25 फ़रवरी, 2011

कशिश




माना - ज़िन्दगी भाग रही है
माना - कहीं कोई ठहराव नहीं है
माना - भौतिकवादी हो गए हैं सब
माना - good morning से good night तक कोई तालमेल नहीं रहा
माना - भावनाओं से पेट की आग नहीं बुझती
माना - "स्व" की संकुचित भाषा पैनी हो गयी है

पर मानो -

आज भी ॐ से शुभप्रभात की ज्योत जलती है
आज भी आशीर्वाद की ज़रूरत है
आज भी ज़रूरत है उन भावनाओं की
जो दूसरो की भूख को समझते हैं
आज भी, इस भाग-दौड़ में
कई विस्मित,खाली आँखें कुछ ढूंढ रही हैं
आज भी, मेहमान को देवता मानने वाले दुर्बल शरीर हैं
आज भी कुछ घरों से कोई खाली हाथ नही जाता
आज भी,
जिसे तुम राख मान रहे हो
उसके अन्दर अब भी चिंगारी है
संस्कारों के पदचिह्न आज भी हैं,
मूल्यांकन की तदबीर आज भी है
और मानो
आज भी इसमें ही कशिश है....

48 टिप्‍पणियां:

  1. जिसे तुम राख मान रहे हो
    उसके अन्दर अब भी चिंगारी है
    संस्कारों के पदचिह्न आज भी हैं,
    मूल्यांकन की तदबीर आज भी है
    और मानो
    आज भी इसमें ही कशिश है.

    बहुत सुंदर और बिल्कुल सच ,मैं तो सहमत हूं आप से

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच ही आज भी इन सब बातों में बहुत कशिश है ...भले ही लोगों की सोच में बदलाव आया है ...अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  3. आज भी,
    जिसे तुम राख मान रहे हो
    उसके अन्दर अब भी चिंगारी है
    संस्कारों के पदचिह्न आज भी हैं...
    RASHMI JEE,ITNI BEHATAR RACHNA KE LIYE....AAPKI LEKHNI KO SALAAM.

    उत्तर देंहटाएं
  4. हम कितने भी आधुनिक क्यों न हो जाएँ अपने जड़ मूल से कभी अलग नहीं हो पायेंगे.

    बहुत ही अच्छी कविता.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  5. ;जिसे तुम राख मान रहे हो

    उसके अन्दर अब भी चिंगारी है '

    नैराश्य मिटाकर आशा का संचार करती है आपकी सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच ही है वक्त कितना भी बदल जाये ..हमें प्यार की जरुरत हमेशा रहती है.
    सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  7. जिसे तुम राख मान रहे हो
    उसके अन्दर अब भी चिंगारी है
    संस्कारों के पदचिह्न आज भी हैं,
    मूल्यांकन की तदबीर आज भी है
    और मानो
    आज भी इसमें ही कशिश है....

    एकदम सच कहा है ....बहुत ही गहन भावों के साथ बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. जिसे तुम राख मान रहे हो
    उसके अन्दर अब भी चिंगारी है
    संस्कारों के पदचिह्न आज भी हैं,
    मूल्यांकन की तदबीर आज भी है
    और मानो
    आज भी इसमें ही कशिश है....
    बिलकुल सही कहा। अगर जडों की कशिश मर जाये तो पेड सूख जाता है। इस लिये वो अपनी कशिश नही खोता। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  9. जिसे तुम राख मान रहे हो
    उसके अन्दर अब भी चिंगारी है
    संस्कारों के पदचिह्न आज भी हैं,
    मूल्यांकन की तदबीर आज भी है
    और मानो
    आज भी इसमें ही कशिश है.

    कितना बदल जाये ज़माना संस्कारो की जडें आज भी बहुत गहरी हैं। सुन्दर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर दीदी ! कुछ बातें ऐसी होती है जो न बदले तो अच्छा है !

    उत्तर देंहटाएं
  11. जो बातें जीवन के शाश्वत से जुड़ी हैं वे अपने मूल्य को कभी नहीं खोती हैं. ये यथार्थ है और सदैव रहेगा. परिवर्तन होते रहते हैं लेकिन ये ऐसे सत्य हैं जो सदैव ऐसे hi rahenge .

    उत्तर देंहटाएं
  12. इसलिए कहते हैं आशा पर आकाश टिका है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. जिसे तुम राख मान रहे हो
    उसके अन्दर अब भी चिंगारी है
    संस्कारों के पदचिह्न आज भी हैं,
    मूल्यांकन की तदबीर आज भी है
    और मानो
    आज भी इसमें ही कशिश है....

    बिलकुल, वो कशिश आज भी है और संभवत: हमेशा रहेगी कही न कही, किसी न किसी हृदय में|

    उत्तर देंहटाएं
  14. उस कशिश का अंतिम स्वाद ही तो आज भी जीने दे रहा है

    उत्तर देंहटाएं
  15. उस कशिश का अंतिम स्वाद ही तो आज भी जीने दे रहा है

    उत्तर देंहटाएं
  16. वाह जी बहुत ही सुंदर रचना, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  17. हाँ ! सही कहा ..हर चीज़ में कशिश है ..अनमोल वचन

    उत्तर देंहटाएं
  18. "संस्कारों के पदचिह्न आज भी हैं,
    मूल्यांकन की तदबीर आज भी है
    और मानो
    आज भी इसमें ही कशिश है...."

    सच कहा आपने
    आज भी इनमें ही कशिश है
    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  19. संस्कारों के पदचिह्न आज भी हैं,
    मूल्यांकन की तदबीर आज भी है
    और मानो
    आज भी इसमें ही कशिश है....
    bahut hi khoobsurat.....

    उत्तर देंहटाएं
  20. दुनिया कितनी ही बदले ...
    संस्कारों में आज भी कशिश है !

    उत्तर देंहटाएं
  21. जिसे तुम राख मान रहे हो
    उसके अन्दर अब भी चिंगारी है
    संस्कारों के पदचिह्न आज भी हैं,
    मूल्यांकन की तदबीर आज भी है
    और मानो
    आज भी इसमें ही कशिश है.
    .

    बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  22. Haan! Maan liya ...lekin ye bhi maniye duniya ke sabse bade Hippocrates ham hindustaani hai...Bhagat Singh hona chahiye....Lekin mera beta nahi... Kiran bedi ho lekin meri beti nahi....Bhrastachaar khatm ho...lekin hamare ghar se nahi

    Aapke moolyon ka poori tarah se samarthan karte hui sirf apni baat kahi hai

    उत्तर देंहटाएं
  23. अपनी बात अपने परिवेशिये माहौल में कहने का अधिकार हमारा है .... हाँ लिखा मैंने है, मेरा बेटा आर्मी में है (इकलौता) बेटी बहुत पहले से बाहर के सारे काम कर देती है .... माना सुबह से रात तक के तालमेल में अनगिनत परिवर्तन हैं, पर ये भी मानो - सिखलाने का दायित्व हमारा है !

    उत्तर देंहटाएं
  24. जिसे तुम राख मान रहे हो
    उसके अन्दर अब भी चिंगारी है
    संस्कारों के पदचिह्न आज भी हैं..
    bahut achchhi rachna .

    उत्तर देंहटाएं
  25. आज समाज बदलाव के दौर से गुजर रहा है .. ऐसे में संस्कारों के पदचिन्ह पर चलते जाना कोई मामूली बात नहीं है ..
    तभी सार्थक जीवन उदैश्यपूर्ण है.

    बेहद सुन्दर रचना मैम..
    आदर
    रोहित..

    उत्तर देंहटाएं
  26. गुलाम जिंदगी !
    चंद तारीखों में लिपटी
    एक इतिहास जिंदगी !

    अलख जगाती कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  27. जिसे तुम राख मान रहे हो
    उसके अन्दर अब भी चिंगारी है
    संस्कारों के पदचिह्न आज भी हैं,
    मूल्यांकन की तदबीर आज भी है
    और मानो
    आज भी इसमें ही कशिश है....

    रश्मि जी इतनी सुंदर कविता के बेहद आभार. समाज में हो रहे बदलाव पर एक कटाक्ष भी.

    उत्तर देंहटाएं
  28. जिसे तुम राख मान रहे हो
    उसके अन्दर अब भी चिंगारी है
    संस्कारों के पदचिह्न आज भी हैं,
    मूल्यांकन की तदबीर आज भी है
    और मानो
    आज भी इसमें ही कशिश है.
    .
    इन शब्दों पे वाह वाह करना आसान है , इनसे शमा रौशन करना बहुत ही मुश्किल

    उत्तर देंहटाएं
  29. बहुत अच्छी...काश यह ज़रूरतें यूँ ही बनी रहे...हमेशा .

    उत्तर देंहटाएं
  30. जिसे तुम राख मान रहे हो
    उसके अन्दर अब भी चिंगारी है

    नाउम्मीदी के दौर में आशा का उजास फ़ैलाती सुन्दर रचना.
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  31. सही कहा आपने ....मैं सहमत हूँ ! शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  32. मूल्यांकन की तदबीर आज भी है
    और मानो
    आज भी इसमें ही कशिश है....

    बिलकुल सही कही आपने।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  33. जिसे तुम राख मान रहे हो
    उसके अन्दर अब भी चिंगारी है
    संस्कारों के पदचिह्न आज भी हैं,
    मूल्यांकन की तदबीर आज भी है

    एकदम सही...
    बहुत सुंदर...

    उत्तर देंहटाएं
  34. आपकी किसी पोस्ट की हलचल है ...कल शनिवार (५-११-११)को नयी-पुरानी हलचल पर ......कृपया पधारें और अपने अमूल्य विचार ज़रूर दें .....!!!धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  35. बहुत सुन्दर/सार्थक रचना दी...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  36. जिसे तुम राख मान रहे हो
    उसके अन्दर अब भी चिंगारी है

    Adhbhut....

    Bahut sikhne milta hai aapni rachnaon ko padhkar...Dhanyavaad...

    उत्तर देंहटाएं
  37. आज भी ॐ से शुभप्रभात की ज्योत जलती है
    आज भी आशीर्वाद की ज़रूरत है
    आज भी ज़रूरत है उन भावनाओं की
    जो दूसरो की भूख को समझते हैं

    बहुत सुन्दर... सार्थक रचना,
    प्रतिदिन कुछ नया सिखने को मिलता है.... !!

    उत्तर देंहटाएं
  38. जिसे तुम राख मान रहे हो
    उसके अन्दर अब भी चिंगारी है
    संस्कारों के पदचिह्न आज भी हैं,
    मूल्यांकन की तदबीर आज भी है

    बेहतरीन ! इससे अधिक सुन्दर और सकारात्मक कुछ हो ही नहीं सकता ! रश्मि जी बहुत बहुत बधाई आपको इतनी सार्थक एवं अनुपम रचना के लिये ! अति सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  39. सच्चाई और जीवन की असल हकीकत से रुबरू कराती बहुत सुंदर रचना।

    जिसे तुम राख मान रहे हो
    उसके अन्दर अब भी चिंगारी है
    संस्कारों के पदचिह्न आज भी हैं,
    मूल्यांकन की तदबीर आज भी है

    क्या कहने, अच्छा चिंतन

    उत्तर देंहटाएं
  40. वाह! बहुत ही सुन्दर,सार्थक और प्रेरणादायक प्रस्तुति.

    अनुपम प्रस्तुति के लिए आभार,रश्मिजी.
    मेरे ब्लॉग पर आप आयीं ,इसके लिए भी बहुत बहुत आभार आपका.

    उत्तर देंहटाएं

अक्षम्य अपराध

उसने मुझे गाली दी .... क्यों? उसने मुझे थप्पड़ मारा ... क्यों ? उसने मुझे खाने नहीं दिया ... क्यों ? उसने उसने उसने क्यों क्यों ...