10 दिसंबर, 2007


ॐ की प्रतिध्वनि शाश्वत होती है ,
दसों दिशाओं से उच्चरित होती है ,
करोड़ों शरीर का स्पर्श करती है ,
सुरक्षा घेरे का निर्माण करती है .........
शक्ति का आधार बन ,प्रकाशमान होती है
जहाँ तक सोच का विस्तार नही ,
वहाँ तक विस्तृत होती है .
मंदिर ,मस्जिद ,गुरुद्वारे ,चर्च में
अपना उज्जवल आकार लेती है .
मंदिर का शंखनाद ,सुबह का अजान ,गुरुद्वारे का सतनाम ,
यीशू के रूप में -ज्ञान का मार्ग प्रशस्त करती है !

1 टिप्पणी:

  1. "ॐ" की महिमा सुन्दरता से बयां की आपने.
    "ॐ" मे तो सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड दृष्टिगोचर है.
    हिंदू शाश्त्रों के अनुसार भी ॐ ब्रहम का ही रूप है और अब तो विज्ञान भी ॐ की महता स्वीकार करता है.

    उत्तर देंहटाएं

एक हस्ताक्षर की तरह !!

एक कमज़ोर लड़की जो किसी के दर्द को डूबकर समझती है डूबकर भी बाहर भागती हो बनाती हो खुद को मजबूत तब तुम रो क्यूँ नहीं लेते इस बात पर ...