02 अप्रैल, 2009

कौन हो तुम???


कलकल की साज पर
नन्हीं बूंदों की बारिश
और तुम्हारी याद...........
बिल्कुल कॉफी-सी लगती है !
तेज हवाएं,
ठिठुरती शाम
और तुम्हारी याद........
बिल्कुल अंगीठी-सी लगती है !
रुई से उड़ते बर्फ,
बर्फ की चादर
और तुम्हारी याद..........
बिल्कुल जन्नत-सी लगती है !
कहो तो -
कौन हो तुम ???

34 टिप्‍पणियां:

  1. मन को उष्णता और सिहरन देने वाली तुम्हारी याद ही तुम्हारा परिचय दे रही है.

    सुन्दर. साधुवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  2. मन की भावनाओं का प्रकृति से गहरे रिश्ते को दर्शाती हुई सुन्दर पंक्तियाँ ..........

    उत्तर देंहटाएं
  3. aapke lekhani ke kya kahane .... kaun ho tum??????? waah bahot khub likhaa hai aapne... badhayee aur abhaar,,,...


    arsh

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर एहसास है।अच्छी रचना है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्‍या भाव है ... बहुत सुंदर लिखा है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. रुई से उड़ते बर्फ,
    बर्फ की चादर
    और तुम्हारी याद..........
    बिल्कुल जन्नत-सी लगती है
    bahut sunder,kalkal,boonde,rui,aad,aur ek intazaar ya jankar bhi koi ajnabi hai,nasha cha gaya mann patal par.kaun ho tum?hmmmmm itani sunder kavita adhne ke baad nind bhi haseen hongi sunder khawabke saath,shukran,shabd aise hai jaise kaano mein ghungharu ki mithas bhari ho.waah

    उत्तर देंहटाएं
  7. हलकी हलकी बारिश की बूंदों जैसा शीतल स्पर्श देती मधुर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  8. rashmi ji
    antarman ka itna jeevant chitran in panktiyo mai dikh raha hai
    ki bina kuch likhe raha nahi gaya

    wahi jab likhne baithe to laga ki shabd hi nahi hai hamare paas to is par kuch likhne ke liye

    purntah aahlaadit kar dene wali kavita

    उत्तर देंहटाएं
  9. रशिम जी बहुत ही सुंदर लगी आप की यह रचना.
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  10. एक याद ही तो है जो खामोशी में भी एक गीत गुनगुना जाती है

    उत्तर देंहटाएं
  11. कौन हो तुम ???

    बहूत ही भावपूर्ण रचना ..
    हम तो प्रकृति के कण कण में है , प्यार है हम ..प्रीती ही प्यार है न् ..[:)] , [:P]

    उत्तर देंहटाएं
  12. तुम्हारी याद .....अंगीठी सी .....तेज ठिठुरती हवा में ...बहुत सुन्दर ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. bahut sundar rachna hai .. coffee, tez hawa aur barf jazbaaton ke teen prakaar se lagte hain shayad ye aapke jazbaat hi hain ..

    उत्तर देंहटाएं
  14. Wow!!! Very sweet poem on memories, infact warm memories.Its these warm memories only which sometimes help us in dealing with wintery days & icy phases of life.

    उत्तर देंहटाएं
  15. सुन्दर एहसास और सुन्दर भाव व्यक्त करती एक दिल को छूती हुई कोमल सी रचना ..अच्छा लगा इसको पढना

    उत्तर देंहटाएं
  16. rashmi di ,
    hum hi to hain ,haahahahahahaahahahahahaahahahahhahahahah,
    achche sabdsanyojan hai ,achchi bhavovyakti

    उत्तर देंहटाएं
  17. Man ki bhavnaon ko behad sanjidgi se prastut karti kavita...badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  18. आदरणीय रश्मि जी ,
    प्रकृति से तादात्म्य स्थापित करती भावः पूर्ण रचना .....
    पूनम

    उत्तर देंहटाएं
  19. rssmi ji,
    apki rachna dekhkar mujhe apni kawita jo maine apne blog par 8 jun 2008 ko post ki thi yad aa gai.
    कौन हो तुम,क्‍या हो तुम
    किस जनम का रिश्‍ता है
    ये तुम्‍हारा और हमारा
    जो तुम आकर्षित करती हो
    अपनी ओर लगातार
    और मै भी खींचा चला आता हूं
    डोर से बंधे पतंग की तरह

    कौन हो तुम,क्‍या हो तुम
    जो तुम मुझे पागल बना देती हो
    ठीक उसी तरह जैसे
    दीपक को देखकर पतंगा होता है
    शरारे सा जलने को
    ''राज'' क्‍यो मन करता है

    कौन हो तुम,क्‍या हो तुम
    कुछ भी तो नहीं लगती तुम मेरी
    फिर क्‍यो मुझे सताती हो
    सपनों में बार-बार आकर
    फिर क्‍यो मुझे जगाती हो
    रातों को नींदो से

    कौन हो तुम,क्‍या हो तुम
    जो मुझे आभास हो जाता है
    तुमसे मिलने से पहले ही
    होने वाले मिलन की
    मुझे पता चल जाता है
    किस रंग के कपडों में होगी तुम

    कौन हो तुम,क्‍या हो तुम
    जो इतना तडप जाती हो
    मेरी छोटी सी कटी उंगली देखकर
    थोडा सा बहता खून देखकर
    मंदिर की उस देवी की तरह
    जो तडप उठती है भक्‍तों के कष्‍ट से

    कौन हो तुम,क्‍या हो तुम
    किस जनम का रिश्‍ता है
    ये तुम्‍हारा और हमारा
    जो तुम आकर्षित करती हो
    अपनी ओर लगातार
    और मै भी खींचा चला आता हूं
    डोर से बंधे पतंग की तरह

    उत्तर देंहटाएं
  20. रश्मि जी ,
    बहुत अच्छी कविता ..प्रकृति के साथ आपकी आत्मीयता दर्शाती हुयी.
    हेमंत कुमार

    उत्तर देंहटाएं
  21. आदरण्‍ीया रश्मि जी ,
    कौन हो तुम .... एक बहुत अच्छी कविता जो कि प्रकृति के साथ आपकी आत्मीयता दर्शाती हुयी मन को सुन्‍दर एहसास कराती है.

    उत्तर देंहटाएं
  22. रुई से उड़ते बर्फ,
    बर्फ की चादर
    और तुम्हारी याद..........
    बिल्कुल जन्नत-सी लगती है
    kitna khubsurat likha hai..aseem prem me doobi hu rachna.....

    उत्तर देंहटाएं
  23. कौन हो तुम ? यही रहस्यात्मकता , कविता की धार है आपकी !सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  24. kyaa baat hai..!! madhur madhur..aankhon me thandak de gayi aapki yeh rachnaa..bahut hi pyaari.

    --Gaurav

    उत्तर देंहटाएं

अक्षम्य अपराध

उसने मुझे गाली दी .... क्यों? उसने मुझे थप्पड़ मारा ... क्यों ? उसने मुझे खाने नहीं दिया ... क्यों ? उसने उसने उसने क्यों क्यों ...