15 अगस्त, 2016

तपस्या






कलयुग में सबने सीख दी - "सीता बनो"
यह सुनकर 
स्त्री या तो मूक चित्र हो गई 
या फिर विरोध किया 
"क्यूँ बनूँ सीता ?
राम होकर पुरुष दिखाये !"
.... 
एक उथलपुथल ही रहा यह सुनने में 
!!!
आज इस सीख का गूढ़ रहस्य समझ आया 
... 
सीता महल में लौट सकती थीं 
अपने अधिकारों की माँग कर सकती थीं 
पर स्वर्ण आभूषणों को त्याग कर 
फूलों के गहने पहन 
उन्होंने अपने स्वाभिमान का मान रखा 
मातृत्व की गंभीरता लिए 
लव-कुश का पालन किया  ... 
प्रश्नों के विरोध में 
उन्होंने जीतेजी 
धरती में समाना स्वीकार किया 
रानी कहलाने का कोई लोभ उनके भीतर नहीं था !

... 
सीता होना आसान नहीं 
आर्थिक मोह सेअलग हौवा आसान नहीं 
बच्चों के लिए ज़िन्दगी न्योछावर करना आसान नहीं 
एक कठिन तपस्या है !

यदि सच में स्वाभिमान है 
तो सीता बनो 
प्रेम,त्याग,परीक्षा,कर्तव्य 
... इनका अनुसरण करो 
पर अति का विरोध करो !!

11 टिप्‍पणियां:

  1. कलियुग में हैं
    बहुत सारी सीतायें
    राम भी बहुत हैं
    त्याग की सूची
    बहुत लम्बी है
    उसमें से एक
    स्वाभिमान भी है ।

    बहुत सुन्दर रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 17 अगस्त 2016 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार (17-08-2016) को "क्या सच में गाँव बदल रहे हैं?" (चर्चा अंक-2437) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  4. सही कहा रश्मि जी ,राम बनना फिर भी आसान है पर सीता बनना बहुत कठिन है . सीता का चरित्र भारत की नारी का वास्तविक चरित्र है .यही सब मैं सोचती ही रह गई और आपने यह बहुत ही सुन्दर और प्रेरक कविता लिख भी डाली .

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढिया..
    आज इस गूढ रहस्य का सीख समझ ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच्च है की सीता होना बहुत मुश्किल है इस दुनिया में ... सीता जैसा त्याग विरला ही मिलता है युगों में ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. आज राम और सीता एक कल्पना भर हैं ...
    बहुत सुन्दर चिंतनशील रचना

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर रचना | हम महिलाओं के लिए बहुत अच्छा सन्देश दिया है आपने कि अति का विरोध जरुर करना चाहिए |

    उत्तर देंहटाएं
  9. सटीक और सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  10. सीता ही क्यूँ, एक नारी का जन्म लेना ही बहुत दुर्लभ है. नारी के तमाम रूप पूज्य हैं!

    उत्तर देंहटाएं
  11. स्वाभिमाननी का सत्य है यह ।

    उत्तर देंहटाएं

मृत्यु को जीने का प्रयास

मौत से जूझकर जो बच गया ... उसके खौफ, इत्मीनान, फिर खौफ को मैं महसूस करती हूँ ! कह सकती हूँ कि यह एहसास मैंने भोगा है एक हद तक ...