09 दिसंबर, 2007

माँ , तुमने क्या किया !


कदम - कदम पर तुमने
अच्छी बातों की गांठ
मेरे आँचल से बाँधी .....
'उसमे और तुममे फर्क क्या रह जायेगा ?'
ऐसा कह कर ,
अच्छे व्यवहार की आदतें डाली .
मुझे संतोष है इस बात का
कि ,
मैंने गलत व्यवहार नहीं किया ,
और अपनी दहलीज़ पर
किसी का अपमान नहीं किया ,
पर गर्व नहीं है ....................
गर्व की चर्चा कहाँ ? और किसके आगे ?
हर कदम पर मुँह की खाई है !
अपनी दहलीज़ पर तो स्वागत किया ही
दूसरे की दहलीज़ पर भी खुद ही मुस्कुराहट बिखेरी है !
मुड़कर देख लिया जो उसने , तो जहे नसीब ....!!!
पीछे से तुमने मेरी पीठ सहलाई है .
खुद तो जीवन भर नरक भोगा ही
मुझे भी खौलते तेल मे डाल दिया
माँ , तुमने ये क्या किया !
मेरे बच्चे मेरी इस बात पर मुझे घूरने लगे हैं
क्या पाया ?...इसका हिसाब -किताब करने लगे हैं ,
अच्छी बातों की थाती थमा
तुमने मुझे निरुत्तर कर दिया
आँय - बाँय - शांय के सिवा कुछ नहीं रहा मेरे पास
.................हाय राम ! माँ , तुमने ये क्या किया !...............

7 टिप्‍पणियां:

  1. वाह । रश्मि जी धन्‍यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. कविता तो अच्छी है पर ज़माने कि दुश्वारियों, गंदगियों कि लिए माँ को दोषी ठहराना उचित नहीं जान पड़ता.

    उत्तर देंहटाएं
  3. जीवन की भौतिकता में आज हर व्यक्ति शामिल है चाहे वह माँ ही क्यों न हो…।
    बहुत सुंदर पंक्तियों का संगम है…।

    उत्तर देंहटाएं
  4. खुद तो जीवन भर नरक भोगा ही
    मुझे भी खौलते तेल मे डाल दिया
    माँ , तुमने ये क्या किया !'
    हकीकत बयाँ कर दी।

    उत्तर देंहटाएं
  5. माँ मत हो नाराज कि मैंए खुद ही मैली की न चुनरिया...(नीरज)

    उत्तर देंहटाएं

पुनरावृति

दिए जा रहे हैं बच्चों को सीख  ! "ये देखो वो देखो ये सीखो वो सीखो देखो दुनिया कहाँ से कहाँ जा रही है ! गांव घर में खेती थी ...