23 अप्रैल, 2013

या फिर लिखते रहो यूँ ही कुछ कुछ -



धूल से सने पाँव 
एक दूसरे के बाल खींचते हाथ 
तमतमाए चेहरे 
कान उमेठे जाने पर 
अपमानित चेहरा 
और प्रण लेता मन .... अगली बार देख लेंगे ....
भाई-बहन के बीच का यह रिश्ता 
कुछ खट्टा कुछ मीठा 
कितना जबरदस्त !....
शैतानियों के जंगल से 
अगले कारनामे की तैयारी कितने मन से होती थी !
......
फिर स्कूल,कॉलेज,किसी की नौकरी,किसी की शादी 
..... कुछ उदासी,कुछ अकेलापन 
तो रहने लगा छुट्टियों का इंतज़ार 
छोटी छोटी लड़ाइयाँ 
अकेले होने का डर 
फिर भी शिकायतों की पिटारी .... अगली छुट्टी के लिए !

फिर अपना घर,अपनी परेशानी 
आसान नहीं रह जाती ज़िन्दगी उतनी 
जितनी माँ के आँचल में होती है 
एक नहीं कई तरफ दृष्टि घुमानी होती है 
कभी घर,कभी ऑफिस,कभी थकान,कभी बच्चों का स्कूल ....
बचपन से बड़े होने के लम्बे धागे में 
जाने कितने लाल,हरे,नीले,पीले कारण गूंथते जाते हैं 
.........
समय हवाई जहाज बन उड़ता है 
बिना टिकट हमें उसके साथ उड़ना होता है 
न बारिश,न धुंध,.... कोई समस्या समय के आगे नहीं 
उसकी मर्ज़ी -
वह उड़ाता जाए 
और अचानक उतार दे 
उसके बाद ?
डरने से,सिहरने से भी क्या 
यादों के बीच मुस्कुराते हुए 
बहुत कुछ याद कर आंसू बहाते हुए 
हम कितने बेबस होते हैं ....
यह भी ज़रूरी है - वह भी ज़रूरी है के जाल में फंसकर 
हम दूर हो जाते हैं 
छुट्टियों के इंतज़ार के मायने भी खो जाते हैं 
रह जाता है एक शून्य 
जिसमें रिवाइंड,प्ले चलता है 
मन को उसमें लगाना पड़ता है ............

या फिर लिखते रहो यूँ ही कुछ कुछ - 


41 टिप्‍पणियां:

  1. छुट्टियों के इंतज़ार के मायने भी खो जाते हैं
    रह जाता है एक शून्य
    जिसमें रिवाइंड,प्ले चलता है
    मन को उसमें लगाना पड़ता है ............,बहुत सुंदर प्रस्तुति,,,RECENT POST: गर्मी की छुट्टी जब आये,

    उत्तर देंहटाएं
  2. पढ़ कर मज़ा आ गया
    कुछ भुला याद आया
    कुछ सपना बुना गया

    उत्तर देंहटाएं
  3. कुछ खट्टा कुछ मीठा
    कितना जबरदस्त !....
    शैतानियों के जंगल से
    होकर जब भी गुजरते
    एक आवाज़ माँ की भी
    आती साथ में .... तुम सब मिलकर ...
    ....... जाने क्‍या - क्‍या
    उफ्फ !!! ये कलम भी कभी - कभी लिखती रहती है जाने कितना कुछ :)
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  4. पहले बनते हैं ख्याली पुलाव फिर फुर्र से उड़ जाता है समय ... फिर इंतज़ार शिलाय्तीं का सिलसिला अगली छुट्टियों के आने तक .. यही तो सिलसिला है ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. जीवन को माला में पिरो कर रख दिया और एक दृष्टि डाली तो सब कुछ सामने घूमने लगा । यही तो है डूबते तिरते हुए पूरा जीवन ऐसे चलता रहता है .

    उत्तर देंहटाएं
  6. या फिर लिखते रहो यूँ ही कुछ कुछ - bahut kboob

    उत्तर देंहटाएं
  7. यादों के बीच मुस्कुराते हुए
    बहुत कुछ याद कर आंसू बहाते हुए
    हम कितने बेबस होते हैं ....
    ...........पर यादों के पंख लगा उड़ लेते है ..
    कुछ चुन लेते है कुछ देते हैं बिखेर .....जो रहते हैं उगते देर सवेर ......यूँ रहता है बदलता ..समय का फेर .....हो जाते हैं एक दिन .....

    बहुत सुंदर दी ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. यादों के बीच मुस्कुराते हुए
    बहुत कुछ याद कर आंसू बहाते हुए
    हम कितने बेबस होते हैं ....
    ..sacchi bat .....mera blog aapke intjaar me hai ..rashmi jee ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. सही में रश्मि जी ... बचपन की याद दिला दी आपकी काविता ने ... बेहद मर्मस्पर्शी !

    उत्तर देंहटाएं
  10. दीदी,
    पिछले एक साल से आपकी कविता में व्यक्त एक-एक घटनाओं और भावों के जी रहा हूँ... सिर्फ मैं ही क्यों मेरा पूरा परिवार.. और अफसोस तो इस बात का रहा कि कुछ लिख भी नहीं पाया इस दौरान..
    खैर अब बस कुछ दिनों का इनतज़ार है..

    उत्तर देंहटाएं
  11. आज की ब्लॉग बुलेटिन बिस्मिल का शेर - आजाद हिंद फौज - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  12. फिर अपना घर,अपनी परेशानी
    आसान नहीं रह जाती ज़िन्दगी उतनी
    जितनी माँ के आँचल में होती है
    एक नहीं कई तरफ दृष्टि घुमानी होती है-----

    बचपन जवानी फिर बुढ़ापा जीवन तैरता रहता है छेद वाली
    नांव में डूबता उतराता
    गहन अर्थों की सहज रचना
    उत्कृष्ट प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  13. आप की भावनाये....बहुत कुछ महसूस करा जाती हैं .
    बचपन से बुढ़ापे तक का सफ़र तय करी दिया आपने !
    आभार!
    शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  14. काश बचपन को रोक पाते सदा के लिए....
    और छुट्टियों को भी :-)
    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  15. इन यादों के बीच एक मीठी सी याद, जब माँ कहती जो दोपहर को सोयेगा उठने पर जलेबी मिलेगी. और वो झूठा सोने का बहाना...
    रह जाता है एक शून्य
    जिसमें रिवाइंड,प्ले चलता है
    मन को उसमें लगाना पड़ता है ............

    या फिर लिखते रहो यूँ ही कुछ कुछ -

    उत्तर देंहटाएं
  16. भाई-बहन के बीच का यह रिश्ता
    कुछ खट्टा कुछ मीठा
    कितना जबरदस्त !....
    सुन्दर रचना ...बचपन के वे सारे लम्हे याद आते गए !

    उत्तर देंहटाएं
  17. उन्ही यादों से बार-बार खुशियाँ को ढूंढ कर निकालना होता है. वर्ना उम्र के साथ कितनी चिंताएं आ जाती हैं. दो पल चैन से सांस लेने की मोहलत नहीं.

    उत्तर देंहटाएं
  18. खो जाते हैं वे दिन , वो शाम और वो बातें,बस फिर यादों में वही खट्टा मीठापन ...
    रुकना जीवन ही भी तो नहीं !

    उत्तर देंहटाएं
  19. जीवन चक्र शब्दों में ...
    बहुत सुंदर ...

    उत्तर देंहटाएं
  20. माँ का आंचल ही तो है सबसे सुखद ... सुंदर रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  21. यह भी ज़रूरी है - वह भी ज़रूरी है के जाल में फंसकर
    हम दूर हो जाते हैं

    और बच्चे भी बड़े हो कर कब अपने संसार में खो जाते हैं ... बहुत सुंदर रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  22. समय हवाई जहाज बन उड़ता है
    बिना टिकट हमें उसके साथ उड़ना होता है.....bilkul sahi.....

    उत्तर देंहटाएं
  23. ये ही एक सच्चे रिश्ते की मिठास है जो हमेशा बनी रहती है

    उत्तर देंहटाएं
  24. देर बाद हाजरी लगी है वो भी ऐसे खूबसूरत एहसास के साथ, मंज़ूर करना !

    उत्तर देंहटाएं
  25. छुट्टियों के इंतज़ार के मायने भी खो जाते हैं
    रह जाता है एक शून्य
    जिसमें रिवाइंड,प्ले चलता है
    मन को उसमें लगाना पड़ता है ............


    रिश्तों और भावनाओं का अपना महत्व है. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  26. बस खुद को ही तो बहलाना है...

    उत्तर देंहटाएं
  27. एक खूबसूरत रिश्ते की बारीकियों को काफ़ी सहजता और खूबसूरती के साथ प्रस्तुत किया है
    इस सुंदर रचना के लिए आभार
    आपके विचारों के इंतज़ार में
    http://yugeshkumar05.blogspot.in/2013/03/blog-post.html

    उत्तर देंहटाएं
  28. एक खूबसूरत रिश्ते की बारीकियों को काफ़ी सहज़ता और खूबसूरती के साथ बयाँ किया ह आपने,
    इस खूबसूरत रचना के लिए आभार/
    आपके विचारों के इंतज़ार में-
    http://yugeshkumar05.blogspot.in/2013/03/blog-post.html

    उत्तर देंहटाएं
  29. पढ़कर लगा जैसे आपने मेरे मन की बात समझकर उतार लिया शब्दों में ...
    अपने को तो कभी छुट्टी मिलती ही नहीं ....
    बहुत सुन्दर रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  30. पढ़कर लगा जैसे आपने मेरे मन की बात समझकर उतार लिया शब्दों में ...
    अपने को तो कभी छुट्टी मिलती ही नहीं ....
    बहुत सुन्दर रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  31. सच है, ज़िंदगी फ़ास्ट फोर्वार्ड बीतती है और बाद में एक ऐसा वक़्त आता है जब यादों को रिवाइंड करके समय बीताना पड़ता है या लिखते रहो कुछ कुछ. बस आने ही वाला है ऐसा वक़्त... बहुत भावपूर्ण रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  32. यादों का सुनहरा जाल..बहुत सुन्दर रचना ...रश्मि जी..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  33. जीवन यही तो है ...
    मंगल कामनाएं रश्मिप्रभा जी !

    उत्तर देंहटाएं
  34. समय के साथ साथ थोड़ी दूरियाँ तो बढ़ती है पर दिल का डोर तो बंधा ही रहता है
    जो बरबस खींच लाता है हमें फिर से उन्ही मीठे पलों में
    सादर!

    उत्तर देंहटाएं

मृत्यु को जीने का प्रयास

मौत से जूझकर जो बच गया ... उसके खौफ, इत्मीनान, फिर खौफ को मैं महसूस करती हूँ ! कह सकती हूँ कि यह एहसास मैंने भोगा है एक हद तक ...