08 दिसंबर, 2018

कुछ ख्वाबों का अधूरा रह जाना ही अच्छा होता है




कई बार कुछ ख्वाब
प्रत्यक्षतः
रह जाते हैं अधूरे !
लेकिन ख्वाबों के उपजाऊ बीजों को सिंचना
मेरे रोज का उपक्रम है ।
हर दिन,
मिट्टी को हल्का और नम करती हूँ
बीज रखती हूँ,
और अंकुरित होती हूँ मैं ...
पौधा,
फिर वृक्ष,
उसकी शाखें
जाने कौन कौन सी चिड़िया
मेरे रोम रोम में चहचहा उठती है ।
कलरव मुझमें प्राण संचार करते हैं,
फिर से मिट्टी को हल्का
और नम करने के लिए ।
कुछ ख्वाबों का अधूरा रह जाना ही अच्छा होता है,
ताकि उनकी पूर्णता की पुनरावृत्ति
इस तरह हो,
और जीवंतता बनी रहे ।



2 टिप्‍पणियां:

  1. वाह ख्वाबों के बीच ख्वाब फलें फूलें अधूरे ना रह जायें बस यही कामनाएं बनी रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अधूरे ख्वाब जुस्तजू बनाये रखते हैं जीने की आरज़ू जीती रहती है उनसे ...
    बहुत खूब ... हमेशा की तरह ...

    उत्तर देंहटाएं

मैं लिखूँगी उनका नाम

नहीं लिखूँगी मैं उनका नाम स्वर्णाक्षरों में, जिन्होंने तार तार होकर भी विनम्रता का पाठ पढ़ाया सम्मान खोकर झुकना सिखाया और रात भर ...