03 सितंबर, 2013

अम्मा



अब अम्मा का फोन नियम से नहीं आता 
'साईं समर्थ' 
गुड नाईट। … नहीं सुनती उनसे 
मैं कर देती हूँ आदतन मेसेज 
कोई जवाब नहीं आता 
कभी फोन करूँ भी 
तो अम्मा उठाती नहीं 
उठाया भी तो बगल में रख देती है 
झल्लाती है हौले से - "कुछ सुनाई ही नहीं देता"
…… 
कभी वो करती है तो लपककर उठाती हूँ -
'हाँ अम्मा बोल  …'
कराहती है अम्मा 
कभी कहती है - 'बहुत तकलीफ,बहुत तकलीफ  ….'
कभी - 'बुला लो,बुला लो  ….'
कभी - 'अह अह अह अह  ….'
कभी - '…………………….'
इधर दो तीन दिनों से 
हर दिन (करीबन 3 बजे)
आधी रात को मोबाइल बजने लगा है 
देखती हूँ,सुनती हूँ - ट्रिन ट्रिन ट्रिन ट्रिन 
नहीं उठाती  - 
घबराहट होती है…… 
वो घुटी घुटी कराहट मैं बर्दाश्त नहीं कर पाती 
………………। 
उम्र के इस पड़ाव पर 
अम्मा बहुत कमज़ोर,बीमार है 
और हम  - अपनी अपनी जिम्मेवारियों में अवश-शिथिल !
मेरी बाह्य दिनचर्या से 
मेरी आंतरिक दिनचर्या मेल नहीं खाती 
मैं ही क्या 
हमसब अपनी अपनी जगह बाह्य से परे जी रहे हैं 
……… 
ऊपर से संवेदनहीन दिखते  
अन्दर किसी पिजड़े में पंख फड़फड़ाते 
मुक्ति की कामना लिए 
अव्यक्त भय से ग्रसित !

39 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब रश्मि जी .....

    माँ विषय पर एक काव्य संग्रह निकाल रही हूँ उसके लिए आप दो रचनायें , परिचय और तस्वीर भेज दें तो आभारी रहूंगी ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. ऊपर से संवेदनहीन दिखते
    अन्दर किसी पिजड़े में पंख फड़फड़ाते
    मुक्ति की कामना लिए
    अव्यक्त भय से ग्रसित !--------

    "अम्मा"ने जीवन भर सुना सहा,अब जब वाकई सुनने का समय आया तो
    नहीं सुनती,अब "अम्मा"खीझने लगी हैं और अपन घबड़ाने लगे हैं .
    यह आपकी और मेरी नहीं यह उन सभी की है, जिनके जीवन में "अम्मा"
    भीतर तक रची बसी है-------

    आदरणीया,आप जब भावुक होकर लिखती हैं, तो स्वयं का मन नम तो करतीं ही हैं,
    पाठक का भी कर देती हैं,आज मन नम तो हुआ ही आँख से भी बह गया------

    मार्मिक,भावुक रचना "अम्मा"का सच
    आपको, आपकी लेखनी को साधुवाद
    प्रणाम




    उत्तर देंहटाएं
  3. महसूस कर सकती हूँ ये तिलमिलाहट....
    :-(


    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. @हमसब अपनी अपनी जगह बाह्य से परे जी रहे हैं

    बिलकुल सही कहा है, बहुत सटीक सार्थक लगी रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस उम्र की ये छटपटाहट ...बहुत कुछ बदलता है बहुत कुछ टूटता है ...महसूस कर सकते है हम सब

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच कहा आपने ऐसे मैं हम अक्सर खुद को बहुत ही असहज या शायद हेल्प लेस महसूस करते है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. ये सहज भाव मुक्ति के क्षणों में ही जागृत होता है

    उत्तर देंहटाएं
  8. अनुभूत सच्चाईयां आपकी कलम से अभिव्यक्त हुई हैं...
    मन इन्हें महसूस कर अपनी विवशता थाहता है और बस उदास हो कर रह जाता है...

    उत्तर देंहटाएं
  9. मुझे थोड़ा सुकून है
    अम्मा के हांथ आशीर्वाद के लिए अपने सिर पर पाकर
    वो अनुभूति मैं शब्दों में ब्यान नहीं कर पाऊँगी ...।
    आपके तड़प में क्या कहूँ ....

    उत्तर देंहटाएं
  10. अपनी अम्मा को खोये सत्ताईस साल होने आये हैं रश्मिप्रभा जी लेकिन आज भी उनका कहा हर शब्द मन मस्तिष्क में उसी तरह प्रतिध्वनित होता रहता है जैसे आज कल ही की बात हो ! आपकी रचना की आँच ने मर्म को छुआ है और जाने कितना कुछ अंतर में पिघल कर बह गया है ! आपकी 'अम्मा' के स्वास्थ्य की कामना करती हूँ और ईश्वर से प्रार्थना करती हूँ कि वे आपके मन के पंछी की छटपटाहट को कम करें ! मन को भिगोती एक अत्यंत मर्मस्पर्शी रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  11. ऊपर से संवेदनहीन दिखते
    अन्दर किसी पिजड़े में पंख फड़फड़ाते
    मुक्ति की कामना लिए
    अव्यक्त भय से ग्रसित !

    ....बहुत मर्मस्पर्शी..आँखें नम कर गयी..

    उत्तर देंहटाएं
  12. उम्र के इस पड़ाव पर
    अम्मा बहुत कमज़ोर,बीमार है
    और हम - अपनी अपनी जिम्मेवारियों में अवश-शिथिल !
    मेरी बाह्य दिनचर्या से
    मेरी आंतरिक दिनचर्या मेल नहीं खाती
    मैं ही क्या
    हमसब अपनी अपनी जगह बाह्य से परे जी रहे हैं
    ………
    ऊपर से संवेदनहीन दिखते
    अन्दर किसी पिजड़े में पंख फड़फड़ाते
    मुक्ति की कामना लिए
    अव्यक्त भय से ग्रसित !
    ati sundar rachna ,sari prishtbhumi
    par anmol moti saje hai ,is rachna ne aankhe nam kar di ,aap wakai bahut achchha likhti hai .

    उत्तर देंहटाएं
  13. ऊपर से संवेदनहीन दिखते
    अन्दर किसी पिजड़े में पंख फड़फड़ाते
    मुक्ति की कामना लिए
    अव्यक्त भय से ग्रसित !


    कभी कभी सच ही ऐसे में मुक्ति की कामना करने लगते हैं .... हृदयस्पर्शी

    उत्तर देंहटाएं
  14. संवेदनाओं का संसार सब कुछ सामने रख देता है जो दुर्निवार दर्द बन जाता है..

    उत्तर देंहटाएं
  15. माँ मोबाइल पर आवाज़ नही सुनती , एहसास करती है

    उत्तर देंहटाएं
  16. उत्कृष्ट अभिव्यक्ति.हार्दिक बधाई और शुभकामनायें!
    कभी यहाँ भी पधारें

    उत्तर देंहटाएं
  17. ईश्वर के बाद माँ ही हमारे जीवन की मुख्य आस्था होती है जो जीवन भर हमें आशीष व् दुलार दे कर हमारे जीवन को सींचती है मैं जानता हूँ इस दर्द को.आपकी माँ के प्रति इस दर्द भरी अभिव्यक्ति
    को समझ सकता हूँ बहुत गहन है जो मन को छू जाती है

    उत्तर देंहटाएं
  18. दो तीन बार पढ़ा ....
    बस जैसे छूकर निकल रही हो हमारे अंतर में छिपे माँ के प्रति एक कोमल एहसास को

    उम्र का एक पड़ाव जहाँ माँ तो कष्ट झेल रही होती है और संतान बस उसके दुःख के एहसास से दुखी होती रहती है

    सादर!

    उत्तर देंहटाएं
  19. इस गहरे एहसास को झेलना तो सभी को पड़ता है ... मन चाहता है उड़ के उनके पास पहुँच जाना ... निःशब्द हूं इन शब्दों पे ...

    उत्तर देंहटाएं
  20. जीवन के जिस पड़ाव पर हम खड़े हैं...हमें अपने आप को इस अनहोनी के लिए तैयार करना होगा ...क्योंकि कटु ही सही लेकिन यही जीवन का शाश्वत सच है

    उत्तर देंहटाएं
  21. मेरी ही भावनाओं को अभिव्यक्ति दे दी आपने ......मन पर ये बोझ बढ़ता ही जाता है

    उत्तर देंहटाएं
  22. हम सभी को इस परिस्थिति से दो-चार होना पड़ता है...वृद्धावस्था का कोई इलाज भी नहीं है...और सिर्फ आहें सुन कर कुछ न कर पाएं तो मलाल होता है...

    उत्तर देंहटाएं
  23. मन बहुत बेचैन होता है जब उनके लिए कुछ कर ना पायें !

    उत्तर देंहटाएं
  24. एक अज्ञात भय होता है, हर अनुत्तरित फोन की घंटी में।

    उत्तर देंहटाएं
  25. मार्मिक...... कितने मजबूर हो जाते हैं हम अपनों की कराहें भीतर से हिला देती हैं

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत सुन्दर रश्मि .....
    अभी 3 साल पहले अपनी माँ को खोया है .....
    फिर से आँखें नम हो गईं ......
    कुछ ऐसा ही मेरा भी अनुभव रहा है .....
    आज भी उस फ़ोन का इंतज़ार रहता है .....
    जो अब कभी नहीं आएगा .....

    उत्तर देंहटाएं
  27. uff waqt kya na karwaye... :(
    aise agyat bhay se bhare phone se bahut dar lagta hai !!

    उत्तर देंहटाएं
  28. मन को छू लेनेवाली रचना

    उत्तर देंहटाएं
  29. :(
    ऊपर से संवेदनहीन दिखते
    अन्दर किसी पिजड़े में पंख फड़फड़ाते
    मुक्ति की कामना लिए
    ....

    उत्तर देंहटाएं
  30. har samvedansheel man ki vyatha .....
    bahut gahan anubhooti ki marmsparshi abhivyakti ...di ...

    उत्तर देंहटाएं

रामायण है इतनी

रूठते हुए  वचन माँगते हुए  कैकेई ने सोचा ही नहीं  कि सपनों की तदबीर का रुख बदल जायेगा  दशरथ की मृत्यु होगी  भरत महल छोड़  स...