19 फ़रवरी, 2008

कल का सूरज......


शान्त नदी,
घनघोर अँधेरा,
एक पतवार और खामोशी-
यात्रा बड़ी लम्बी थी!
ईश्वर की करुणा
एक-एक करके पतवारों की संख्या बढ़ी ,
कल-कल का स्वर गूंजा
खामोशी टूटी
अँधेरा छंटने लगा
यात्रा रोचक बनी
प्यार की ताकत ने
किनारा दिखाया
उगते सूर्य को अर्घ्य चढाया .................

2 टिप्‍पणियां:

  1. उगते सूर्य को अर्घ्य चढाया .................

    bahut achha hai bahut asha hai kavita men

    Anil

    उत्तर देंहटाएं

ये तो मैं ही हूँ !!!

आज मैं उस मकान के आगे हूँ जहाँ जाने की मनाही थी सबने कहा था - मत जाना उधर कमरे के आस पास कभी तुतलाने की आवाज़ आती है कभी कोई पु...