओं में ज़ाहिर हो रहा है कितने लोग प्रतीक्षारत हैं ..... फिर देर किस बात की, लिख डालिये एक ख़त खुद के नाम ही ..... सुकून मिलेगा और ये प्रश्‍न भी नहीं रहेगा
    आधा काम तो अभिव्‍यक्ति ने कर दिया है
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  25. शायद हमारी इसी बेचैनी के लिये ब्लॉग का जन्म हुआ है..और आपके दिल के जज़्बात सुनने के लिये ब्लॉग जगत पर कई सुधी पाठक मौजूद हैं..सुंदर कविता।।।

    उत्तर देंहटाएं
  26. Bahut khub


    send free unlimited sms anywhere in India no registration and no log in
    http://freesandesh.in

    उत्तर देंहटाएं

अक्षम्य अपराध

उसने मुझे गाली दी .... क्यों? उसने मुझे थप्पड़ मारा ... क्यों ? उसने मुझे खाने नहीं दिया ... क्यों ? उसने उसने उसने क्यों क्यों ...