20 दिसंबर, 2018

अति का विश्लेषण ज़रूरी है




जब मेरे वजूद में
वसुधैवकुटुम्बकम की भावना थी
सबके लिए अपनी थाली से
बराबर बराबर कौर निकालती थी
एक तिनके से सत्य को भी
खुलकर बताती थी,
सब मौन थे !
उनके मेरे मध्य
खाई जैसा फर्क है ...
यह उन्होंने आँखों से समझाया ।
मैं मूर्ख,
समझते हुए भी
बराबर बराबर कौर निकालती रही,
नारायण स्तब्ध !!
उन्होंने मेरे आगे से
मेरी थाली खींच ली,
दिल-दिमाग में,
सम्पूर्ण रक्त कोशिकाओं में
उन्होंने तांडव किया,
मेरी बेमानी सहजता के
कई मंच तोड़ दिए
...
पाँव स्थिर करने में
वक़्त लगा,
धरती का मजबूत कोना
स्वयं नारायण ही रहे,
लेकिन मौन, बंजर सा रूप लिए ।
साथ तो हम पहले भी थे
अब ज्ञात है ।
संसार अर्थात नारायण
नारायण अर्थात मोक्ष ...
मोक्ष,
प्रेमहीन नहीं
मोह से मुक्त
रोटी के उतने ही टुकड़े करो,
जितने भूखे हैं,
जो तृप्त हैं,
और और की रट में हैं
उनको कौर बढ़ाना
अन्न का अपमान है
जो अपने अपमान से ऊपर है ।
कोशिश
और अति में अंतर होता है
और वही तूफ़ान लाता है
तूफ़ान को दोष देने से पूर्व
अति का विश्लेषण ज़रूरी है ।

5 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (21-12-2018) को "आनन्द अलाव का" (चर्चा अंक-3192) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह रोटी के बहाने बहुत कुछ समझा दिया।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सही कहा दी सुन्दर अभिव्यक्ति , कोमल संवेदनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  4. Very Nice.....
    बहुत प्रशंसनीय प्रस्तुति.....
    मेरे ब्लाॅग की नई प्रस्तुति पर आपके विचारों का स्वागत

    उत्तर देंहटाएं

विश्वास है

सोई आँखों से कहीं ज्यादा, मैंने देखे हैं, देखती हूँ, जागी आंखों से सपने । सकारात्मक, आशाओं से भरपूर ... बहुत ...