18 अगस्त, 2010

लिखो कुछ मनचाहा



उन लम्हों का हिसाब हम क्यूँ करें
जिन पर होनी की पकड़ थी
हम कितना भी कुछ कहें
हमारी राहें जुदा थीं
तुम आकाश लिख रहे थे
मैं पिंजड़े की सलाखों से
आकाश को पढ़ना चाह रही थी ...

बिना स्याही
तुमने बहुत कुछ लिखा
और बन्द कमरे की स्याह घुटन में
मैंने बहुत कुछ पढ़ा
तुम लिखना नहीं भूले
मैं पढ़ना नहीं भूली
पर अतीत के वे पन्ने
जो अनचाहे लिखे गए
उनको मैं पढ़ना नहीं चाहती
क्या तुम उन शब्दों को मिटा सकते हो ?

यकीन करो -
अभी भी मेरे पास खाली स्लेट है
और कुछ खल्लियाँ
और कुछ मनचाही इबारतें
वक़्त भी है -
तो लिखो कुछ मनचाहा
ताकि इस बार
खुली हवा में मैं पढ़ सकूँ
सबकुछ सहज हो जाये ...





54 टिप्‍पणियां:

  1. यकीन करो -
    अभी भी मेरे पास खाली स्लेट है
    और कुछ खल्लियाँ
    और कुछ मनचाही इबारतें
    वक़्त भी है -
    तो लिखो कुछ मनचाहा
    ताकि इस बार
    खुली हवा में मैं पढ़ सकूँ
    सबकुछ सहज हो जाये ...
    bahut sunder.. eak aur taaja bimb.. naya sa... badhiya !

    उत्तर देंहटाएं
  2. aap kavi log itni acchai kavita lika kaise lete ho.maine bahut kosis Ki par koi fayda nhi hua

    उत्तर देंहटाएं
  3. यकीन करो -
    अभी भी मेरे पास खाली स्लेट है

    bahut khoob ek dam taaja

    उत्तर देंहटाएं
  4. स्वच्छन्दता का लेखन जब स्वच्छन्द वातावरण में पढ़ा जायेगा तो ..
    बेहद खूबसूरत रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. आज तो बेहद सुन्दर भाव भर दिये…………सहेज लेने चाहिये ऐसे पल कल मिलें न मिलें।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बिना स्याही
    तुमने बहुत कुछ लिखा
    और बन्द कमरे की स्याह घुटन में
    मैंने बहुत कुछ पढ़ा
    तुम लिखना नहीं भूले
    मैं पढ़ना नहीं भूली
    पर अतीत के वे पन्ने
    जो अनचाहे लिखे गए
    उनको मैं पढ़ना नहीं चाहती
    क्या तुम उन शब्दों को मिटा सकते हो ?


    एकदम सही, सब कुछ हम कहाँ रच पाते हैं, लि्खाती कलम कुछ और है और लिखा कुछ और होता है.
    काश ! मनचाहा जीवन में भी लिख पाया होता.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर भावाभियक्ति.. बढ़िया रचना..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी इस कविता में स्‍याही,स्‍लेट और खल्लियों को देखकर वे दिन याद आ गए जब लिखने की कोशिश में कितना समय केवल सोचने में लगाते थे। सचमुच जो लिखा नहीं गया उसे हम मन की भाषा से पढ़ लेते हैं। लेकिन जो लिखा जाता है उसे पढ़ते हुए दिमाग का भी उपयोग करते हैं और कभी कभी अर्थ का अनर्थ हो जाता है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह ...मन चाह ही लिखना चाहिए.

    उत्तर देंहटाएं
  10. bahut khub....
    chaliye ab main bhi kuch manchaha hi likhoonga...

    उत्तर देंहटाएं
  11. यकीन करो -
    अभी भी मेरे पास खाली स्लेट है
    और कुछ खल्लियाँ
    और कुछ मनचाही इबारतें..

    बहुत कुछ कहती नज़्म ...आकाश और पिजरे का बिम्ब भी बहुत अच्छा लगा ....

    उत्तर देंहटाएं
  12. नज़्म है याकि अनचाही इबारतें मिटाते नम लफ्ज़....

    बहुत ही शानदार प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुन्दर रचना लिखा है आपने! चित्र भी बहुत बढ़िया लगा!

    उत्तर देंहटाएं
  14. तुम आकाश लिख रहे थे
    मैं पिंजड़े की सलाखों से
    आकाश को पढ़ना चाह रही थी ...
    बिम्बों का अनूठा प्रयोग।

    उत्तर देंहटाएं
  15. rshmi bhn ankhe shbdon kaa ehsaas or unke prstutikrn kaa yeh andaaz bhut bhut niraalaa he . akhtar khan akela kota rajsthan

    उत्तर देंहटाएं
  16. आपकी मनचाही हमारे मन को भी अच्छी लगी
    बहुत सुन्दर.............

    उत्तर देंहटाएं
  17. बिना स्याही
    तुमने बहुत कुछ लिखा
    और बन्द कमरे की स्याह घुटन में
    मैंने बहुत कुछ पढ़ा
    तुम लिखना नहीं भूले
    मैं पढ़ना नहीं भूली
    पर अतीत के वे पन्ने
    जो अनचाहे लिखे गए
    उनको मैं पढ़ना नहीं चाहती
    क्या तुम उन शब्दों को मिटा सकते हो ?

    hamesha padta hu aapko, kuch naya seekh k jata hu.....hamesha.

    उत्तर देंहटाएं
  18. बिना स्याही
    तुमने बहुत कुछ लिखा
    और बन्द कमरे की स्याह घुटन में
    मैंने बहुत कुछ पढ़ा
    तुम लिखना नहीं भूले
    मैं पढ़ना नहीं भूली
    पर अतीत के वे पन्ने
    जो अनचाहे लिखे गए
    उनको मैं पढ़ना नहीं चाहती
    क्या तुम उन शब्दों को मिटा सकते हो ?

    hamesha padta hu aapko, kuch naya seekh k jata hu.....hamesha.

    उत्तर देंहटाएं
  19. सुंदर प्रस्तुति!

    हिन्दी हमारे देश और भाषा की प्रभावशाली विरासत है।

    उत्तर देंहटाएं
  20. तो लिखो कुछ मनचाहा
    ताकि इस बार
    खुली हवा में मैं पढ़ सकूँ
    सबकुछ सहज हो जाये ...

    aapke manchahe lekhan ke hi to ham sab fan hain, aur isliye to aate hain yahan..........:)

    उत्तर देंहटाएं
  21. बिना स्याही
    तुमने बहुत कुछ लिखा
    और बन्द कमरे की स्याह घुटन में
    मैंने बहुत कुछ पढ़ा....... bahut kuchh ankaha kahti rachna... dil ko chhu gai.....

    उत्तर देंहटाएं
  22. @पर अतीत के वे पन्ने
    जो अनचाहे लिखे गए
    उनको मैं पढ़ना नहीं चाहती
    क्या तुम उन शब्दों को मिटा सकते हो ?

    मुश्किल है ...
    काश कि जिंदगी का भी कोई रिवर्स गीअर होता ...


    @ तो लिखो कुछ मनचाहा
    ताकि इस बार
    खुली हवा में मैं पढ़ सकूँ
    सबकुछ सहज हो जाये ....

    मासूम सी ख्वाहिश है या मनुहार ..
    मगर जो भी लिखेगा ...
    अब मनचाहा ही लिखेगा ...
    सुन्दर ..!

    उत्तर देंहटाएं
  23. तो लिखो कुछ मनचाहा
    ताकि इस बार
    खुली हवा में मैं पढ़ सकूँ
    सबकुछ सहज हो जाये ...
    कितनी सरल सी ख्वाहिश है...पर पूरी हो पानी कितनी मुश्किल..

    उत्तर देंहटाएं
  24. rashmi ji,
    bahut gahri sanvednaayen, kuchh nirasha ke baad asha ki ummid...bahut khoob, badhai aapko.

    उत्तर देंहटाएं
  25. पर अतीत के वे पन्ने
    जो अनचाहे लिखे गए
    उनको मैं पढ़ना नहीं चाहती
    क्या तुम उन शब्दों को मिटा सकते हो ..

    अतीत का लिखना चाहे मिटा दिया जाए पर दिल पे लिखे अतीत को मिटाना सच में आसान नही होता ... उसकी स्याही अमिट रहती है ...

    उत्तर देंहटाएं
  26. तुम आकाश लिख रहे थे
    मैं पिंजड़े की सलाखों से
    आकाश को पढ़ना चाह रही थी ...


    ---बस्स!! सब कुछ तो कह दिया!

    उत्तर देंहटाएं
  27. यकीन करो -
    अभी भी मेरे पास खाली स्लेट है
    और कुछ खल्लियाँ
    और कुछ मनचाही इबारतें
    वक़्त भी है -
    तो लिखो कुछ मनचाहा
    ताकि इस बार
    खुली हवा में मैं पढ़ सकूँ
    सबकुछ सहज हो जाये

    bahut sunder bhaav h...badhai..

    उत्तर देंहटाएं
  28. यकीन करो -
    अभी भी मेरे पास खाली स्लेट है
    और कुछ खल्लियाँ
    और कुछ मनचाही इबारतें
    वक़्त भी है -
    तो लिखो कुछ मनचाहा
    ताकि इस बार
    खुली हवा में मैं पढ़ सकूँ
    सबकुछ सहज हो जाये ...
    वाह बहुत सुन्दर ,हर बार कुछ नया सा मिलता और मन पर अपनी छाप छोड देता है .कितनी हल्की फ़ुल्की इच्छा मगर कितनी सुन्दर .

    उत्तर देंहटाएं
  29. बलिहारी जाऊं ऐसी कविता पर.. लेकिन सुना है आजकल आप बीमार चल रही हैं मम्मी जी.. हुआ क्या है?

    उत्तर देंहटाएं
  30. अहसास का प्रतिबिंब...
    एक गरिमापूर्ण रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  31. आप की रचना 20 अगस्त, शुक्रवार के चर्चा मंच के लिए ली जा रही है, कृप्या नीचे दिए लिंक पर आ कर अपने सुझाव देकर हमें प्रोत्साहित करें.
    http://charchamanch.blogspot.com

    आभार

    अनामिका

    उत्तर देंहटाएं
  32. तुम आकाश लिख रहे थे
    मैं पिंजड़े की सलाखों से
    आकाश को पढ़ना चाह रही थी ...

    kya keh diay Rashmi di

    aapki samvednaye dil andar tak chhu gayi

    उत्तर देंहटाएं
  33. एहसास में डूबी रचना जो दिल को छु गयी ..बेहतरीन बहुत पसंद आई

    उत्तर देंहटाएं
  34. यकीन करो -
    अभी भी मेरे पास खाली स्लेट है
    और कुछ खल्लियाँ
    और कुछ मनचाही इबारतें
    वक़्त भी है -
    तो लिखो कुछ मनचाहा
    ताकि इस बार
    खुली हवा में मैं पढ़ सकूँ
    सबकुछ सहज हो जाये
    कितने गहरे भाव और व्यथा सहेजे हुए ये प्रस्तुति भावुक कर गई

    उत्तर देंहटाएं
  35. यकीन करो -
    अभी भी मेरे पास खाली स्लेट है
    और कुछ खल्लियाँ
    और कुछ मनचाही इबारतें
    वक़्त भी है -
    तो लिखो कुछ मनचाहा
    ताकि इस बार
    खुली हवा में मैं पढ़ सकूँ
    सबकुछ सहज हो जाये ...
    rashmi di bahut hi gahari avam bhavnatmak abhivyakti liye hue aapki rachna bahut khchh anchahe hi kah gai.
    ati sundar---------
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  36. खुली हवा में मैं पढ़ सकूँ
    सबकुछ सहज हो जाये ..।

    बहुत ही सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  37. यकीन करो -
    अभी भी मेरे पास खाली स्लेट है
    और कुछ खल्लियाँ
    और कुछ मनचाही इबारतें
    वक़्त भी है -
    तो लिखो कुछ मनचाहा
    ताकि इस बार
    खुली हवा में मैं पढ़ सकूँ
    सबकुछ सहज हो जाये ...
    ...sundar abhivykti...
    ati sundar bimb chitran ...

    उत्तर देंहटाएं
  38. समुद्र पर हो रही है बारिश !
    मैं पिंजड़े की सलाखों से
    आकाश को पढ़ना चाह रही थी!!
    स्त्री मन की कसक उभारी है आपने !
    बहुत सुंदर कविता ! आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  39. तो लिखो कुछ मनचाहा
    ताकि इस बार
    खुली हवा में मैं पढ़ सकूँ

    -सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  40. DIDI , DERI SE AANE KE LIYE MAAFI CHAHUNGA .. HAMESHA KI TARAH AAPNE BAHUT HI SUNDAR RACHNA LIKHI HAI JO DIL KO CHOO LETI HAI ..

    BADHAI

    VIJAY
    आपसे निवेदन है की आप मेरी नयी कविता " मोरे सजनवा" जरुर पढ़े और अपनी अमूल्य राय देवे...
    http://poemsofvijay.blogspot.com/2010/08/blog-post_21.html

    उत्तर देंहटाएं
  41. Bahut hi badhiyan likha hai....
    kya khoob kehne-
    अभी भी मेरे पास खाली स्लेट है
    और कुछ खल्लियाँ
    और कुछ मनचाही इबारतें
    वक़्त भी है -
    तो लिखो कुछ मनचाहा

    उत्तर देंहटाएं
  42. "तो लिखो कुछ मनचाहा
    ताकि इस बार
    खुली हवा में मैं पढ़ सकूँ
    सबकुछ सहज हो जाये ..."
    sahaj bibm yojna ke madhyam se unmukt hone ki chahat ka adbhut udaharan hai aapki rachna;

    उत्तर देंहटाएं
  43. वाह रश्मि जी वाह !!
    क्या बात है...!!
    दिल से कही गई बातें ही दिल को छू पाती है शायद...,
    वर्ना मौसम का हाल तो टीवी पर वो दडियल भी सुना जाता है...!!

    उत्तर देंहटाएं
  44. तो लिखो कुछ मनचाहा
    ताकि इस बार
    खुली हवा में मैं पढ़ सकूँ

    दुआ है आपको जल्द ही ऐसा कुछ लिखा मिले .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  45. बहुत पसन्द आया
    हमें भी पढवाने के लिये हार्दिक धन्यवाद
    बहुत देर से पहुँच पाया ....माफी चाहता हूँ..

    उत्तर देंहटाएं

रामायण है इतनी

रूठते हुए  वचन माँगते हुए  कैकेई ने सोचा ही नहीं  कि सपनों की तदबीर का रुख बदल जायेगा  दशरथ की मृत्यु होगी  भरत महल छोड़  स...