31 अगस्त, 2010

भ्रम !


बहुत बड़ी धरती मुझे मिली है
मिला है बहुत बड़ा आकाश
इस छोर से उस छोर तक
क्षितिज का साथ है !

47 टिप्‍पणियां:

  1. भावपूर्न कविता……………॥अति सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सारा आकाश....सारी धरती हमारी है| खूबसूरत पंक्तियाँ|

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर पंक्तियाँ! भावपूर्ण रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  4. sundar - ati - sundar
    char line aur vishaal kalpna .

    yeh dharti teri yeh ambar mera
    tune bhi udna chaha aur mene bhi chlna-----
    tere pankh nahin thy aur mene kadam...

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाकई बहुत कुछ मिला है... ये धरती... ये आकाश... सूरज, चाँद और अनगिनत टिमटिमाते तारे... और ये भ्रम कहाँ है इस नश्वर संसार में यही कुछ साथी हैं जो अनश्वर हैं.. हमेशा साथ रहते हैं...

    निदा फाज़ली जी की कुछ लाइंस याद आ गयीं...
    छोटा कर के देखिये जीवन का विस्तार
    आँखों भर आकाश है, बाहों भर संसार...

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस छोर से उस छोर तक
    क्षितिज का साथ है !
    ...bhaavpurn.

    उत्तर देंहटाएं
  7. bahut sundar
    main bhi haanth failaakar apna aakash maapne ki koshish kar rahi hoon

    उत्तर देंहटाएं
  8. aap bhi........:)

    aap bhi Sangeeta di ki tarah do lines me sab kuchh kah dena chahti hain......:)

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर। बधाई ये धरती आकाश आपको नई उडान दे।

    उत्तर देंहटाएं
  10. लेकिन यहां सब कुछ समय के हाथ है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. एहसास इस मंदिर मे जीवन के सत्य को समझने का प्रयास मैंने भी किया है.
    सूक्ष्म विश्लेषण. सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह ...आपको क्षितिज का साथ मिला ..फिर भ्रम कैसा ...

    मुझे तो लगता है ...

    धरती भी
    मेरी अपनी है
    आसमां भी
    अपना है
    पर क्षितिज
    तो बस
    मेरे लिए
    एक सपना है .....

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुन्दर भावों को बखूबी शब्द जिस खूबसूरती से तराशा है। काबिले तारीफ है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. क्षितिज भ्रम है, इस सत्य को सार्थक शब्द दिए हैं ...बहुत सुन्दर!

    प्रणाम के साथ शुभकामनाएं.......

    उत्तर देंहटाएं
  15. दीदी प्रणाम !
    छोटी कविताए अधिक प्रभाव छोडती है जो मेरी पसंदीदा है , अपनी एक बानगी आप के सामने रखना चाहुगा --
    '' तुम्हे छोड़ कहा जाऊ
    ये सिरा यही ख़तम होगा वापिस ,
    पृथ्वी गोल जो है ''
    एक सुंदर रचना के लिए आप का आभार !
    सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  16. बस इसी भ्रम मे ज़िन्दगी गुजार जाते हैं……………सही कहा।

    उत्तर देंहटाएं
  17. जब सारी धरती और आकाश का साथ हो तो भ्रम कैसा? जहाँ भी अपने अस्तित्व को समाहित कर लीजिये वही अपना है और अपनी सीमा है.

    उत्तर देंहटाएं
  18. कम शब्दों में दिल की बात उतार दी...मनभावन प्रस्तुति.
    ___________________
    'शब्द सृजन की ओर' में 'साहित्य की अनुपम दीप शिखा : अमृता प्रीतम" (आज जन्म-तिथि पर)

    उत्तर देंहटाएं
  19. सच में...?
    फिर भ्रम कैसा?
    या यह भ्रम ही है...

    उत्तर देंहटाएं
  20. सुन्दर पंक्तियाँ! भावपूर्ण रचना

    उत्तर देंहटाएं
  21. जब आकाश मिला है फिर भ्रम कैसा.. या फिर आकाश मिलने का ही भ्रम है.. चार पंक्तियों में जीवन दर्शन..

    उत्तर देंहटाएं
  22. जो कुछ जीवन में पाया है, उसके प्रति आभार व्यक्त करने की इस प्रकार की सकारात्मक सोच बहुत शुकून देती है ...

    उत्तर देंहटाएं
  23. सुंदर भाव .. पर इस क्षितिज को नापना बहुत ही कठिन है ....

    उत्तर देंहटाएं
  24. chand pankityun me di aapne, pura brahmmand apne nam kar lar liya

    waoooooooooooo
    gr8 4 liners

    उत्तर देंहटाएं
  25. मेरी तो सदा ही क्षितिज छू लेने की आस रही है।

    उत्तर देंहटाएं
  26. bahut badi baat kah di chhoti si dikhne wali kavita ne....

    ha, kisi ko bhi aisa sath mile to kya baat hai...!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  27. bahut badi baat kah di chhoti si dikhne wali kavita ne....

    ha, kisi ko bhi aisa sath mile to kya baat hai...!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  28. क्षितिज के हरदम का साथ होने का एहसास ...!
    संबल नहीं, भय देता है।

    उत्तर देंहटाएं
  29. भावपूर्ण ओर सुंदर कविता, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  30. रचना में भाव स्पष्ट हैं...
    श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  31. वाह ..चलो भ्रम से दूर छूलें इस क्षितिज को ...

    उत्तर देंहटाएं
  32. अच्छी पंक्तिया है ......

    http://thodamuskurakardekho.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  33. धरती, आकाश ...क्षितिज , पर भ्रम
    क्षितिज सामने है , पर जितना आगे बढ़ो वह आगे ...

    क्षितिज दूर सही ...पास लगता है मगर पास आने पर और दूर...
    मगर क्षितिज तक का यह अनवरत सफ़र कई बार क्षितिज को छू लेने से भी बेहतर लगता है ...उसे छूने की ख्वाहिश ही मिट जाती है ...
    मंजिल से बेहतर लगने लगे हैं ये रास्ते ...!

    उत्तर देंहटाएं
  34. ..sateek ukti..
    आपको और आपके परिवार को कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं

रामायण है इतनी

रूठते हुए  वचन माँगते हुए  कैकेई ने सोचा ही नहीं  कि सपनों की तदबीर का रुख बदल जायेगा  दशरथ की मृत्यु होगी  भरत महल छोड़  स...