28 मार्च, 2008

भैंस.......

कई बार, कविता सुनाते वक्त
बस होठ चलते हैं
और-मस्तिष्क में मुहावरे
'भैंस के आगे बीन बजाओ
भैंस खड़ी पगुराए'...................................................
फिर कविता ख़त्म!
कविता को छुपाकर कई बार पढ़ती हूँ,
जानने की कोशिशें चलती हैं-
क्या था,
जो समझदारों को
भैंस बना गई!!!!!!!!!!!!!!!!!

8 टिप्‍पणियां:

  1. हंसी भी आ रही है और सच भी लग रहा है। कभी-२ होता है ऐसा क्या?फिर भी हर तरह ही इस बार भी छोटी होते हुए भीउन्दा कविता।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. sahi kaha di...wo kehte hai na
    "kavi ki kalpana"....sajaaye nayee nayee alpana!


    achha vyang hai...
    ....EHSAAS!

    उत्तर देंहटाएं
  3. रश्मि जी आपकी कविता हँसाने में तो सफल हो जाती है .........

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut achha laga ye rang bhee ahnsee behe bane erahe aap ke man kee ye dua karata hoon

    Anil

    उत्तर देंहटाएं
  5. rashmi ji aap ko hamari link chahiye thi,ye rahi

    http://mehhekk.wordpress.com/

    hum jaha comments karte hai aapki post par waha hamari link hoti hai,aap bas hamare naam par click karein aap hamare blog tak ja sati hai,aap jaisi mahir kaviyatri hamari nanhi si kavita padhkar hame jo hausla deti hai,uske liye bahut bahut shukriya ji,sadar mehek.

    उत्तर देंहटाएं
  6. भावनाओं के मंदिर में आकर सचमुच मंदिर का अहसास हुआ...हार्दिक बधाई.. अपने दिल के मंदिर को आरती, फूल, नेवैद्य, धूप, दीप देने के लिए...खुशबू से दिल नहा गया...

    उत्तर देंहटाएं

रामायण है इतनी

रूठते हुए  वचन माँगते हुए  कैकेई ने सोचा ही नहीं  कि सपनों की तदबीर का रुख बदल जायेगा  दशरथ की मृत्यु होगी  भरत महल छोड़  स...