09 फ़रवरी, 2018

लक्ष्य भी हमें साधता है !




हम ही हमेशा लक्ष्य नहीं साधते
लक्ष्य भी हमें साधता है
जब हम हताश हो
उम्मीद की परिधि से हट जाते हैं
सब व्यर्थ है की भारी भरकम सोच से
ज़िन्दगी को निरुद्देश्य देखते हैं
तब लक्ष्य हमारी तरफ अग्रसर होता है
उम्मीदों की अनेकों पांडुलिपियाँ थमाता है
निर्विकार मन से कहता है
अर्जुन को भी
 श्री कृष्ण की गीता
तभी सुनने को मिली
जब उन्होंने गांडीव को नीचे रख दिया !
कुछ भी पाने के लिए
खोना स्वीकार करना होता है
एक एक सत्य के लिए
झूठ के दलदल में धँसना होता है
रक्तरंजित मैदान में
मन के चक्रव्यूह से निकल
मस्तिष्क को शतरंज बनाना पड़ता है
लक्ष्य के बढ़े कदमों को
अर्थ देना होता है ...

8 टिप्‍पणियां:

  1. एक पोस्ट में मैंने लिखा था कि घर को हम खोजते हैं लेकिन कई बार आपकी चाहत को देखकर घर भी आपके सामने आ जाते हैं। बहुत अच्छे विचार, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (10-02-2018) को "चोरों से कैसे करें, अपना यहाँ बचाव" (चर्चा अंक-2875) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. और जब लक्ष्य हमें साधता है..उसका निशाना कभी खाली नहीं जाता..

    उत्तर देंहटाएं
  4. मंगलकामनाएं आपकी कलम को !

    उत्तर देंहटाएं
  5. जीवन जीने के लक्ष्य को पाने नम्रता का पाठ पढ़ाती सुंदर रचना
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  6. आदरणीय / आदरणीया आपके द्वारा 'सृजित' रचना ''लोकतंत्र'' संवाद मंच पर 'सोमवार' १२ फरवरी २०१८ को साप्ताहिक 'सोमवारीय' अंक में लिंक की गई है। आप सादर आमंत्रित हैं। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह!!बहुत सुंंदर ....लक्ष्य के कदमों को अर्थ देना पड़ता है ...वाह!!

    उत्तर देंहटाएं

बड़े बड़े कारनामे झूठ होकर भी बहुत सच होते है बालमुकुंद

एक था बालमुकुंद परियों की कहानी सिंड्रेला के जादुई जूत्ते आलू के कारनामे सुनकर आखिर में अपनी दोनों बाहें बेफिक्री से ऊपर उठाकर कह...