26 नवंबर, 2009

मोक्ष


वो तुम्हारे अपने नहीं थे
जिन्हें साथ लेकर
तुमने सपने सजाये
सूरज मिलते
सब अपनी रौशनी के आगे
एक रेखा खींच ही देते हैं !
शिकायत का क्या मूल्य
या इन उदासियों का ?
'आह' कौन सुनता है ?
वक्त ही नहीं !
गर्व करो-
तुम आज अकेले हो !
साथ है वह सत्य
जिसे कटु मान
तुमने कभी देखा ही नहीं !
भीड़, कोलाहल
आंखों औ कानों का धोखा है
सत्य है 'कुरुक्षेत्र'
जिससे मुक्ति के लिए
मिली प्रकृति.......
धरती,आकाश,पेड़,पौधे
ऊँचे पहाड़,हवाएँ,बूंदें...
इनसे बातें करो
हर समाधान है इसमें !
मृत्यु के बाद-
धरती की बाहें
अग्नि की पवित्र लपटें
पेड़ की शाखाएं
अपने अंक में समेट लेती हैं
रिश्तों से आगे
यही विराम है !
उसके आगे दर्द का सत्य
कटु नहीं कुरूप है
तभी तो
हम उसे जानते नहीं
जानना भी नहीं चाहते.....
उस कुरूपता से
जोड़ा है प्रभु ने मोक्ष द्वार !
पाना है उसे
तो संवारो किसी को...
अपनी निश्छल भावनाएं दो
अंतर्द्वंद से बाहर निकलो
जीते जी अपने संचित पुण्यों में
किसी को शामिल करो !

34 टिप्‍पणियां:

  1. 'आह' कौन सुनता है ?
    वक्त ही नहीं !
    गर्व करो-
    तुम आज अकेले हो !

    -सुन्दर भावपूर्ण यथार्थ की अभिव्यक्ति!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. घर से मस्जिद है बहुत दूर चलो यु कर ले,
    किसी रोते हुए बच्चे को हसाया जाए....

    मोक्ष सही मायने में यही है....फिर वही बातो बातो में रिश्तो के मायने समझा दिए...ILu...!

    उत्तर देंहटाएं
  3. पाना है मोक्ष तो संवारो किसी को
    --उच्च विचार।

    उत्तर देंहटाएं
  4. 'आह' सुनने के लिये आज किसी के पास वक्त ही नहीं इसलिए बाँट सको तो कुछ मुस्कुराहटें बाँटो... मोक्ष का यही द्वार है शायद !!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. कौन किसकी सुनता है ...
    सभी तो जाने कहाँ भागे जा रहे हैं ...
    आपकी कविता में विन्यस्त सोच सबको सोचने
    पर विवश करता है ...
    आभार ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. रश्मि दीदी चरण स्पर्श

    बहुत दिंनो बाद आपकी कोई कविता पढने को मिली , लाजवाब व बेहद उम्दा रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बड़ी दार्शनिक मनस्थिति हो जाती है इसे पढ कर..
    और बड़ी सामयिक भी..

    जीते जी अपने संचित पुण्यों में
    किसी को शामिल करो !

    साझे के पुण्य ही वास्तविक पुण्य होते है..धर्म-ग्रंथ गवाह हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  8. मोक्षभाव से भरी सुन्दर रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. मोक्ष पाने का सही रास्ता तो आप ने अपनी कविता मै ही बता दिया. बहुत सुंदर
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  10. अपनी निश्छल भावनाएं दो
    अंतर्द्वंद से बाहर निकलो
    जीते जी अपने संचित पुण्यों में
    किसी को शामिल करो !

    कटु सत्य को इस तरह भी तो सहन किया जा सकता है ...
    बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  11. bahut sunder rachana .insaan thoda bhee doordarshee ho jae to sach hee usaka jeevan to kam se kam sambhal hee jae .meree agalee kavita par pratikriya avashy deejeeyega. ye hee soch ka pahaloo hai per aaj sudharne kee bat hai. mai to kayal hoo aapake soch kee .

    उत्तर देंहटाएं
  12. ... माया-मोह के जंजाल से जो मुक्ति पा गया समझ लो वो ... !!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. मोक्ष का द्वार इसी तरह मिलेगा ,सही तरीका सुझाया है आपने

    उत्तर देंहटाएं
  14. moksh ............ek bahut hi gahan vishay aur utni hi gahan rachna.

    उत्तर देंहटाएं
  15. aapki yah kavita bhi anya kavitaon ki tarah sachchaai ke kafi kareeb hai.

    उत्तर देंहटाएं
  16. moksh ke bade achhe dwar dikhaaye aapne...apni nishchhal bhavnaayen do..andardwand se bahar nikaalo...uttam vichar aur badhiya abhivyakti

    उत्तर देंहटाएं
  17. rashmi ji,

    aapki ye rachna moksh ke marg ko bakhoobi bata rahi hai....sundar abhivyakti hai....badhai

    उत्तर देंहटाएं
  18. आह' कौन सुनता है ?
    लाजवाब व बेहद उम्दा......

    उत्तर देंहटाएं
  19. BAHUT HI SARTHAK ... SAATVIK LIKHA HAI ... MRITU KE DWAAR SE SAB KO AGELE HI JAANA HAI BAS AMNE KARMON KO SAATH LE JAANE KI IZAAZAT HAI ....
    LAJAWAAB ABHIVYAKTI HAI ...

    उत्तर देंहटाएं
  20. sabse pahle maafi chahunga ki idhar samayabhav ke kaaran aapke blog par kaafi dino se nahi aa paya...

    har baar ki hi tarah is baar bhi bahut achhi kavita hai... jyada kahna suraj ko diye dikhane jaisa hai..

    उत्तर देंहटाएं
  21. वाह......मोक्ष प्राप्त करने की सारी जुगतें बता दी आपने .... पर कहाँ .....मनुष्य जानते हुए इस रास्ते पर चलना ही नहीं चाहता ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  22. संवेदनाओं,अध्यात्म और दर्शन का अनोखा संगम है इस रचना में----।
    शुभकामनायें।
    पूनम

    उत्तर देंहटाएं
  23. सूरज मिलते
    सब अपनी रौशनी के आगे
    एक रेखा खींच ही देते हैं !

    --------
    adbhut!
    रिश्तों से आगे
    यही विराम है !
    -kitna khubsurat likhti hain aap!

    उत्तर देंहटाएं
  24. दार्शनिक भावनाओं की लाजवाब अभिव्यक्ति।बहुत अच्छी लगी यह कविता।
    हेमन्त कुमार

    उत्तर देंहटाएं
  25. मृत्यु के बाद-
    धरती की बाहें
    अग्नि की पवित्र लपटें
    पेड़ की शाखाएं
    अपने अंक में समेट लेती हैं
    रिश्तों से आगे
    यही विराम है !
    वाह बहुत खूब! अत्यन्त सुंदर रचना लिखा है आपने! हर एक पंक्तियाँ लाजवाब है!

    उत्तर देंहटाएं
  26. मोक्ष एक खोज है
    ,
    कि‍ मोक्ष कि‍से
    ?
    कि‍ससे चाहि‍ये ??

    उत्तर देंहटाएं
  27. moksh ki shj sundar paribhsha .
    ramkrshn parmhans ne kha tha sharda
    maa ko -tumhare putr nhi hai to kya ?apna jeevan aisa bnao ki sare sansar ki maa khlao .
    aur sharda maa ne apna jeevan tapakar moksh paya .

    उत्तर देंहटाएं
  28. jiwan ki satyata bayan karti sundar abhivyakti...badhai sweekaren.

    उत्तर देंहटाएं
  29. सुंदर विचारों से ओतप्रोत बहुत बढ़िया कविता है।शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं

पुनरावृति

दिए जा रहे हैं बच्चों को सीख  ! "ये देखो वो देखो ये सीखो वो सीखो देखो दुनिया कहाँ से कहाँ जा रही है ! गांव घर में खेती थी ...