01 जून, 2009

जीत निश्चित है !



बाल-विवाह , सती-प्रथा ,
अग्नि-परीक्षा........................
जाने कितने अंगारों से गुजरी
ये मासूम काया !
यातनाओं के शिविर में,
विरोध की शिक्षा ने ,
उसे संतुलन दिया ,
शरीर पर पड़े निशानों ने
'स्व' आकलन का नजरिया दिया !
हर देहरी पर ,
'बचाव' की गुहार लगाती,
अपशब्दों का शिकार होती,
लान्छ्नाओं से धधकती नारी ने
अपना वजूद बनाया.........
माँ सरस्वती से शिक्षा,
दुर्गा से नवशक्ति ली ,
लक्ष्मी का आह्वान किया-
प्रकाशपुंज बनकर ख़ुद को स्थापित किया !
समाज का दुर्भाग्य -
उसकी शक्ति,उसकी क्षमताओं से परे
ह्त्या पर उतर आया !
आज फिर ,
कुरुक्षेत्र का मैदान है ,
और कृष्ण नारी सेना के सारथी............
यकीनन,
जीत निश्चित है !


26 टिप्‍पणियां:

  1. rashmi ji,
    naari hriday ko bahut sundar shabdon se sajaya hai...usaki shakti ko saraaha hai...aaj naari ko hi krishn karoop le kar naari sena ka saarathi bhi ban.na hoga...sach hi jeet nishchit hai..bahut ojpurn rachna..badhai

    उत्तर देंहटाएं
  2. yakinan jeet nishchit hain... par is nyaay aur astitav yudh ki awadhi anishchit hain...... aaj samana ek duryodhan ya dushasan se nahi hain... ab to kanha ka intezaar nahi khud Krishna banney ki jaroorat hain....

    aapki soch ko " SALAM"

    उत्तर देंहटाएं
  3. NAARI KE ROOP KO BAKHUBI UTAARAA HAI AAPNE.. BED KHUBSURATI SE ... DHERO BADHAAYEE AAPKO...


    ARSH

    उत्तर देंहटाएं
  4. सही है... जीत तो निश्चित है....सभी देवी देवताओं का साथ ले कर हर नकारात्मकता को पीछे छोड़ आगे तो बढ़ना ही है...बहुत अच्छा लिखा है दी..

    उत्तर देंहटाएं
  5. bahut acha likha hai...

    hamesha ki tarah sochne ko majboor karta

    उत्तर देंहटाएं
  6. Jise maa saraswati ne shikshit kiya ho, Durga ne shaqti pradan ki ho, jo lakshmi ka hi swarup ho, Krishn jiske sarthi hon, kaun rok payega jitne se use, Bas sangharsh ki disha sakaratmak honi chahiye.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही अच्छी रचना .....!नारी तो सब कुछ सहते हुए भी हर रिश्ता.निभाने... का प्रयास करती ही है...!पर इस समाज का नजरिया ना जाने कब बदलेगा?

    उत्तर देंहटाएं
  8. कृष्ण सारथी ना भी होते तो तो भी राठी अब अपनी शक्ति जान गए हैं बहुत ही अच्छी रचना आयी है इस बार भी आप की कलम से

    उत्तर देंहटाएं
  9. bahut achchha likha hai....naari ka sangharsh........हर देहरी पर ,
    'बचाव' का गुहार लगाती,
    अपशब्दों का शिकार होती,
    लान्छ्नाओं से धधकती नारी ने
    अपना वजूद बनाया.........

    उत्तर देंहटाएं
  10. "....और कृष्ण नारी सेना के सारथी..."

    काश ऐसा ही हो....स्त्री जाति के उज्जवल भविष्य की कामना करती आपकी ये रचना अनमोल है...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  11. कहते है न्, की सोना भी अग्नि में तप कर ही कुंदन बनता है... और जहा - माँ का साथ हो, कृष्ण सा सारथि हो वहा जीत निश्चित ही है ..!

    उत्तर देंहटाएं
  12. jab krishna sarthi hon to jeet nishchit hi hoti hai.
    bahut sashakt rachna

    उत्तर देंहटाएं
  13. सदियों से होते आ रहे अत्याचार ने नारी को प्रबल मानसिक शक्ति का स्वामिनी बना दिया है............वो कभी हार नहीं सकती..........न पहले न आज..........

    उत्तर देंहटाएं
  14. हम सब इस मै आप के संग है, बहुत ही सुंदर रचना,
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  15. रश्मि जी ,
    बहुत ही सार्थक रचना ...नारी की शक्ति को आपने बखूबी समझाया है .....बहुत खूब ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. दिगंबर जी से सहमत .....
    इतना आसान नहीं है हमें जीतना .....

    उत्तर देंहटाएं
  17. ... अब तारीफ क्या करें ... आपकी अभिव्यक्तियाँ तारीफ के स्तर से ऊँची होती हैं ... सिर्फ नई-नई रचनाएँ पढने चले आते हैं ... बधाई !!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत ख़ूबसूरत रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ है!

    उत्तर देंहटाएं
  19. bhut shi nari ne sab badhaye par kri hai apni shktise apne samrthy ya apna aur apni svym ki yogyta se ab samaj ki bari hai kivo use soubhagy bnaye yaapna durbhagy .
    apke vishvas kijay ho ho
    jeet nishchit hai .
    badhai

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत सुन्दर लिखा आपने..साधुवाद !!
    दिल को छूने वाली रचना...!!
    _____________________
    विश्व पर्यावरण दिवस(५ जून) पर "शब्द-सृजन की ओर" पर मेरी कविता "ई- पार्क" का आनंद उठायें और अपनी प्रतिक्रिया से अवगत कराएँ !!

    उत्तर देंहटाएं
  21. Hmmm, u have raised ur voice on a very important topic. SInce ages women are getting dominated in one form or other. Even if women in India are independent now to a large extent but still the domination continues, if not "this" way then "that" way...

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत ही सार्थक लिखा है......
    प्रेरित करने वाली रचना...........

    उत्तर देंहटाएं
  23. और कृष्ण नारी सेना के सारथी...

    बहुत ही सशक्त रचना ..

    उत्तर देंहटाएं

अक्षम्य अपराध

उसने मुझे गाली दी .... क्यों? उसने मुझे थप्पड़ मारा ... क्यों ? उसने मुझे खाने नहीं दिया ... क्यों ? उसने उसने उसने क्यों क्यों ...