17 अप्रैल, 2009

विश्वास करो !


मनुष्य कहता है-
ईश्वर सर्वत्र है........
और ख़ुद ही
अलग-अलग लिबास में
उसे अलग-अलग कैनवास देता है !
आस्था मन की होती है,
श्रद्धा मन की होती है,
हर दिन की अपनी विशेषता होती है.....
पंडित के निकाले शुभ दिन में
क्या मौत नहीं होती?
तलाक नहीं होते?
बहुएं नहीं जलतीं?
बन्धु,
अपने सुकून पर ऐतबार करो,
प्यार करो ,
सम्मान करो,
आशीर्वचनों में ईश्वर को पाओ ..............

29 टिप्‍पणियां:

  1. हर दिन,हर पल ईश्वर का बनाया हुआ है.. फिर कोई पल /दिन अशुभ कैसे हो सकता है?
    aap ne बहुत सही बात कही है:-

    'अपने सुकून पर ऐतबार करो,
    प्यार करो ,
    सम्मान करो,
    आशीर्वचनों में ईश्वर को पाओ ..'

    कविता व्यक्ति को सकारात्मक सोच रखने के लिए प्रेरित करती है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. rashmi ji,

    aapki ye rachna mann men panv jamaye huye vishwason ko jhakjhorati hai...sach saare din to ishwar ke hi banaye huye hain ..kaun sa din shubh aur kaun sa ashubh..bahut achchhi rachna .badhai

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahot khub once again... baat bahut choti si hai, per jis khubsurat adaaz main aapne kahi wo kaabile taarif hai..ILU.

    उत्तर देंहटाएं
  4. अपने सकून पर एतबार करो ..प्यार करो सम्मान करो .सही और सुन्दर बात कही आपने इस रचना के माध्यम से शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  5. अत्यंत सुन्दर अभिव्यक्ति, बधाईयाँ!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढिया ... आत्‍मविश्‍वास बढाती रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  7. रश्मी जी बहुत अच्छी रचना है ॰॰॰ कहें तो सत्य का आईना है ॰॰॰॰॰॰॰ शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  8. rashmi di .. bahut sundar achna hai eeshwar ka banaya har din shubh hai .. badhai

    उत्तर देंहटाएं
  9. Adarneeya Rashmi Ji,
    Bahut hee kam shabdon men apne aam admee ke andhvishvason ko likh dala hai..vyakti ko pahle svayam par vishvas karna chahiyae.
    Poonam

    उत्तर देंहटाएं
  10. अपने सुकून पर ऐतबार करो,
    प्यार करो,
    सम्मान करो,
    आशीर्वचनों में ईश्वर को पाओ......

    समस्त सार इन पंक्तियों में ही निहित है.
    प्रणाम व शुभकामनाएं स्वीकारें.

    उत्तर देंहटाएं
  11. रश्मि जी ,
    विश्वास ही तो है जो अज हमारे बीच से ख़त्म होता जा रहा है .....आदमी खुद पर विश्वास नहीं कर पा रहा है तभी तो वो भटक रहा है ...अच्छी रचना .

    हेमंत कुमार

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर रचना है।बधाई स्वीकारें।

    उत्तर देंहटाएं
  13. Rashmi di,

    Behtreen baat kahi hai aapne. Pandit ke nikaale hue shubh din mein yeh saari ghatnaaye nahi hoti kya? Khud ke sukoon par vishwas karna chahiye bas!..ek achhi seekh.

    --Gaurav

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत अच्छी और सच्ची बात कही है आपने रश्मि जी...वाह...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  15. yahi satya hai..........ise hi manna chahiye agar humein ishwar mein vishwas hai to varna apni manyatayein insaan khud hi bana leta hai apni sahuliyaton ke hisab se.

    sach har din, har pal aur hum sabhi uske banaye hain to phir shubh ya ashubh kaisa.

    उत्तर देंहटाएं
  16. 'अपने सुकून पर ऐतबार करो,
    प्यार करो ,
    सम्मान करो,
    आशीर्वचनों में ईश्वर को पाओ ..'
    प्रभावशाली पंक्तियाँ............सुंदर सारगर्भित रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपकी यह अभिव्‍क्ति बहुत ही सुंदर है क्‍योकि मुनष्‍य इस भग दौड के जीवन में ईश्‍वर को तलाश कर रहा है जबकि ईश्‍वर उसके साथ पल पल है । उसमें विश्‍वास की कमी आ गई है । आपकी यह रचना व्‍यक्ति के मन में विश्‍वास और ईश्‍वर को पाने में सहायक होगी ।

    उत्तर देंहटाएं
  18. आस्था मन की होती है
    श्रद्धा मन की होती है.
    ---------------------------
    'अपने सुकून पर ऐतबार करो,
    प्यार करो ,
    सम्मान करो,
    आशीर्वचनों में ईश्वर को पाओ

    -सुन्दर.साधुवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  19. रश्मि जी,
    आपकी यह रचना बेहद खूबसूरत, प्रभावशाली व प्रसंशनीय है, यह आशा है कि आपकी कलम व मन के सागर से और भी सुन्दर-अतिसुन्दर मोती निकलें, ढेर सारी शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  20. पंडित के निकले शुभ दिन में
    क्या मौत नहीं होती
    तलाक नहीं होते
    बहुएं नहीं जलतीं ....

    वाह... क्या सटीक और सही बात उठाई है रश्मि जी....बहूत खूब ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत सही बात कही है दीदी आपने!!

    उत्तर देंहटाएं
  22. aap bahut saadgi aur sahajta se badi - badi baaton ko likh deti hain jo seedhe man ko chuti hain..... bilkul sahi... koi bhi din bura nahi hota

    उत्तर देंहटाएं

शाश्वत कटु सत्य ... !!!

जब कहीं कोई हादसा होता है किसी को कोई दुख होता है परिचित अपरिचित कोई भी हो जब मेरे मुँह से ओह निकलता है या रह जाती है कोई स्तब्ध...