09 मार्च, 2009

नन्हें मायने !


मेरे पास
मेरी कल्पनाओं का
विस्तृत आकाश है,
और है -
कल्पनाओं के मेघ,
चाँद का खिलौना,
तारों की चमकती पोटली,
एक सतरंगी इन्द्रधनुष !
.....
हर दिन,
आकाश को टांगती हूँ,
कभी श्वेत,कभी श्याम बादलों को
उड़ा देती हूँ....................
रात-दिन के क्रम में
अपने खजाने से
चाँद,सूरज निकालती हूँ,
तारों के धवल चादर पर,
मोहक सपने बिखेर देती हूँ ,
अनंत इक्षाओं की प्राप्ति का
एक सूत्र देती हूँ..................
जब भी कोई तारा टूटता है,
लोग 'विश्' मांगते हैं
और टूटा तारा
फिर मेरी पोटली में !
कल्पनाओं के महासागर में....
मझे अपनी ज़िन्दगी के
नन्हें-नन्हें मायने मिल जाते हैं.........................

23 टिप्‍पणियां:

  1. दी! तुम्हारी कल्पना को शत शत नमन !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सबकुछ आपने कह दिया । धन्यवाद अतिसुन्दर रचना के लिए ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. जिन्दगी के महा समर में कोई कर्म योगी ही नए नए माने जान सकता है.
    अनुभूति का अहसास ही असली शिक्षा है. उसकी सुन्दर प्रस्तुति एक अच्छी शैली की पहचान है.


    सुन्दर भावः पूर्ण कविता प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    रंगों के त्यौहार होली पर हार्दिक शुभ कामनाए

    चन्द्र मोहन गुप्त

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर भाव बढ़िया कल्पना लगी यह जिस से ज़िन्दगी को नए नए मायने मिल जाते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  5. रंगों के त्योहार होली पर आपको एवं आपके समस्त परिवार को हार्दिक शुभकामनाएँ

    ---
    चाँद, बादल और शाम
    गुलाबी कोंपलें

    उत्तर देंहटाएं
  6. अब क्या कहें...... आपकी लेखनी को नमन...कितने गहरे भाव...वाह.
    आप को होली की शुभ कामनाएं ...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  7. जब भी कोई तारा टूटता है,
    लोग 'विश्' मांगते हैं
    और टूटा तारा
    फिर मेरी पोटली में !
    कल्पनाओं के महासागर में....
    मझे अपनी ज़िन्दगी के
    नन्हें-नन्हें मायने मिल जाते हैं.........................
    tute taaron ko sehej rakhna behad khubsurat kalpana hai,ekdam chandtaaron si chamkili.holi mubarak.sundar rachana.

    उत्तर देंहटाएं
  8. जब भी कोई तारा टूटता है,
    लोग 'विश्' मांगते हैं
    और टूटा तारा
    फिर मेरी पोटली में !
    कल्पनाओं के महासागर में....
    मझे अपनी ज़िन्दगी के
    नन्हें-नन्हें मायने मिल जाते हैं................

    Rasmi ji, Bhot acchi rachna...bhot gahre tak utarti hain paktiyan...bhot khooob...!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुंदर भाव युक्‍त कल्‍पना ... होली की ढेरो शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपको और आपके परिवार को होली की रंग-बिरंगी ओर बहुत बधाई।
    बुरा न मानो होली है। होली है जी होली है

    उत्तर देंहटाएं
  11. Rashmi ji,

    kitni sundar kalpana ki hai is kavita mein aap ne!
    sach hai na yahi nanhey nanhey mayne jeevan ka ahsaas karate rahtey hain..
    sundar rachna hetu badhayee.


    [apni post mein main ne geet ki kami poori kar di hai..jarur suneeyega..ek purana geet hai.asha hai aap ko pasand aayega.. :)-alpana]

    उत्तर देंहटाएं
  12. होली के शुभ अवसर पर,
    उल्लास और उमंग से,
    हो आपका दिन रंगीन ...

    होली मुबारक !
    'शब्द सृजन की ओर' पर पढें- ''भारतीय संस्कृति में होली के विभिन्न रंग''

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपको होली की शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  14. जब भी कोई तारा टूटता है,
    लोग 'विश्' मांगते हैं
    और टूटा तारा
    फिर मेरी पोटली में !
    कल्पनाओं के महासागर में....
    मझे अपनी ज़िन्दगी के
    नन्हें-नन्हें मायने मिल जाते हैं.........................
    बहुत ही सुन्दर रचना !!

    उत्तर देंहटाएं
  15. kalpanaao ke mahaasaagar mei
    chintan ka anootha-sa anubhav
    smritiyaaN bhi, vishwaas bhi......
    badhaaee . . . .
    ---MUFLIS---

    उत्तर देंहटाएं
  16. साधुवाद सुंदर भावों के लिए.
    साधुवाद सुंदर शब्दों के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपकी पोटली में जो कल्पनाओ का -
    आकाश ,
    बादल ,
    मेघ ,
    चाँद - तारे ,
    सतरंगी इन्द्रधनुष है ,
    वो ही तो जिन्दगी है ..
    और ...,
    यह नन्हे नन्हे मायने हमारे लिए बहुत मायने रखते है ...

    उत्तर देंहटाएं
  18. आपकी पोटली में जो कल्पनाओ का -
    आकाश ,
    बादल ,
    मेघ ,
    चाँद - तारे ,
    सतरंगी इन्द्रधनुष है ,
    वो ही तो जिन्दगी है ..
    और ...,
    यह नन्हे नन्हे मायने हमारे लिए बहुत मायने रखते है ...

    उत्तर देंहटाएं
  19. जब भी कोई तारा टूटता है,
    लोग 'विश्' मांगते हैं
    और टूटा तारा
    फिर मेरी पोटली में !
    कल्पनाओं के महासागर में....
    मझे अपनी ज़िन्दगी के
    नन्हें-नन्हें मायने मिल जाते हैं................


    बहुत ही खुबसूरत रचना , साहसिक सोच वाली एक सुन्दर अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  20. aapki rachna ka ek-ek shabd apna sa laga..... mere man ko kaise padh liya aapne

    उत्तर देंहटाएं

मृत्यु को जीने का प्रयास

मौत से जूझकर जो बच गया ... उसके खौफ, इत्मीनान, फिर खौफ को मैं महसूस करती हूँ ! कह सकती हूँ कि यह एहसास मैंने भोगा है एक हद तक ...