07 अप्रैल, 2013

सच कुछ भी नहीं




जब ज़िन्दगी ठहर जाती है 
नदी किनारों से परे 
बेवजह कलकल करती है 
तो न सन्नाटे बोलते हैं 
न शोर ही सुनाई देता है ...
उपदेशकों की भीड़ 
और तन्हा मन -
कोई चेहरा भी दिखाई नहीं देता .
चीख बुझ गई है 
आग रुक गई है 
किसी का कोई इंतज़ार नहीं !
मोह की बेड़ियाँ तो अब स्वतः खुलने लगी हैं 
कभी पूछ बैठूँ 
कि कौन हो तुम ....
तो हँसना मत 
अब हँसी भी मुझे दिखाई सुनाई नहीं देती !
आवारा सड़कों से दूर 
सभ्यता से भरे कमरे में 
मैं ढूंढती रही वह लफ्ज़ 
जो मुझे सुकून दे सके 
अब तो आईने ने भी मुझे दिखाना बंद कर दिया है !
क्यूँ घूर रहे मुझे ?
विश्वास नहीं होता ?
चलो छोड़ो -
इस विश्वास,अविश्वास से भी कुछ नहीं होता 
सच कुछ भी नहीं  
शायद आत्मा की अमरता भी छलावा है 
सिर्फ छलावा !!!

45 टिप्‍पणियां:

  1. kash yeh jindgi apne hone ka sabab janti .kuch ham use mante kuch woh hame manti .......nice post

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच कुछ भी नहीं.....

    वाकई...शायद???

    उलझ गयी हूँ..

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये पंक्तियाँ, ये उदासी मैंने आपके शब्दों में पहली बार देखी है। आप तो वो हीरे की चमक हैं, जिनकी रौशनी से न जाने कितने लोगों का अंतस उज्जवल है ... और ये रोशनी छलावा नहीं, इसका यकीन है हमें।
    सादर
    मधुरेश

    उत्तर देंहटाएं
  4. आवारा सड़कों से दूर
    सभ्यता से भरे कमरे में
    मैं ढूंढती रही वह लफ्ज़
    जो मुझे सुकून दे सके

    कहीं मेरे मन की आवाजें तो आप तक नहीं पहुँच गयीं ! ऐसा लगता है मेरे अंतर की प्रतिध्वनियाँ आपकी रचना से सुनाई दे रही हैं ! बहुत सुंदर !

    उत्तर देंहटाएं
  5. ये क्या हुआ हुआ , कैसे हुआ , क्यों हुआ कब हुआ ....
    भूल कर भी हो मुश्किल भुलाना , यह जो याद था कि किसी को भुलाया !

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस विश्वास,अविश्वास से भी कुछ नहीं होता
    सच कुछ भी नहीं
    शायद आत्मा की अमरता भी छलावा है
    सिर्फ छलावा !!!

    बहुत बड़ी बात कह जी आपने...अनुभूतियों की इतनी गहराई में कैसे उतर जाती हैं आप..?

    उत्तर देंहटाएं
  7. ये छलावा है याकि एक खूबसुरत मजाक हमसे..

    उत्तर देंहटाएं
  8. ऐसे लम्हात आते है कि एक धुंधलका सा आता है लेकिन वो हट भी जाता है. आखिर वो सच है, झूठ नहीं. सत्य , सत्य है अचल, अटल. दो शेर याद आ रहे हैं. एक श्री आदित्य पन्त का लिखा हुआ है और दूसरा कृष्ण बिहारी नूर का. आपसे साझा करता हूँ.

    लब-ऐ-खामोश में पिन्हा है कोई राज़ नहीं
    ज़िन्दगी साज़ है जिसमे कोई आवाज़

    रू-ब-रू आईने के होता हूँ तो दिखता है मुझे
    अजनबी शख्स जो हमशक्ल ओ हमआवाज़ नहीं

    (आदित्य पन्त )

    सच घटे या बढे तो सच न रहे
    झूठ की कोई इन्तेहा ही नहीं.

    (कृष्णा बिहारी नूर)

    गहरी रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  9. इस विश्वास,अविश्वास से भी कुछ नहीं होता
    सच कुछ भी नहीं
    शायद आत्मा की अमरता भी छलावा है
    सिर्फ छलावा !!!
    जब मन गहन निराशा में हो तो ऐसा लगना स्वाभाविक है ! आत्मा की अजर अमरता की बात ही छोड़िए उसे कुछ फर्क नहीं पड़ता हमारे मानने न मानने से लेकिन हमें बहुत फर्क पड़ता है ! आज हम है हमारे अपने है यह एक सत्य है कल नहीं होंगे यह भी एक सत्य है क्यों न आज के सत्य के साथ जिया जाय ...सच यही है !

    उत्तर देंहटाएं
  10. माया ही तो है यह जीवन ...
    छल दृष्टि का दिखावा ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. इस उलझन से कोई परे नही है,बहुत ही सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  12. छलावा एक मात्र मन है..और हम हैं कि उसी मन की माने जाते हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  13. आवारा सड़कों से दूर
    सभ्यता से भरे कमरे में
    मैं ढूंढती रही वह लफ्ज़
    जो मुझे सुकून दे सके
    ये तलाश कभी-कभी हर नज़र को होती है ... बेहद गहन भाव रचना के
    सादर

    उत्तर देंहटाएं

  14. आत्मा है? नहीं है? यह तो शाश्वत प्रश्न है.निराशा में अपने अस्तित्व पर प्रश्न चिन्ह लग जाता है. भावपूर्ण प्रस्तुति,आभार
    LATEST POSTसपना और तुम

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार 9/4/13 को चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहां स्वागत है ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. सच कुछ भी नहीं
    शायद आत्मा की अमरता भी छलावा है
    कभी -कभी उलझ जाता है मन इन अनसुलझे सवालों में... गहन भाव... आभार

    उत्तर देंहटाएं
  17. चलो छोड़ो -
    इस विश्वास,अविश्वास से भी कुछ नहीं होता
    सच कुछ भी नहीं
    शायद आत्मा की अमरता भी छलावा है
    सिर्फ छलावा !!!
    ..सच कहा आपने ..जिंदगी में इतना कुछ घटता है आँखों के सामने कि फिर विश्वास,अविश्वास में उलझ जाता है मन ...

    उत्तर देंहटाएं
  18. मन इसी उलझन में उलझा रहता है....आभार

    उत्तर देंहटाएं
  19. जब मन गहन निराशा में हो तो ऐसा लगना स्वाभाविक है !

    RECENT POST: जुल्म

    उत्तर देंहटाएं
  20. sochne ko prerit karti hai... !! kaphi acha likha hai aapne...!!maano to sab kuch hai aur naa maano to kuch bhi nahi jindagi!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  21. aaj to di mere dil ki baat kah di ......pichhle kuch dinon se inhi ahsaason se gujar rahi hun aaj aapne unhein shabd de diya

    उत्तर देंहटाएं
  22. तो न सन्नाटे बोलते हैं
    न शोर ही सुनाई देता है ...
    उपदेशकों की भीड़
    और तन्हा मन -

    बहुत गहरे अर्थ सुन्दर शब्दों में ढले हुए ।

    उत्तर देंहटाएं
  23. Zindagi ke jis pahlu se hum gujar rhe hote hai shyad use hi sachhayi maan lete hain...uljhan to ye sabke man ki hai..
    Gahre bhav lie hue umda rachna.

    Sadar

    उत्तर देंहटाएं
  24. शायद यह छलावा ही ज़िंदगी है जो जीने का हौंसला और निरंतर आगे बढ़ते रहने की प्रेरणा भी देती है साथ ही कहीं हम इसके आदि न हो जाएँ इसलिए वक्त बे वक्त छलती भी रहती है।

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत गहरी रचना.. दिल की गहराइयों में उतर जाती है!!

    उत्तर देंहटाएं
  26. आवारा सड़कों से दूर
    सभ्यता से भरे कमरे में
    मैं ढूंढती रही वह लफ्ज़
    जो मुझे सुकून दे सके

    ...अंतस को छूती पंक्तियाँ...बहुत गहन प्रस्तुति, जीवन की तरह..

    उत्तर देंहटाएं
  27. जब समय ठहरता है तो प्रकृति डुलाती है।

    उत्तर देंहटाएं
  28. कभी कभी लफ्ज भी रूठ जाते हैं जिनसे कुछ सुकून मिलता है ... आपसे तो सब प्रेरणा लेते हैं .... यह छलावा सा क्यों भला ?

    उत्तर देंहटाएं
  29. आत्मा है? या नहीं...? पता नहीं...
    पर...ज़िंदगी के ठहर जाने का दर्द....... कितना दर्दभरा...
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  30. आत्मा है? या नहीं...? पता नहीं...
    पर...ज़िंदगी के ठहर जाने का दर्द....... कितना दर्दभरा...
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  31. बहुत सुन्दर रचना!!!! गहरी रचना .. !!!

    उत्तर देंहटाएं
  32. चीख बुझ गई है
    आग रुक गई है
    किसी का कोई इंतज़ार नहीं !
    मोह की बेड़ियाँ तो अब स्वतः खुलने लगी हैं

    जब ये बेड़ियाँ खुलने लगती है तो कितनी ही चीजें (जो शायद कभी थी ही नहीं) अदृश्य हुए जाती है
    सादर!

    उत्तर देंहटाएं
  33. माया, मोह, मन, विश्वास और जिंदगी का छलावा. जिंदगी की का फलसफा ही इसमें समाहित है. सुंदर प्रस्तुति.

    नवसंवत्सर की शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं

रामायण है इतनी

रूठते हुए  वचन माँगते हुए  कैकेई ने सोचा ही नहीं  कि सपनों की तदबीर का रुख बदल जायेगा  दशरथ की मृत्यु होगी  भरत महल छोड़  स...