08 नवंबर, 2013

अम्मा तुम गीता का एक महत्वपूर्ण पन्ना हो




पहलू ….
किसी का भी एक नहीं होता
कृष्ण के भी कई पहलू हैं
अलग अलग पहलुओं का जिम्मेदार
न भगवान् होता है न इंसान !
कृष्ण के पहलू यशोदा की दृष्टि से जो होंगे
वो नन्द बाबा की दृष्टि से अलग ही होंगे
गोपिकाओं की अपनी बात
राधा का अपना प्रेम
ऊधो का अपना ज्ञान
ताड़का,कंस,शकुनी की अपनी सोच !
दुर्योधन ने तो बाँध लेने की धृष्टता दिखाई
कृष्ण के पहलू को कमज़ोर समझा !!
जिस कृष्ण के आगे पूरी सभा स्तब्ध थी
वहां दुर्योधन ने उन्हें 'ग्वाला' कहकर सोचा
कि वह श्रेष्ठ है !!!
कृष्ण तो गीता हैं
और मेरी अम्मा तुम उस गीता का एक महत्वपूर्ण पन्ना हो
जिसने पढ़ा ही नहीं
वह व्याख्या क्या करेगा
और कितनी करेगा !!!
हम तो गोपिकाओं की तरह तुम्हारी शिकायत भी करते रहे
और रहे प्रतीक्षित
कि कब तुम हमारी मटकी का उद्धार करो
ऊधो का ज्ञान हमारे लिए निरर्थक था
हम तो गोपिकाओं की झिड़कियों पर निहाल थे
…………।

अब जब तुम गोकुल छोड़ गई हो
तो जाना - तुम्हारे बिना कैसे रहेंगे !!!!!!!!!!!!!!!

24 टिप्‍पणियां:

  1. अम्मा कहाँ छोड़ पाती है
    महसूस तो होता रहता है
    कई कई बार जब जरूरत होती है
    वो दूर नहीं कहीं अपने ही
    आस पास होती है
    अम्मा सिर्फ एक पन्ना
    नहीं वो तो पूरी एक गीता होती है !

    उत्तर देंहटाएं
  2. आज ज्यादा कमी खलती है
    अब तो मेरे जाने का दिन आता जा रहा है

    उत्तर देंहटाएं
  3. इन पंक्तियों को पढ़कर अतिवेल नीरवता सी छा गयी है. बिलकुल निशब्द हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  4. कृष्ण गोपियों के माध्यम से ... गोकुल नन्दन का विछोह और उसको सहना ... अम्मा की यादों से जुड़े रहने का प्रयास ... नमन है मेरा ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर भावों द्वारा नमन किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. गीता जीवन कि व्याख्या है...और माँ के बिना जीवन का उदभव ही सम्भव नहीं...

    उत्तर देंहटाएं
  7. गहन अभिव्यक्ति..माँ को नमन..

    उत्तर देंहटाएं
  8. माकी कमी तो पूरी नहीं होती..
    पर उनका प्रेम और आशीर्वाद सदैव अपने बच्चों के साथ है..
    माँ को नमन...

    उत्तर देंहटाएं
  9. rashmi ji aap ke sunder bhav aur shabd man ko chhu gaye
    sunder prastuti
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  10. माँ सारी पुस्‍तकों का सार है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. हर माँ यशोदा का रूप होती है और यशोदा कभी अपना गोकुल छोड़कर नहीं जाती...वह कल भी आस पास थी वह आज भी करीब है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. @और मेरी अम्मा तुम उस गीता का एक महत्वपूर्ण पन्ना हो
    जिसने पढ़ा ही नहीं
    वह व्याख्या क्या करेगा
    और कितनी करेगा !!!
    माँ गीता का महत्वपूर्ण पन्ना ही नहीं
    माँ संपूर्ण गीता है जिसे हर कोई अपने
    बुद्धि के अनुसार व्याख्या करता है
    पर वह किसी की व्याख्या में कहाँ समाती है !

    सार्थक रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  13. शब्द रहित गीता आलोकित है..

    उत्तर देंहटाएं
  14. गीता की ही तरह माँ भी जीवन का सार है !
    अद्भुत उपमा !

    उत्तर देंहटाएं
  15. निशब्द करती पोस्ट । अम्मा सदा आपके साथ रहेंगी |

    उत्तर देंहटाएं
  16. आपके सोच और शब्दों में अम्मा हमेशा साथ है

    उत्तर देंहटाएं
  17. सदर नमन .....कितने सुखद ............माँ का होना ........माँ के साथ होना ..........माँ के पास होना ......माँ का आस -पास .होना ....... .........सबसे दुखद .........माँ को खोना

    उत्तर देंहटाएं
  18. मेरी अम्मा तुम उस गीता का एक महत्वपूर्ण पन्ना हो
    जिसने पढ़ा ही नहीं
    वह व्याख्या क्या करेगा
    और कितनी करेगा !!!
    माँ तो बस नि:शब्‍द कर जाती है ......

    उत्तर देंहटाएं

मृत्यु को जीने का प्रयास

मौत से जूझकर जो बच गया ... उसके खौफ, इत्मीनान, फिर खौफ को मैं महसूस करती हूँ ! कह सकती हूँ कि यह एहसास मैंने भोगा है एक हद तक ...