12 नवंबर, 2009

चाँद रोया !!!




उन्हें मालूम था
कुछ सीढियां लगाकर
मैं चाँद से बातें कर लूँगी....
बड़ी संजीदगी से कहा-
'सीढियां रखना उचित नहीं
चोर-उचक्कों का ख़तरा होगा'
........
फिर उनकी नज़र
मेरी सोच के वितान पर पड़ी
इधर-उधर देखते हुए
उन्होंने प्रश्न-चर्चा शुरू की....
अजीबोगरीब प्रश्न
तेज स्वर !
मेरी सोच
खुद की पहचान से विलग होने लगी
हर दिशा
एक प्रश्न बनकर खड़ी हो गई
पर,
चाँद का आमंत्रण पुरजोर रहा .............
उसने चांदनी की सीढियां बनायीं
मुझे खींच लिया..........
अब क्या बताऊँ
चाँद हर रिश्तों से टूटा
मेरी बाहों में फूट-फूटकर रोता रहा
' स्वर्ण कटोरे में
दूध-भात अब कोई नहीं खाता'
कहता रहा,
बिलखता रहा ..............
अनुसंधानों ने उसे भी नहीं छोडा !

42 टिप्‍पणियां:

  1. 'aise bandhan jo soch ko dayron mein kaste hain ..aur kalpana ki udaan ko rok sakte to hain,
    unhen chah kar bhi kaat nahin paate.
    ek din chaand ki unchaayeeyan bhi badh jayengee..aur tab yah sidhi bahut chhoti rahegi.
    Niyati hai...

    उत्तर देंहटाएं
  2. चांद बहुत मासूम जो था, बहुत सुंदर कविता, आप की कविता पढ कर मुझे प्यासा ( पुरानी ) फ़िल्म का गीत याद आ गया....

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत गहरी रचना...बेहतरीन अभिव्यक्ति!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेहद रोचक और मार्मिक व्यंग्य है। यह रचना बहुत अच्छी लगी।

    उत्तर देंहटाएं
  5. चाँद को लेकर शब्दों को बहुत ही अच्छा पिरोया है आपने!!!!चाँद हमेशा से ही मानव मन को आकर्षित करता रहा है....,मुझे तो बहुत अच्छी लगी ये रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  6. मैं यही सोच रहा था कि चाँद पर हमले हो रहे हैं और कोई ब्लागर कुछ लिख नहीं रहा...
    चाँद का रोना आपने सुना बधाई।
    --बेहतरीन अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह अद्भुत संयोजन शब्दों का भावों का और मनोरम प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  8. are wah !Rashmee ji bahut hee sunder bhavo kee abhivyaktee .Samay badal raha hai sath hee sonch aur manytae bhee . badhai

    उत्तर देंहटाएं
  9. Sach kaha aapne, aaj ke vigyan ne chand se hamare purvajo dwara sthapit
    sare bhawnatmak riste tod dale :):), ye to bahut bura hua bhai chand ke sath :(.

    उत्तर देंहटाएं
  10. God ji को नहीं छोड़ा तो चाँद - तारे क्या चीज़ है ?
    ज्यादातर यहाँ सीढिया लगाना नहीं हटाना ही जानते है, यह तो अच्छा है की चाँद सीढिया बनता रहा और चाँद को तुम मिली और अपने घरोंदे में जगह दी ...इतना गहन चित्रण, सिमित शब्दों में आप् ही कर सकते हो ...ILu..!

    उत्तर देंहटाएं
  11. bahut badhiya rachna... chaand ke bahane aapne bahut kuchh keh diya... chaand kewal wo nahi jo aasmaan mein chamakta hai.. cahnd wo hai jo humare bheetar sapno... armaanon... kalpnaaon ko janm deta hai...

    उत्तर देंहटाएं
  12. चाँद का आमंत्रण पुरजोर रहा....
    चाँद का रोना .....सारे रिश्तों से टूटना
    ....बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति है..बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  13. भावनावों को व्यक्त करने का रोचक अंदाज़

    उत्तर देंहटाएं
  14. bahut sundar kahaa hai anusandhan ne chand ko kahin ka nahi chhoda!!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. क्या शब्द और भाव हैं आपकी रचना में रश्मि जी...अद्भुत...आपको पढना एक सुखद अनुभव से गुजरने जैसा है...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत ही सुन्दर रचना....रोम रोम को झंकृत कार देने वाला...इतनी कुशलता से मन के भावों को व्यक्त करने का हुनर बहुत कम लोगों में होता है...सलाम है इस हुनर को :)

    उत्तर देंहटाएं
  17. AADUNIKTA KI DOUD MEIN HAM JAZBAATON KO, KOMAL BHAAVNAAON KO SHODTE JAA RAHE HAIN .... SUNDAR ABHIVYATI HAI ...

    उत्तर देंहटाएं
  18. aakhri kuchh panktiyaan shaandar hai .chaand se ru-b-ru hona aur usse dukh sanjha karna ye anubhav bahut alag raha ,khoobsurat rachna .

    उत्तर देंहटाएं
  19. maine suna hai kuch salaon baad chand par ek resturant khulega.. ajib-o-garib lagti hain ye sab batain magar koi kar kya sakta hai uchit aur anuchit ka faisla aage badne ki daud main nahi kar paa rahe..chand bana hai chandni ke liye aur chandni dharti k liye kam se kam use to chod do...kabhi kabhi jyada chamak bhi andha bana deti hai.......
    aapne bilkul sahi kaha....aur likha hai....
    jis tarhaan se apne bhavon ko darshate huye is vishay par aaye wo bahut accha laga....

    उत्तर देंहटाएं
  20. haan...shayron ke pass ek chaad hi to tha ...is chaand par kya-kya aur kitni baatein nahi kahi gayi......anusandhano ne bhi nai-nahi baatein ujagar ki hai.......Koi nahi ham aasma par doosra chaand bana denge without any spot...technology se :-)

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत ही गहराई के साथ आपने बेहद सुंदर, रोचक और भावपूर्ण रचना लिखा है! आपकी रचना की हर एक पंक्तियाँ दिल को छू गई! इस बेहतरीन रचना के लिए बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  22. jane kya dushmani hai mujhse is comments-box ko ,accept karta hi nhi ,bhaiyaji !please ek baar unki is rachna par apne views un tk pahuchane do, mithai khilaungi, mere dada box!

    उत्तर देंहटाएं
  23. aapki kavita padhi, 'moon-tears'....nhin unme mere, aapke hm sbhi ke 'tears' the
    vhan chand khud par kisi ke anadhikrit pravesh sedukhi aansuon se bhiga huaa tha,yhan.......
    chand ko chhune ki aakanksha aur kshmataa hm me sda se thi mgr ....
    sbhi ne kbhi sidhi hta di,kbhi chheen li aur kbhi tod hi di
    mgr chand ko chhune se hme koi nhi rok paya....'usne 'chandni ki sidhi jo ltka di, kaun rok sakataa thaa ab chand ko chhune se
    sambandhon ki parakashtha to dekhiye jis se milne se bhi roka ja rahaa tha wo hi banhon me aakar phoot phoot kar rone lga
    apne kisi bhi priy ka rona mujhse sahn nhi hota.
    mere blog par har kahin chand ko dekha hoga. 'INDU' KA SHBDARTH BHI CHAND HI HOTA HAI.
    indu chand ko rote kaise dekh sakatee hai. bda purana rishta hai usse hmara,nanee chhoti thi tb wo unka'mama' tha, fir maa ka bna ,bchpan me hmara, baad me hmare bchchon ka .......jnmo aur pidhiyon ka rishtaa hai hmara.
    aapki kavita me sb simt aaya .
    kya likhun aapki is kavita ke baare me ?
    ankahaa bhi padh,sun,smjh leti hain aap . aisi hi kavitayen mujhe psnd hai jo aa kar bheetar tk aapko chhu jaye .
    ise padhne ke baad .....samne hoti to aapke gle lag jatee aur phoot phoot kar khoob roti ......chand ki hi tarah....

    उत्तर देंहटाएं
  24. आपको पढ़ते से पहले और पढ़ने के बाद भी मुझमे एक उत्तेजना रहती है कि आज आपमें क्या कड़्कपन होगा जो मुझे आकर्षित करेगा... जिससे मुझे सोचने और बोलने का एक नया ढ़ग मिलेगा।
    तो मैं आशा करता हूं कि आप सदेव एसे ही उत्तेजना को बरकरार रखे और लिखती रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  25. गर्म दूध ही नहीं, ठंडी आहों का भी असर होता है
    बुरे लोगों की तरह
    , भले लोगों का भी डर होता है

    उत्तर देंहटाएं
  26. ्बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति --।
    पूनम

    उत्तर देंहटाएं
  27. सच है इस मशीनी युग में चाँद की पीड़ा समझने की फ़ुर्सत किसे है... अब ना तो किसी को चाँद में परियाँ नज़र आती हैं ना चरखा कातती बुढ़िया... आज लोगों के लिये चाँद सिर्फ़ एक उपग्रह है ना की चन्दा मामा :-)... समय के साथ ये भावनात्मक रिश्ते कट से गए हैं शायद... जावेद अख्तर जी की लिखी हुई ग़ज़ल की कुछ पंक्तियाँ याद आ गयीं --
    मुझको यकीं है सच कहती थीं जो भी अम्मी कहती थीं
    जब मेरे बचपन के दिन थे चाँद में परियाँ रहती थीं

    उत्तर देंहटाएं
  28. बस इतना कहूंगा कि आप शब्द और भावना दोनों के मामले में बहुत धनी है

    उत्तर देंहटाएं
  29. Rashmi Di,

    Sach chaand ke saath ab koi rishta nahi banaata. Chaan ka naya roop dekhne ko mila. Bahut pyaari nazm kahi hai aapne.

    --Gaurav

    उत्तर देंहटाएं
  30. इतना गहरा और सुन्दर आप ही सोच सकती हैं मैम
    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  31. चांद का यूं इस तरह से कविता में..ये नया रूप पहली बार देखा ... दूध-भात अब कोई नहीं खाता का दुख...आह!

    उत्तर देंहटाएं
  32. chaand ke dard ko bahut hi sundar shabd diye hain aapne........us dard mein gahre utarne par hi ye bhaav aa sakte hain..........badhayi

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत सुन्दर रचना !!!!
    वास्तव में ! अनुसंधानों ने भी अब उसे नहीं छोड़ा |

    चांद हर रिश्तों से टूटा !!!

    बहुत गहरे भाव

    उत्तर देंहटाएं
  34. चंदामामा दूर के
    पुए पकाए पूर के
    आप खाओ थाली में
    और मुन्ने को दो प्याली में
    बरबस ही यह गीत याद आ गया आपकी खुबसुरत और प्रभावी अर्थपूर्ण कविता पढ़कर
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  35. bilkul sahi kaha ki chand ab naya nahi ..research ne use bhi nahi chhoda.........

    उत्तर देंहटाएं
  36. भावो में डूबती उतरती कविता, बहुत सुन्दर !!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  37. ek ho sakne wali samasya ki taref behad hi poetic andaaz mei prshne uthaya hai.......rachna bahut masoom si lagi.......

    उत्तर देंहटाएं

रामायण है इतनी

रूठते हुए  वचन माँगते हुए  कैकेई ने सोचा ही नहीं  कि सपनों की तदबीर का रुख बदल जायेगा  दशरथ की मृत्यु होगी  भरत महल छोड़  स...