20 मार्च, 2009

खामोशी !


दुःख की सरहदों पर
अपने-अपने दर्द को लिए
- हम दोस्त हैं ....
कहीं कोई दिल दहलानेवाला
विस्फोट नहीं होता...
होती है,
आंसुओं की मौन भाषा
- जहाँ सारी दूरी
मिट जाती है ,
रह जाती है
- आंखों की शून्यता !
- जहाँ
देश विभाजित नहीं होता,
न ही जाति,धर्म की
चिंगारियां होती हैं.......
होती हैं बस -
अपने-अपने हिस्से को खोने की खामोशी,
खामोशी !
सिर्फ़ खामोशी !!!

29 टिप्‍पणियां:

  1. मन में उठती भावनाओं पर किसी जाति वर्ग धर्म भाषा का विशेष अधिकार नहीं होता... एक समान भावनाएं दो इंसानों को पास ले आती हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  2. हम भी खामोश ...
    खामोशी भी गुनगुनाती है, तनहाईया भी मुस्कुराती है ...
    again नी:शब्द ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर भाव , अति सुंदर कविता.
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपने खामोशी मे जिन भावनाओं के साथ अपने विचार व्‍यक्‍त किए वह दिल एवं वर्तमान परिवेश में वास्‍तविकता से हमें परिचित कराते है ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. जहाँ
    देश विभाजित नहीं होता,
    न ही जाति,धर्म की
    चिंगारियां होती हैं.......
    होती हैं बस -
    अपने-अपने हिस्से को खोने की खामोशी,
    खामोशी !
    khamoshi mein ekata mil aaye,isase badi baat kya ho sakti hai.sunder rachana badhai

    उत्तर देंहटाएं
  6. aaj ke samay par sattekta se tippni karti ek rachna .. sundar kriti

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सही.. बिल्कुल सटीक लिखा आपने..

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी लेखनी से सदैव ही सुन्दर रचना निकलती है । बहुत ही सुन्दर कविता । धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  9. khaamoshi ko jo diyen hain , shabd ,kahaan aisi baat hoti,
    kahi suna hai kisi ne ki poonam me amawas ki raat hoti ????

    उत्तर देंहटाएं
  10. शानदार और अभिभूत कर देने वाली अभिव्यक्ति । प्रभा जी आपकी लेखन कला का मै कायल हूं । पहली बार पोस्ट कर रहा हूं लेकिन आपकी कविताओं को पढ़ता हर बार हू शिक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  11. khamoshi ko bahut gahnata se jiya hai aur dard ko piya hai isliye ye bhav ubhra hai.
    bahut gahre bhav.

    उत्तर देंहटाएं
  12. भाव तो सीधे दिल से निकलते हैं, ये किसी धर्म-मज़हब के गुलाम नहीं.
    बहुत सुन्दर रचना है दीदी, कम शब्दों में बहुत कुछ कह देना ही आपकी रचनाओं की विशेषता है.

    उत्तर देंहटाएं
  13. आँखों की मौन भाषा...और खामोशी.
    अपने हिस्से को खोने का दर्द..
    सच यही रह जाता है..

    देश विभाजित नहीं होता..मगर कुछ चिंगारियां फिर भी सुलगती रहती हैं.
    जो शायद अपने हिस्से को खोने के दर्द से जनम लेती हैं.

    -सुन्दर सफल अभिव्यक्ति!

    रश्मि जी कुछ ऐसी ही तस्वीर और इसी शीर्षक वाली कविता मैं ने भी जून में पोस्ट की थी.:)

    उत्तर देंहटाएं
  14. आदरणीय रश्मि जी ,
    बहुत अर्थपूर्ण कविता ...जीवन में खामोशी का अपना महत्व है .
    पूनम

    उत्तर देंहटाएं
  15. रश्मि जी ,
    बहुत सुन्दर भावः एवं दर्शन है आपकी इस कविता में ..खामोशी भी तो एक अभिव्यक्ति का माध्यम ही है ..अच्छी कविता
    हेमंत कुमार

    उत्तर देंहटाएं
  16. होती हैं बस -
    अपने-अपने हिस्से को खोने की खामोशी,
    सिर्फ खामोशी
    bahut sunder abhi vyakti

    उत्तर देंहटाएं
  17. कोई ये भाषा नहीं समजता
    और किसीसे उम्मीद रखनी भी नहीं चाहिए...

    उत्तर देंहटाएं
  18. मकर संक्रांति की हार्दिक शुभ कामनाएँ।
    ----------------------------
    कल 16/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुन्दर....
    गहन अभिव्यक्ति..
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  20. - जहाँ
    देश विभाजित नहीं होता,
    न ही जाति,धर्म की
    चिंगारियां होती हैं.......
    होती हैं बस -
    अपने-अपने हिस्से को खोने की खामोशी,

    और अपने अपने हिस्से की खामोशी बहुत कुछ कहती है .. सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहूत गहन अभिव्यक्ती ....
    सुंदर रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  22. ख़ामोशी को भी शब्द मिल गए हो जैसे........

    उत्तर देंहटाएं

अक्षम्य अपराध

उसने मुझे गाली दी .... क्यों? उसने मुझे थप्पड़ मारा ... क्यों ? उसने मुझे खाने नहीं दिया ... क्यों ? उसने उसने उसने क्यों क्यों ...