15 नवंबर, 2012

ग़लतफ़हमी ना हो :)

मेरा नेट बहुत स्लो है :( .... देखते रहो .... 
तो पढ़ना -लिखना कठिन है .मैं कामयाब कोशिश में रहूंगी,इत्तिला कर दूँ ताकि ग़लतफ़हमी ना हो :) इसी सूचना में एक घंटे से लगी हुई हूँ 

22 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी कोशिश कामयाब हो ब्यवस्था के विरुद्ध हर जगह संघर्ष हमारी नियति बन चुकी है ..आदरणीय बहन को हार्दिक शुभ कामनाएं !!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. जानते हैं दी....देर सवेर आपका स्नेह और आशीर्वाद मिलेगा ज़रूर..... <3

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. ha intazaar to karungaa hi ...jab aapka man hoga tabhi to likhengi ...shubh kamna rashmi prabha ji

    उत्तर देंहटाएं

  4. आज नेट आप पर मेहरबान हो गया .... बहुत झुंझलाहट होती है :(

    उत्तर देंहटाएं

  5. आज नेट आप पर मेहरबान हो गया .... बहुत झुंझलाहट होती है :(

    उत्तर देंहटाएं
  6. हम प्रतीक्षारत हैं...........

    उत्तर देंहटाएं
  7. कभी-कभी ऐसा भी हो जाता है!
    --
    भइयादूज की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  8. मुझे लगता है आपके ब्‍लाग में कुछ तकनीकी दिक्‍कत है। वह खुलता भी बहुत देर में है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. मुझे लगता है आपके ब्‍लाग में कुछ तकनीकी दिक्‍कत है। वह खुलता भी बहुत देर में है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. मुझे लगता है आपके ब्‍लाग में कुछ तकनीकी दिक्‍कत है। वह खुलता भी बहुत देर में है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. मुझे लगता है आपके ब्‍लाग में कुछ तकनीकी दिक्‍कत है। वह खुलता भी बहुत देर में है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. मुझे लगता है आपके ब्‍लाग में कुछ तकनीकी दिक्‍कत है। वह खुलता भी बहुत देर में है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. नेट का ध्यान रखें . बच्चों की तरह देखभाल करनी पड़ती है. :)

    उत्तर देंहटाएं
  14. नेट वाला चक्कर बहुत खराब हैः)

    उत्तर देंहटाएं
  15. ... मैं कामयाब कोशिश में रहूंगी
    जल्‍द ही सफल हों आप ...
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  16. कोई बात नहीं इंतजार करेंगे....
    :-)

    उत्तर देंहटाएं

शाश्वत कटु सत्य ... !!!

जब कहीं कोई हादसा होता है किसी को कोई दुख होता है परिचित अपरिचित कोई भी हो जब मेरे मुँह से ओह निकलता है या रह जाती है कोई स्तब्ध...