02 मार्च, 2011

भूमिका कैसी !



तुम्हारे माथे पर उभरे स्वेद कण
तुम्हारी आवाज़ का कम्पन
तुम्हारी लम्बी साँसें
और इर्द गिर्द मकड़ी के जाले
और ......
इस और के मध्य कई एहसास हैं
कुछ कहे कुछ अनकहे
पर जो भी है
पसीनों की बूंदों संग बह रहा है !
मैं चाहती हूँ इन कणों को आँचल में भरना
सच की मौन दृष्टि से साँसों को थामना
लेकिन इस जाल को हटाना तुम्हारे ऊपर है
जब तक इसे हटाओगे नहीं
प्रश्नों के उत्तर मिलेंगे नहीं
और सबकुछ करके भी
नगण्य कहे जाओगे !
हाँ हाँ आसान है कहना ,
कि 'सब ठीक है '
भूलो मत गुरु की वाणी
.... गुरु ने कभी नहीं कहा
कि सबकुछ समय पर छोड़ दो
और खुद को बीमार कर लो !
.... पौधों को दीर्घायु बनाने की खातिर
कीटनाशक दवा भी देनी होती है
तेज धूप , गर्म हवा , आँधी तूफ़ान से
बचाना होता है
याद रखो ...
सकारात्मक सुबह के लिए
अक्सर सकारात्मक कदम ही उठाने होते हैं
ज़बरदस्ती भूखे रहकर तो हम
भगवान् की आराधना भी मन से नहीं कर पाते
फिर जिस जीवन चक्र को ईश्वर ने बारीकी से बनाया है
उसे झूठी हँसी से सकारात्मक बनाना मुमकिन नहीं
.....
भूमिका तो वे बनाते हैं जिन्हें ज़मीन खींचनी होती है
जिनकी ज़मीन है
उनके लिए भूमिका कैसी !

32 टिप्‍पणियां:

  1. मैं चाहती हूँ इन कणों को आँचल में भरना
    सच की मौन दृष्टि से साँसों को थामना
    लेकिन इस जाल को हटाना तुम्हारे ऊपर है
    जब तक इसे हटाओगे नहीं
    प्रश्नों के उत्तर मिलेंगे नहीं
    और सबकुछ करके भी
    नगण्य कहे जाओगे !

    गहन भावों के साथ विचारात्‍मक प्रस्‍तुति ....।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच कहा आपने, जिनकी जमीन है उन्हें भूमिका की आवश्यकता नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. भूलो मत गुरु की वाणी
    .... गुरु ने कभी नहीं कहा
    कि सबकुछ समय पर छोड़ दो
    और खुद को बीमार कर लो !
    .... पौधों को दीर्घायु बनाने की खातिर
    कीटनाशक दवा भी देनी होती है
    तेज धूप , गर्म हवा , आँधी तूफ़ान से
    बचाना होता है |
    फिर से वेसी ही रचना जैसे हमारे जीवन से हमी को अवगत करवा रही हो |
    और कह रही अब तो आँखे खोलो उठो और देखो अभी भी समय है जाग जाओ
    खुद को पहचान लो और एक सकारात्मक विचार के साथ जीवन को जीना शुरू कर दो
    खुद भी जिओ और हमे भी जीने दो |
    बहुत खुबसूरत रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  4. सारी जिन्‍दगी भूमिका की तलाश ही तो है। किसी को जल्‍दी मिल जाती है,किसी को देर से, तो कोई तलाशता ही रहता है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुन्दर लगे आपके विचार! आभार

    उत्तर देंहटाएं
  6. ज़बरदस्ती भूखे रहकर तो हम
    भगवान् की आराधना भी मन से नहीं कर पाते

    fir bhi didi sau pratishat nariyan vrat rakh kar bhagwan ko khush karne ki koshish karti hai..:)

    waise kavita ke liye kya kahun, wo to ham jaiso ke comment ka mohtaz hai hi nahi...:D

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूब ....शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  8. आखिरी पंक्तियों में बहुत वजन है...शानदार.

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (2-3-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  10. मैं चाहती हूँ इन कणों को आँचल में भरना
    सच की मौन दृष्टि से साँसों को थामना
    लेकिन इस जाल को हटाना तुम्हारे ऊपर है
    जब तक इसे हटाओगे नहीं
    प्रश्नों के उत्तर मिलेंगे नहीं
    और सबकुछ करके भी
    नगण्य कहे जाओगे !

    kab tak sirf ek tarfa koshishen ek rishte ko sehatmand zindagi de sakti hain? na jaane kabhi prashno ke uttar milenge ya nahi....

    hamesha ki tarah dil ko chhooti rachna!

    उत्तर देंहटाएं
  11. bahut sunder ....
    aap apni rachna post karte vakt mujhe mail kare please..

    उत्तर देंहटाएं
  12. भूमिका तो वे बनाते हैं जिन्हें ज़मीन खींचनी होती है
    जिनकी ज़मीन है
    उनके लिए भूमिका कैसी !

    ये पंक्तियाँ बहुत ही अच्छी लगीं .

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  13. सकारात्मक सुबह के लिए
    अक्सर सकारात्मक कदम ही उठाने होते हैं--

    Bahut hi sundar Rashmi ji

    उत्तर देंहटाएं
  14. Phir baato baato main bahut kuch samjha diya... Love U Maa..!

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुंदर कविता, धन्यवाद
    महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  16. भूमिका वे बनाते हैं , जिन्हें जमीन खींचनी होती है
    जिनकी भूमि है उनकी भूमिका कैसे ...
    सकारात्मक सुबह के लिए सकारात्मक कदम ही उहने पड़ते हैं ....
    बहुत सही !

    उत्तर देंहटाएं
  17. इस और के मध्य कई एहसास हैं
    कुछ कहे कुछ अनकहे
    पर जो भी है
    पसीनों की बूंदों संग बह रहा है !
    मैं चाहती हूँ इन कणों को आँचल में भरना
    सच की मौन दृष्टि से साँसों को थामना

    बहुत सुन्दर विचार और तदोपरी सुन्दर पंक्तियाँ !

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सुन्दर प्रस्तुति|
    महाशिवरात्री की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    उत्तर देंहटाएं
  19. हौसला बढ़ाती पंक्तियां ....बहुत सुन्दर ।

    उत्तर देंहटाएं
  20. सकारात्मक सुबह के लिए
    अक्सर सकारात्मक कदम ही उठाने होते हैं
    बहुत सुन्दर सन्देश देती पँक्तियाँ। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  21. मैं चाहती हूँ इन कणों को आँचल में भरना
    सच की मौन दृष्टि से साँसों को थामना
    लेकिन इस जाल को हटाना तुम्हारे ऊपर है
    जब तक इसे हटाओगे नहीं
    प्रश्नों के उत्तर मिलेंगे नहीं
    और सबकुछ करके भी
    नगण्य कहे जाओगे !

    बहुत खुबसूरत

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत कुछ है इस कविता में... कुछ विरोध, कुछ अहसास, कुछ अनकही बातें, कोई अजीब-सी चुप्प, और एक जिद...
    पता नहीं की मै इसे समझ पाई या नहीं, पर जितना समझा वो ये की शब्दों से भी गहरे भाव हैं इसमें... और बहुत कुछ है जो पंक्तियों के बीच में लिखा है... जो दिख नहीं रहा...

    उत्तर देंहटाएं
  23. सकारात्मक सुबह के लिए
    अक्सर सकारात्मक कदम ही उठाने होते हैं

    sahmat.

    उत्तर देंहटाएं
  24. पौधों को दीर्घायु बनाने की खातिर
    कीटनाशक दवा भी देनी होती है
    तेज धूप , गर्म हवा , आँधी तूफ़ान से
    बचाना होता है..

    सकारात्मक सोच को देती सुन्दर अभिव्यक्ति ....रचना की तारीफ के लिए भी भूमिका कैसी ...बहुत सुन्दर आपकी बात मन तक पहुंची

    उत्तर देंहटाएं
  25. याद रखो ...
    सकारात्मक सुबह के लिए
    अक्सर सकारात्मक कदम ही उठाने होते हैं
    ज़बरदस्ती भूखे रहकर तो हम
    भगवान् की आराधना भी मन से नहीं कर पाते
    फिर जिस जीवन चक्र को ईश्वर ने बारीकी से बनाया है
    उसे झूठी हँसी से सकारात्मक बनाना मुमकिन नहीं
    .....
    sach me aisa asar kar gai hai ye line ki puchhiye na didi.
    bahut-2 badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  26. आपके भाव अति उत्तम और हृदयग्राही हैं जो सकारात्मक सोच का परिणाम हैं.आपकी इस सुंदर पोस्ट के लिए बहुत बहुत आभार .'मनसा वाचा कर्मणा' पर आपका हार्दिक स्वागत है .

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत गहरे भाव, उत्तम प्रस्तुति केलिए बधाई!

    उत्तर देंहटाएं

रामायण है इतनी

रूठते हुए  वचन माँगते हुए  कैकेई ने सोचा ही नहीं  कि सपनों की तदबीर का रुख बदल जायेगा  दशरथ की मृत्यु होगी  भरत महल छोड़  स...