12 मार्च, 2008

किससे कहें!!!


आवाजें कुछ अजीब - सी आती हैं,
सुनने की बजाय,
पकड़ने की कोशिश करती हूँ........
जाने क्यूँ!
शीशे की किरचों पर पाँव पड़ जाते हैं
और खून रिसते हैं....पाँव से नहीं
- दिल से!
दिल की बात तो कोई सुनता नहीं
तो-क्या कहें?
किससे कहें!!!

8 टिप्‍पणियां:

  1. कुछ बातें सिर्फ़ हम ख़ुद से ही कह पाते हैं .अच्छे भाव है इन पंक्तियों के रश्मि जी !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. आप की कविताएँ बहुत सुंदर लगीं. शुभकामनाएँ.
    सुनील

    उत्तर देंहटाएं
  3. मौन रख लें..समझने वाले मौन की भाषा भी समझ लेंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  4. kuch kehna chahte hain....
    par shabd jubaan main hi rah jaate hain...
    aksar dhundhte hain saaye apno ke..
    par andhere main to wo bhi nazar nahin aate hain...

    Di bilkool sahi kahaa aapne....to kya kahen?....kise kahen?

    ehsaas!

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रशंसा कलम को जीवन दे जाती है
    मौन का सुझाव उचित लगा
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  6. aawaz ko pakadna achha laga,antarang man shayad shayad dikh bhi jaye,bahut sundar.

    उत्तर देंहटाएं
  7. aapne to bina kuchh kahe hee itnaa kuchh keh daalaa ki aur kuchh kehne kee ab gunjaish hee kahan hai.

    उत्तर देंहटाएं

पुनरावृति

दिए जा रहे हैं बच्चों को सीख  ! "ये देखो वो देखो ये सीखो वो सीखो देखो दुनिया कहाँ से कहाँ जा रही है ! गांव घर में खेती थी ...