11 फ़रवरी, 2013

चलो एक डायरी बनायें



चलो यादों की एक डायरी बनायें 
कुछ टिकोले कुछ कच्चे अमरुद में 
थोड़ी सी नमक मिलाएं ...
आँखें बंद 
और 20 25 साल .... नहीं नहीं 
उम्र के हिसाब से मन को पीछे ले जाएँ :)
बड़ा सा खुला मैदान 
हरी हरी घासें 
बीच बीच में साफ़ सुथरी मिटटी का हिस्सा 
उसमें लकीरें बनायें 
इक्कट दुक्कट खेलें 
घास पर बैठकर रुमाल चोर खेलें 
हार जाने पर दिल खोलकर झगड़ें 
बाल खींचें 
हाथ पैर चलायें 
दांत काटने पर अम्मा को बुलाएँ ....
पापा के वादों का पन्ना भी इसमें जोड़ें 
'गलती कबूल कर लेने पे मार क्या 
डांट भी नहीं पड़ेगी' ...
एक बार फिर उनका कीमती चश्मा तोड़ 
गलती कबूल कर 
उनके वादे को भुनाएं :)
....... ओह ! गुस्से से उनकी लाल लाल आँखें 
और वचनबद्ध स्थिति 
आज भी तपती धूप में 
पानी के छींटे सी लगती है 
तो चलो डायरी में कुछ पानी के छींटों को भी जज़्ब करें 
यादों का मीठा एल्बम बना दें उसे ! ...
मउगे के आने का भी एक पन्ना बनायें 
..... मउगा !!! छोटे से बक्से में औरतों के सामन बेचता था 
तो - कौन है ?पूछने पर खुद कहता था - मउगा !
उसका छोटा सा बक्सा एक पिटारा था 
रीबन,बिंदी,क्लिप,नेलपौलिश,सेफ्टीपिन,....
खुशियों का संसार लगता था वो बक्सा 
.... आओ पहले की तरह उसे घेरकर बैठ जाएँ 
वहां से उठकर दहीवाले की हांडी से दही निकालें  
उसके हताश होने पर ठहाके लगायें!
समय की प्रतिकूलता में 
भईया के दूर जाकर पढने से हुई उदासी में 
उसके आने पर बनते मैन्यू की ख़ुशी का पन्ना जोड़ें 
क्रिकेट न आने पर भी 
क्रिकेट खेलते हुए 
उसकी कैप्टेन होने का भी रूतबा जोड़ें :)
...
भैंस पर रोते हुए चरवाहे की गालियाँ 
निम्बू के फांक से लेमनचूस 
आम की गुठली को सफ़ेद करना 
.... फिर ....
उस जगह से दूसरी जगह जाना 
उमड़ता समूह 
राम वनवास की ही याद दिला गया था !
करीने से इन सबको जोड़ना है 
यूँ जुड़े ही हैं 
पर एक यात्रा डायरी बनाने की कर लें 
तो हर्ज़ ही क्या है !
छोटे छोटे गम 
छोटी छोटी खुशियाँ 
आँखों को नमी 
होंठों को जो मुस्कान देती हैं 
वे अनमोल होती हैं 
.....
मुझे अपने घर का फ्रेम कैद करना है 
क्रिकेट बॉल 
तमतमाए लड़े हुए चेहरे 
बेफिक्र हंसी 
बिछावन पर खाना 
नए कैसेट लाना 
...ओह !
ये दिन बदल जायेंगे 
तब कहाँ लगता था 

खैर!

तुम अपनी डायरी बनाओ 
मैं अपनी डायरी में लग जाती हूँ 
बहुत बड़ा काम है यह 
कितनी बातें कोने में अभी भी छुपी हैं 
खोजना है आइस बाइस करके 
....... :)
यादों की खूबसूरत विरासत सी डायरी के लिए 
चलो एक बार जमके खेलते हैं पीछे के मैदान में 
..............
..............
..........

38 टिप्‍पणियां:

  1. :) सच बहुत बड़ा काम है ये डायरी बनाना ... कितना कुछ याद आएगा इसमें लिखना .... मुझे तो गिल्ली डांडा याद आ रहा है :):) और गिट्टे खेलना

    उत्तर देंहटाएं
  2. यादों की खूबसूरत विरासत सी डायरी के लिए
    चलो एक बार जमके खेलते हैं पीछे के मैदान में
    ...ji bilkul bhaut bada kaam h...sab kuch ek sath ek dayri me bandh dena....kuch muskil kaam hi kara jaaye.....bhaut accha kaam diya apne ham sab ko...

    उत्तर देंहटाएं
  3. यादों की खूबसूरत विरासत सी डायरी के लिए
    चलो एक बार जमके खेलते हैं पीछे के मैदान में
    ...ji bilkul bhaut bada kaam h...sab kuch ek sath ek dayri me bandh dena....kuch muskil kaam hi kara jaaye.....bhaut accha kaam diya apne ham sab ko...

    उत्तर देंहटाएं
  4. करोगे याद तो हर बात याद आयेगी
    गुजरते वक्त की हर मौज ठहर जायेगी

    उत्तर देंहटाएं
  5. ...ओह !
    ये दिन बदल जायेंगे
    तब कहाँ लगता था ....

    क्या क्या याद दिलाते गीत !

    उत्तर देंहटाएं
  6. अतीत के अंधेरों में दबी पडी पुरानी यादों की पोटली को बरबस ही बाहर खींच लाई हैं आप रश्मिप्रभा जी ! सब कुछ आँखों के सामने घूम गया है और मैं एक मुग्ध दर्शक बनी उस मनमोहक चलचित्र को बस देखे ही जा रही हूँ ! मीडास टच वाली बहुत ही खूबसूरत रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  7. यादों की खूबसूरत विरासत ...जिसका हर दृश्‍य जीवंत हो उठा आपकी कलम से ...
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  8. कितनी खूबसूरत और मासूम यादें हैं!:)
    यादों की पूँजी कभी ख़त्म नहीं होती... दिन-ब-दिन बढ़ती ही जाती है...
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. :-)

    हमारे बाद जो हमारी डायरी पढ़ेगा वो कहेगा पागल थी कोई :-)

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  10. यादों की खूबसूरत विरासत सी डायरी के लिए
    चलो एक बार जमके खेलते हैं पीछे के मैदान में
    ..............
    ओह बहुत सुन्दर ... :)

    उत्तर देंहटाएं
  11. यादों की रील खोलते जाओ तो सिमटने को नहीं आती...पर कितना सुखद आश्चर्य नहीं है यह कि सबकी यादें भी सांझी हैं..सबके सुख-दुःख की तरह..

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपकी कई यादेँ तो हूबहू ..मुझे अचानक अपना बचपन (गर्मीयोँ कि छुट्टीयाँ ,ददिहाल, दादी,खेल और भी बहुत मीठी यादेँ) याद आ गया :)

    उत्तर देंहटाएं
  13. डायरी के हर पन्ने पर फिर से जीते उन्ही लम्हों को..

    उत्तर देंहटाएं
  14. और धीरे धीरे, लिखते लिखते, सारे पन्ने भर जायें।

    उत्तर देंहटाएं
  15. यादों को संजोये खूबसूरत डायरी,बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  16. टिकोरे पर नमक लगा कर खाना , मुंह में पानी आ गया .
    इस डायरी में जोड़ लूं , गन्ने को दांतों से छिल कर खाना इतना , की होठों के किनारे ही छिल जाए ..
    क्या क्या याद दिलाती है आप !

    उत्तर देंहटाएं
  17. सीधे बचपन में पंहुचा दिया आपकी रचना ने ...बहुत अच्छा रिवर्स गेयर लगाया है रश्मि जी!

    उत्तर देंहटाएं
  18. अरे ये क्या किया आपने ??
    जाने क्या क्या याद दिला दिया.

    उत्तर देंहटाएं
  19. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि कि चर्चा कल मंगलवार 12/213 को चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहां स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  20. आज हालत ये है कि‍ मन को पीछे ले जाना भी काम हो गया है

    उत्तर देंहटाएं
  21. सुंदर पंक्तियाँ..... सच में और फिर जीवन जी जाएँ , एक डायरी बनाये

    उत्तर देंहटाएं
  22. स्मृति पटल से समस्त बचपन होकर गुज़र गया. सुन्दर अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  23. यादों की खूबसूरत विरासत सी डायरी के लिए
    चलो एक बार जमके खेलते हैं पीछे के मैदान में.....bhali kahi....jo jogi ko bhave,wahi vaid fharmave.....

    उत्तर देंहटाएं
  24. सच कितना कुछ है यादों में......बहुत ही खुबसूरत पोस्ट।सच कितना कुछ है यादों में......बहुत ही खुबसूरत पोस्ट।

    उत्तर देंहटाएं
  25. अतीत ही नहीं जमीने से भी जोड़ रहती है डायरी, बशर्ते डायरी लिखने में ईमानदारी बरती गई हो।

    बहुत सुंदर रचना
    बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत खूबसूरत है आपकी डायरी ... बीते समय की हर एक बात ताज़ा हो गई लगा जैसे कल की ही बात हो...

    उत्तर देंहटाएं
  27. गुज़रे समय में लौटना ... सुखद रहता है हमेशा ...

    उत्तर देंहटाएं
  28. आपको जनम दिन की बहुत बहुत बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  29. बहुत सुंदर रचना
    दी को जन्मदिन की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनायें!
    सादर..

    उत्तर देंहटाएं
  30. जन्मदिन के दिन आपको बचपन याद आ रहा है ....!!
    बचपन याद दिलाती सुंदर अभिव्यक्ति .....!!
    मन तरो ताज़ा कर गयी ....

    उत्तर देंहटाएं
  31. आपकी डायरी में मेरा एक पन्ना
    "मउगा "की तरह दादा जी की कचहरी में ताला लगी हुई पेटी का रहस्य जानने की उत्सुकता हमेशा बनी रहती ।
    जब भी दादा नहाने जाते उनके जनेऊ में लटकी चाबी को ललचाई नजरो से देखना ,क्योकि पाँच पैसे ,दवात स्याही ,खाने की मीठी सुपारी ,हवाबान हरड ,माचिस की तीलिया और न जाने कितनी चीजे उस चाबी में नजर आती ।

    उत्तर देंहटाएं
  32. आपकी डायरी में मेरा एक पन्ना
    "मउगा "की तरह दादा जी की कचहरी में ताला लगी हुई पेटी का रहस्य जानने की उत्सुकता हमेशा बनी रहती ।
    जब भी दादा नहाने जाते उनके जनेऊ में लटकी चाबी को ललचाई नजरो से देखना ,क्योकि पाँच पैसे ,दवात स्याही ,खाने की मीठी सुपारी ,हवाबान हरड ,माचिस की तीलिया और न जाने कितनी चीजे उस चाबी में नजर आती ।

    उत्तर देंहटाएं
  33. मेरी भी डायरी है
    हम भी लिख रहें है ....आपकी तरह अपनी यादों को :)

    उत्तर देंहटाएं
  34. बचपन के दिनों का बहुत ही सुन्दर वर्णन...
    सुन्दर सा अहसास लिए...सुन्दर रचना...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं

शाश्वत कटु सत्य ... !!!

जब कहीं कोई हादसा होता है किसी को कोई दुख होता है परिचित अपरिचित कोई भी हो जब मेरे मुँह से ओह निकलता है या रह जाती है कोई स्तब्ध...