About Us


मेरे एहसास इस मंदिर मे अंकित हैं...जीवन के हर सत्य को मैंने इसमे स्थापित करने की कोशिश की है। जब भी आपके एहसास दम तोड़ने लगे तो मेरे इस मंदिर मे आपके एहसासों को जीवन मिले, यही मेरा अथक प्रयास है...मेरी कामयाबी आपकी आलोचना समालोचना मे ही निहित है...आपके हर सुझाव, मेरा मार्ग दर्शन करेंगे...इसलिए इस मंदिर मे आकर जो भी कहना आप उचित समझें, कहें...ताकि मेरे शब्दों को नए आयाम, नए अर्थ मिल सकें ...

19 अप्रैल, 2009

उत्तर दो !


प्रश्न गंभीर है !
उत्तर कौन देगा ?
- खरगोश ग़लत था अभिमान में,
या-
कछुए की जीत आकस्मिक थी ?
सारस को प्लेट में खीर देनेवाली
लोमड़ी ग़लत थी,
या-

उससे बदला लेनेवाला सारस ?
सप्तपदी के मंत्रों से अलग हो
पत्नी को अपमान की चिता पर डालनेवाला
पति ग़लत था
या-
अग्नि की लपटों से निकलकर
ख़ुद की तलाश में
तटस्थ स्त्री ?!
खरगोश...
क्या हर बार हारेगा ?
सारस...
क्या लोमड़ी का निमंत्रण फिर स्वीकारेगा ?
......................
ऊंगलियाँ तो स्त्री की तरफ़ ही उठती हैं....
नसीहतें उसे ही मिलती हैं....
.........
जब तक वह जलती है,
सब मौन रहते हैं !
पर उसके विरोध में उठे क़दमों पर
सबकी गंभीर दृष्टि होती है !
मेरी आंखों में नींद नहीं,
मेरा सम्पूर्ण वजूद
आज प्रश्न लिए खड़ा है ,
उत्तर की तलाश है............
नहीं-
यह मत कहना,
'विषय अच्छा है',
'भाव गहरे हैं',
'दर्द दिल को छूता है',
या-
'निःशब्द हूँ !'...........
जवाब ना दो,
वह स्वीकार्य है ....
पर कलम उठाओ,
तो धार को
अंगारों से गुजारना मेरे बंधु
फिर कुछ कहना !

50 टिप्‍पणियां:

  1. उंगलिया तो स्त्री की तरफ ही उध्ती है ….
    नसीहते उसे ही मिलती है …

    ..............

    स्त्री शक्ति के इतने परिचय होने पर भी समाज यही चाहता है की वो जलती रहे , मौन रहे … जहा वो सर उठती है समाज उसे अपने पैरो टेल कुचल देता है... जब् तक स्त्री ही स्त्री का सम्मान नहीं करेंगी यह होता रहेंगा ...
    आज स्त्री हर क्षेत्र में आगे है , हर क्षेत्र में जीत हासिल कर रही पर अपने अपनों से ही हारी है ... कानून सबके लिए एक् पर सिर्फ किताबो में , वास्तविकता कुछ ओर ही है ...
    हमने जो बात कही सभी जानते है ... पर अब आगे बढ़ने का समय आ गया है - आओ ... अपना वजूद खुद ही बनाना है , ओर बनायेगे ,.. जमाने को दिखायेंगे ..... Ilu

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  2. saare jeevan ke anubhav ka nichod hai ye panktiya

    par jeevan prashno ke sahare to chlta nahi
    uttar bhi chahiye hi

    abhimaan, swabhimaan
    buddhimatta dhurtta
    sahansheelta bhay

    in ke baare mai ham aksr galti kar jaate hai
    or ek ki jagah dusre ka prayog kar baithte hai

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  3. उंगलिया तो स्त्री की तरफ ही उध्ती है ….
    नसीहते उसे ही मिलती है …




    kyu uthti hai ungliyan? karan khud kabhi jaanne ki kosis ki hai har naari ne? mai to bas itna kehna chahunga ki jo khud ki madad nai karta uski madad bhagwan bhi nai karta,,, hamesha naari khud ko abla or lachar samajh kar purush ke aage jhuk jaati hai,,lekin bahut kam hoti hai jo jhanshi ki rani ki tarah ladna or virodh me talwar uthana janti hai,,,kai bar to talwar utha kar fir dobara bina kuch kiye aatma samarpan kar deti hai,apne bachchon ke khatir,,lekin wo shayad yeh bhul jaati hai ki ungliyan hamesha ek takatwar insaan dushre kamjor insaan ki or uthata hai,,,bas virodh me utha talwar agar datt jaye or na jhuke to fir nari ke upar uthi ungli khud he jhuk jaati hai or samman me dono haat jud jaate hai,,,or log fir use satt satt naman karte hai,,, aap "JHANSI ki RANI LAKSHMI BAAI" ka udaharan le sakte hain,,, aaj v sara hindustan unhe satt satt naman karta hai,,,




    ant me bas itna he kehna chahunga,,ki...

    "JAAGO NAARI JAAGO,KHUD KO SABLA BANAO,ABLA KA CHINNHA APNE UPAR SE HATAO, APNI NAARI SHAKTI DIKHAO, SITA OR SATI TO BAN CHUKI, AB LAKSHMI BAAI BAN KAR DIKHAO"

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  4. "उत्तिष्ठत ,जाग्रत प्राप्य वरान निबोधायत"
    उठो ,जागो,और जो श्रेष्ठ है ,उसे प्राप्त करो .....यह नियम तो सभी के लिए है .क्या स्त्री और क्या पुरुष .
    अभिमान सदैव टूटा है ,किसी का भी हो .स्वाभिमान के साथ जीना ही सही मायनों में जीना है .
    हमें स्वयं को जगाना होगा ,तभी जागृति ला सकेंगे ताकि हम पर उंगली उठाने वाले पहले अपने गिरेबान में झांक कर देखें .......
    नारी के सबला और स्वाभिमानी व्यक्तित्व के रूप में आपको मेरा प्रणाम!!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  5. @ jyotsna ji





    aksar log swabhiman ko galat rup me le lete hai,,,swabhimaan wo nai jise ki ek ungli uthne se thess pahuch jaye,,,kai bar ungliyan sahi v uthti hai,,,or dekha jaye to agar ungliyan na uthe kisi par to use apne swabhimaan ka koi andaja ya anubhav he nai ho payega,,ek baat or jo aapne kaha ki jo ungliyan uthate hai wo apne girebaan me jhaank kar dekhe,,,, to ispar ye he kahunga,,,ki bhagwan ne khud aisi prakriti banai hai,,,ki jub v aap kisi par ek ungli uthayengi to khud ba khud 3 ungliyan aapki or utth jayengi... so ungli uthane wale kai bar is baat se anbhigya rahete hai,,,or han mai yaha ye kehna bilkul nai bhulunga,,,ki agar har bar aurat apne swabhiman ko dekh kar baithi rehti to aaj wo "MAA,PATNI,BETI or BEHAN" ke rup me nai puji jaati :) so swabhiman ko kai bar darkinar karna he padta hai,,,kai bar chaah kar or kai bar na chaah kar...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  6. mujhe kuch der sochte raahne do

    yoo lagata yahee hai bahas chidee hai to niranay bhee ayega wo niranay zaldee aye is ka prayaas karana hai

    ANil

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  7. @ anil,,,




    behash to bahut purani hai,,or na jaane kitni he baar ispar kai tarke v di gai,,,lekin nirnay aaj tak nai aaya,,,aaj tak hamare desh ki sansad ne v mehaz 33 % he arakshan diya hai mahilao ko ,,,mujhe ye samajh nahi aaya aaj tak,,,ki jiske garbh se hum aaye hai,,,use aaj tak aarakshan ke liye tarashna pad raha hai hamare desh me,,,aakhir kab tak charcha he karte rahenge,,,kya naari har janam me is charcha or behash ko he dekh kar pura jiwan gujar degi,,,or mrityu ke god me so jayegi,,,aakhir kab tak? kab tak?

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  8. bahut sahi vichaar diye hain......par jo naari uthti hai apne swabhimaan ki raksha me ,aalochnaaon ka shikaar hoti hai,manzil tak pahunchne me jaane kai baar lahuluhaan hoti hai...
    ant me to haath judte hi hain,par jisne uski cheekh ko ansuna kiya,wahi uske wajood ki raksha me uthe kadmon par tikaippani karte hain......hai na

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  9. kya isme bhai,pita,bandhu ka sahyog apekshit nahin?ek naari to sabka saath deti hai,phir akela kyun karna?
    log sita ka udaaharan dete hain,par bhool jaate hain ki agar sita ne agni-pareeksha di to swayam ko dharti me bhi samahit kiya.....

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  10. सत्य हमेशा सापेक्ष होता है और युगचेतना के साथ यह भी बदलता है...
    मैंने तो अपने छोटे से ही जीवनकाल में सामाजिक हकीकतों को आमूल -चूल बदलते देखा है .

    लोमडी का मान-मर्दन काफी हद तक हुआ है समय के साथ .
    हताश होने से बेहतर है अपनी ओर से यथासंभव कोशिश करते रहना.......
    ***"रसरी आवात जात है ,सिल पर परत निशान "****

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  11. @ Dr. RAMJI GIRI..




    sir,,,ye jo aapne udahran ke rup me kaha "rasri aawat jaat hai,sill par padat nishan" bada achcha laga dekh kar,,,lekin kya aapko ye nahi lagta ki ye kahawat jadmati ke liye use hona chahiye,,,na ki samaj or duniya ke liye apna sab kuch luta dene wali naari ke liye,,, ye to bopdev ko sujhi thi,,,ki jub rassi ke aane jaane se kuen ke kinare ke patthar ghish gaya to wo kyu nai samajh sakta gyaan ko,,,tavi to kaha gaya "karat karat abhyaas te jadmati hot sujaan,,rasri aawat jaat te sil par padat nisaan"




    kshama kijiyega,shayad mai chota muh badi baat keh raha hu,,,kintu mujhe naari ke liye is kahawat ka prayog utna he galat lag raha hai,,,jitna ki naari par atyachar or ungli uthana,,,kyuki naari ko jub mouka he nai diya gaya to wo kar kya sakti thi,,,lekin itihaas gawah hai,,,jub v wo aage aai hai tab usne purush se baddh chaddh kar apna performence dikhaya hai,,,chahe wo rani lakshmi baai rahi ho ya fir prime-minister indra gandhi,,, ya to wo sahitya ke kchetra me mahadevi verma rahi ho ya fir saanti or swensevika ke rup me sarojni naidu... naari kavi jadmati nai rahi,,, ye bhale he keh sakte hai ki hum purusho ne unhe hamesha upeksha ka sikaar bana kar rakha,,,or han ye nai bhulna chahiye hame,,ki jyada tar iske liye khud ek aurat he jimmedar rahi hai,,,jo kavi maa ban kar apni beti ko har karya karne ke pehle rokti hai,,,to kavi saas ban kar bahu to rokti hai or uspar ungli uthane tak se parhej nai karti,,,


    mai to ye baat kai bar kai mancho par keh chuka hu,,,or yaha aaj fir kehna chahunga,,ki ek aurat ki pehli dushman ek aurat he hai,,,







    is post ke ant me fir dohrana chahunga,,ki na to naari kavi jadmati thi or na he kavi jadmati hogi,,,use jadmati samajhna ya kehna...apne aap me ek bahut he avivekpurn kathan ka prasaar karna hoga,,,

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  12. आपने कविता में ही हिदायत दे दी है कि केवल कविता की प्रशंसा करने से नहीं चलेगा. इसलिए विस्तार से कहना ही पड़ेगा. लेकिन उससे पहले कविता की चमत्कारिता की प्रशंसा किये बिना भी नहीं मानूंगा.तो अब मुख्य प्रश्न का उत्तर-
    नारी स्वयं को ही लाचार मानने से इन्कार करे. जब वो कहती है कि - 'उंगली स्त्री पर ही क्यों' तो उसका स्वयं का अपराध बोध बोल रहा लगता है. आज समाज में नारी के कार्यों को पूरी मान्यता मिलने लगी है और एक बड़ा पुरुष वर्ग उसे न केवल सहयोग कर रहा है अपितु प्रोत्साहित भी कर रहा है.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  13. ''उँगलियाँ तो स्त्री की तरफ ही उठती हैं....
    नसीहतें उसे ही मिलती हैं !''
    विचार तो निसंदेह बहुत ही गहरा उठाया है आपने और हम निशब्द भी नहीं हैं....
    उँगलियाँ तो उठती रही हैं और आगे भी उठती रहेंगी क्यूंकि समाज ने अपने स्वार्थ और खुद को विकासशील दरशाने के लिए महिलाओं को कुछ अधिकार दे तो दिए पर उनका उपयोग करते देखना रास नहीं आता..आगे बढते नहीं देख सकता हमारा समाज,किसी भी जागरूक और उन्नतिशील महिला का सबसे पहला विरोध उसके परिवार की महिलाएं ही करती हैं..लोक-लाज और समाज का भय दिखा कर....आगे बढने के लिए उन उठी हुई उँगलियों को मोड़ना होगा,अपनी दिशाएं खुद तय करना होगा और महिलाओं को ही महिलाओं का साथ देना होगा...जब तक हम में एका नहीं होगा तब तक ये आरोप-प्रत्यारोप और विरोध तो चलता ही रहेगा!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  14. samaj ki rachna insaan ki rachna ke baad hui hai
    or insaan ki rachna mai
    stri or purus ko ek dusre ko sampoorak ke roop mai banaya hai

    or saath mai IRSYA jaisa ek awgun bhi diya hai

    jo iski sabse badi wajah hai
    yadi ham is irsya/ego ko chod kar sabko sambhav se daikhe to yah sristi kitni hi sudar dikhayi degi
    yaha sabka apna alag alag mahatv hai
    ab sui ki apni visheshta hai or talwar ki apni
    ab is wajah se dono ka aapas mai ladna kaha tak uchit hai

    galti bhi dono taraf se hai
    or sudhaar bhi dono taraf se prarambh hone chahiye

    bina kisi dwesh irshya ke

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  15. इस पुरुषों के गढे हुए समाज में ...स्त्रियाँ कैसे गलत हो सकती हैं ........पुरुषों ने ही तमाम नियम कायदे और कानून बना डाले .....स्त्री पर हुकूमत करने के लिए ....तो किसी अन्य पुरुष को गुलाम बनाकर रखने के लिए ......बस बांटे रहे तमाम कहानियाँ ...गढ़ते रहे नए नए नियम ...और भोगते रहे स्त्रियों को ...अब जब स्त्रियाँ उठने की कोशिश कर रही हैं ...कदम आगे बाधा रही हैं ..तो अब ये भोहें तान रहे हैं ...बस चलता है तो कभी बलात्कार... तो कभी दैहिक शोषण ...तो कभी उसकी मजबूरी का फायदा उधने की कोशिश ...यही कर रहे हैं ....
    पर अब ये सिर्फ और सिर्फ स्त्रियों पर है की वो कैसे इन नियमों को तोड़ अपना वजूद बनती हैं ....क्योंकि विचारों के लिए वाह वाह करना ...और असल में स्त्रियों को आजादी देना ...दोनों बहुत अलग प्रक्रिया हैं

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  16. AAPKE LEKHAN KO JAB BHI PADHTA HUN PURI LEKH MAN KO JHAKJHOR KE RAKH DETI HAI .....BAHOT HI BADHIYA LIKHA HAI AAPNE ... HAMESHAA KI TARAH PRASHANSANIYA HAI ...DHERO BADHAAYEE SWIKAAREN...


    ARSH

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  17. हा यह तो जानते है की जो खुद कुछ नहीं करता उसकी मदद भगवान् तो क्या कोई नहीं करता …..
    पर हा, नारी ना अबला थी ना लाचार …उसे हमेशा झुकने पर मजबूर ही किया जाता आ रहा है …हर नारी में लक्ष्मी बाई का स्वरुप है पर उस स्वरुप को जागने ही नहीं दिया जाता , जो जाग जाती है सफल होती है … पर यहाँ पर भी ऊँगली नारी पर ही उठती है …क्यों की यही सदियों से चला आ रहा है और यह समाज चाहता भी यही है … लक्ष्मी बाई भी झाँसी की रानी इस् लिए बनी क्योंकी उनके पति के देहांत के बाद उन्हें ही राज -पात संभालना था … सोचो अगर गंगाधर राव जिन्दा होते तो क्या लक्ष्मीबाई “ झाँसी की रानी ” कहलाती ?

    @ Amit ji…
    आपने लक्ष्मीबाई का उदहारण दिया पर आप् यह भी जानते ही होंगे की एक् पुरुष के कारण ही सीता जी को देश निकला मिला और बाद में धरती माता में समाहित होना पड़ा …हा इस् बात से पूरी तरह सहमत है की एक् स्त्री की दुश्मन स्त्री ही है पर पुरुष भी तो है …

    अंत में यही कहेंगे जो “अनिल जी ” ने कहा –
    “विचारों के लिए वाह वाह करना ...और असल में स्त्रियों को आजादी देना ...दोनों बहुत अलग प्रक्रिया हैं ...”

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  18. @ अमित जी!
    जो स्त्रियाँ स्वयं पर मान न कर सकें तो ,वे माँ,बहन ,पत्नी और पुत्री के रूप में कैसे सम्मान पा सकती हैं ?यदि स्वाभिमान को ही मार दिया तो वे मात्र रिश्तों का निर्वहन करती है ,उन्हें जीती नहीं हैं .
    bhagwan ne khud aisi prakriti banai hai,,,ki jub v aap kisi par ek ungli uthayengi to khud ba khud 3 ungliyan aapki or utth jayengi... यह कह कर तो आप मेरी ही बात का समर्थन कर रहे हैं ,की पहले अपने गिरेबान में झांकना चाहिए .......
    agar har bar aurat apne swabhiman ko dekh kar baithi rehti to aaj wo "MAA,PATNI,BETI or BEHAN" ke rup me nai puji jaati :) so swabhiman ko kai bar darkinar karna he padta hai,,,kai bar chaah kar or kai bar na chaah kar...
    आपकी इस बात पर मुझे आपत्ति है ,जो खुद का मान न रख सके वह दूसरों का रखेगा .....इसका क्या प्रत्याभूत है ?
    जीने में और जीवन को निर्वहन करने में अंतर है .........मेरी इस बात पर ध्यान दें .यूं तो तर्क-वितर्क एक मानसिक व्यायाम है करना ही चाहिए ,परन्तु मुझे लगता है आप मात्र त्रुटियाँ ही निकाल रहे हैं और विषय से भटक रहे हैं ....
    आशा है आप मेरी बातों को अन्यथा नहीं लेंगे ......

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  19. bahut shandar rachanaa hai ....... kathanko ke madhyam se aapne bahut gahare bhav pragat kiye hai .... RASHMI JI SHUBHKAMANAYEN.....

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  20. विषय अच्छा है

    भाव गहरें हैं

    दर्द दिल को छूता है

    अंगारों से गुजरता

    हर शब्द

    यही कहता है

    पीड़ा को स्त्री पुरूष में

    मत बांटों

    स्त्री अंगारों पर चलती है

    तो पुरूष अंगारे पीता है

    जीवन हलाहल हो जाता है

    जब किसी मोड़ पर

    स्त्री हो या पुरूष

    उसे पीता है

    इसमे किसी को खुशी नहीं है

    न कोई खुशी से पीता है

    जीवन में जीने से इतर

    विकल्प नहीं जब मिलता है

    तब ही विवशता सहता है

    सीता ने अनुगमन किया था

    उर्मिल को आप कहेंगे क्या

    क्या वहां विवशता थी उसकी

    लक्ष्मण को आप कहेंगे क्या ?

    यह भारत है ,नहीं कोई यहाँ

    दुःख देता अपनी भार्या को

    वह स्वयम बीनती है कांटें

    सुख मिलता है उस आर्या को

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  21. बहुत बड़े इस प्रश्न का रोचक है विस्तार।
    खूब कहा है आपने हृदय से है सत्कार।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
    कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  22. ... मन के सागर से एक-एक चमचमाता मोती निकलते आ रहा है, प्रसंशनीय।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  23. जहाँ तक समाज के बनाये नियम का प्रश्न है, ये स्त्री या पुरुष दोनों के लिए समान ही है, अब ये और बात है की उसका उपयोग या दुरूपयोग स्त्री व पुरुष अपनी सबलता या निर्बलता के आधार पर ही कर पाते है |

    जहा तक गृहस्थ जीवन को सफलता पूर्वक चलाने का प्रश्न है तो ये अभिमान, स्वाभिमान से ऊपर उठकर एक दुसरे के प्रति समर्पण के भाव को जागृत करके ही संभव है |

    अब अपने पक्ष से पूरी ईमानदार बरतने होने के बाबजूद भी यदि रिस्तो की डोर टूट जाती है या दुसरे पक्ष द्वारा तोड़ दी जाती है तो अपना जीवन पुरे स्वाभिमान के साथ जीना चाहिए | शुरूआती विरोध के बाद लोग जैसे - जैसे वास्तविकता से परिचित होते जाते है, रिस्तो के प्रति ईमानदार पक्ष के लिए लोगो की सोच और भावनाए सकारात्मक होती जाती है और येसा होना प्रताडित व्यक्ति को फिर से समाज में सम्मानजनक स्थिति दे जाती है |

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  24. main to bas itna hi kahungi.............
    nari tumko na ab abla banna hoga
    na kisi ke shabd baan ko sahna hoga
    nari tum to nar ki janani ho
    phir kyun nar ke shabd baan sahti ho
    nari tumhein khud hi durga banna hoga
    mardon ki is duniya ke
    mahishasur ka vadh karna hoga
    nari tumhein apni pahchan khud hi banani hogi
    astitv ki is ladayi mein
    loh purush sam loh nari ban ubharana hoga.

    yeh kavita abhi kuch dino pahle hi likhi thi bas post nhi ki thi.
    shayad aapke prashna ke uttar swaroop hi likhi gayi thi.
    ummeed hai aapko pasand aayegi aur aapka jawab bhi aapko mila hoga.

    kya aisa hi nhi karna hoga.........aap hi bataiye.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  25. अपना रास्ता तो स्वयम ही बनाना है ..और बन भी रहा है .हिम्मत नहीं छोडनी है ताकि उंगिलयां न उठ सके ...बहुत परिवर्तन आ चूका है बहुत अच्छा आना बाकी है ..कोशिश और यही आगे बढ़ने की भावना बनी रहे ..आपके लिकेह विचारों में यही कथन उजागर होता है

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  26. जब तक स्त्री को समझने का नजरिया नहीं बदला जाता तब तक उँगलियाँ और नसीहतें उसी के हिस्से में आएँगी...जुल्म करने वाले और सहने वाले दोनों दोषी हैं....जब से सृष्टि बनी है तब से येही सब होता आया है...इसमें परिवर्तन की सम्भावना बहुत धीमी गति से है...
    नीरज

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  27. मुझे असहज लगता है ये! सच तो ये है की अब समय बदल रहा है , खरगोश बार बार हार रहा है ,सारस जानबूझ कर लोमडी के पास जाता है ]जरुरत सिर्फ घर से बाहर इमानदारी से देखने की है ,ये काम औरत को खुद करना होगा ,मैं व्यक्तिगत तौर पर हिंदी साहित्य में और वास्तविक जीवन में महिलाओं की हारी हुई ,डरी हुई एवं नसीहतों का बोझ ढ़ो रही छवि स्वीकार नहीं कर पाता ,उसे सिर्फ जीतता हुआ देखना चाहता हूँ कागजों पर भी बार बार हारी है वो ,कम से कम कलम से उसमे विरोध करने का साहस तो पैदा करे हम ,ये जिम्मेदारी पहले महिलाओं को निभानी होगी ,और उसके इस कदम पर अंगुलियाँ उठेंगी ,इतना साहस पतित पुरुष धर्म के लंबरदारों के पास शायद नहीं होगा

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  28. आपने तो अपनी कविता की अंतिम कुछ पंक्तियों द्वारा तो हम सब को इतना बेबस कर दिया कि कहे तो क्या कहे क्योंकि जो कहना है उसके लिया कलम यानी कीबोर्ड को अंगारों पर से गुजारना होगा...............

    असाधारण भावव्यक्ति. हार्दिक आभार.

    चन्द्र मोहन गुप्त

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  29. yaha mojud savi deviyo or sajjano ko mera saprem namaskaar,,,,
    sabse pehle to aaj charcha me der se bhaag lene ke liye kchama chahunga,,,thode kaam me uljha reh gaya aaj pure din,,,avi wapis aaya to saare posts padha,,,



    @ preeti ji,,
    ji han hame yeh maalum hai ki ek purush ke karan he vaidehi ko desh nikala mila,,,or srii ram v ek purush he the jnhone ek dhobi ki baat k sun kar apni stri ko desh se nikalne par majbur kiya,,,lekin aaj mai ye jarur kehna chahunga,,,ki wo vaidehi ne desh nikala svikaar karke apne abla hone ka parichay diya tha,,lekin dharti me samana to honi ka ek chakra tha,,,mai isi baat ko bar bar keh raha hu preeti ji,,,ki naari ko khud dant kar khada hona hoga lakshmi baai ke tarah,,,na ki desh nikala svikaar karna hoga vaidehi ke tarah,,,ye mat bhuliye,,ki granth hamare yeh v kehte hai ki jo khud ki madad karta hai usi ki madad bhagwan v karta hai,,,or han,mai yeh v kehna chahunga ki yaha ha koi bar bar yahi kahe ja raha hai ki "purush ka banaya samaz" "purush ka banaya samaz" lekin shayad har koi bhul ja raha hai ki "janani janmabhumis cha,,swargadpi gariyasi" bina naari ke saaz ya duniya me manav jivan ki kalpana karna v murkhata ka praman hoga...



    or jaha tak aapne kaha ki,purush v to dushman hai,,to batana chahunga,,,agar aap kisiki dushmani ko svikaar karte hai,,to he dushmani chalti hai,,,lekin agar aap khud nakaar de dushmani ko,,to wo dushman laakh chah kar v aapka kuch nai bigaad sakta,,,to bas jarurat hai naari ke dant kar khade hone ki :) aasha hai aap mere is post se sehmat hongi :)

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  30. @ jyotsana ji...


    yaha mere posts ne kuch logo ka dhyaan aakrist kiya,,yeh dekh kar badi khusi ho rahi hai,,,mai isi kram ko aage badhate hue sarwapratham ek baat ki or aapka dhyaan aakristh karana chahunga,, ki stri or purush dono he ek ratth ke 2 pahiye ke saaman maane gaye hai,agar ek pahiya v uncha nicha ho jaye,to ratth thik se nai chalta,,mai to itna manta hu,,,ki jaha stri or purus ka milan hota hai waha kahi v aatma swabhimaan jesi baat nai reh jaati,,ye baat jitni stri par laagu hoti hai utni he purush par v laagu hoti hai,,lekin isi jagah hamara samaj piche ho jata hai jaha ki wo stri ko chhota or purush ko bada darja dene lagta hai,,,khud striyan v iske liye kitni jimmedaar hai ye mai aapko ek do udaharano ke saath batana chahunga,,, "jub beta paida hota hai to maa ke saath saath saas or naani se le ke buaa or maasi tak khush dikhti hai,,,lekin wahi beti ke paida hone par ye sub mahilayen he udaas or niraas hone lagti hai,,,to bataiye ki khud ko kamjor banane me pehle aurat aage aai ya purush ne pahal ki???? dushra udaharan batana chahunga,,,jub beti paddhna chahti hai to ghar me sabse pehle maa,dadi or buaa jesi mojud mahilaye he sabse pehle na shabd ka prayog karti hai,,,na ki purush,,,ek alag sa or udaharan bata deta hu,,, jub koi vivaah hota hai,,to agar bahu kam dahej le kar aati hai to sabse pehle saas or nanad ke he bhaue chadhte hai na ki ghar me mojud purush ke,,, to ab bataiye,ki pehla doshi kon hai mahila ke upar ungli uthne ya use kamjor banane me? kon hai doshi,,mahila ya purush? agar aatma sanmaan ka itna he khayal karti hai mahilayen to kyu aaj bhi dahej jesi kuriti ko badhawa de de kar khud ke astitva ko samaj me halka karti ja rahi hai mahla? agar apne maan or sanmaan ki itni hi chinta hai,,to khud anpaddh ho kar jo khoi wo apni beti ko kyu nai padhne deti? kyu apni bei ko swabhamani banati hai mahila? jyotsana ji,,,kahawat hai ek,,,ki "dur ka dhol suhana laage" to ye wo he dhol hai jo aaj v mahila dur se baja rahi hai yh keh kar ki use barabar hak nai milta...lekin koi dantt kar ladne aage nai aa rahi,,,kyu? kyuki ghar ki safaai me haath kon ganda kare? aap he bataiye,ki aap kitni mahilao ko janti hai aaj ke samay me jo ki smt.rashmi prabha ki tarah apni betiyo ko bete ke barabar darja de kar barabar paddha likha rahi hai? aaj v mahilao me maatra 10% he aisi jaagriti dekhne ko milegi jyotsana ji,,,aapne kaha ki mai aapke he baat ka samarthan kar raha hu,,ki pehle apne girebaan me jhanke....ji han aapne bahut thik samjh...mai aapke is baat ka he samarthan kar raha tha,,or ek udahran v diya tha maine iske saath jo ki aapne apne post me mention v kiya hai...


    aapne kaha ki mai visay se bhatak raha hu or trutiyan nikal raha hu,,,lekin jyotsana ji ye mat bhuliye ki bine trutiyo ke bahar nikle koi v samasya ka samadhan nai nikal sakta,,,yaha visay hai ki "ungli aakhir aurat par he kyu utthti hai?" jyotsana ji...mai daawe se kehna chahunga,,ki agar mera kaha ek ek wakya is baat ka jawab na de,,to mera ye likhna bekar hoga,,,chahe jimmedar jo v ho,,,maine har kisi ko point karke is baat ka jawab dene ki kosis ki hai ki kyu ungli utthti hai or kon hai jimmedar?




    apne is post ke aakhir me bas itna kehna chahunga apne desh ki naari se...





    ki "kab tak ye mamta or kshama rupi devi ki chadar odhe rahengi hey devi,ab is rup ko badal den,ban jayen jwala,or jala den har uthne wali ungli ko,mita den har utthte swalo ko or nast kar de aapko haani pahuchane wale har srot ko"

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  31. बहुत सुन्दर अभिव्क्ति.....परन्तु जिस प्रश्न को आपने उठाया है,आज तक किसी ने सटीक जबाब नहीं दिया है मैं भी असमर्थ हूँ.....कभी हमारे ब्लॉग पर आये.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  32. @ Amit ji....
    yaha aapke vichaar padhe... hame lagta hai aap apne aap main hi confuse ho.. kabhi kuch aur kabhi kuch keh rahe ho....! behtar hai yeh bahas yahi bandh ki jaaye.... wese bhi yeh blog hai bahas ka takht nahi... [:)]

    Aasha hai aap bura nahi maanenge...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  33. bahut sundar laga ..... kuchh pal ke liye to mae kho gaya ..... aap ne aap me ..... aur khud se hi puchh ne laga ... akhir galat koun ???????????? dil ko chu lene wala aur sab se bari bat to ye hae ki ek bar bachpan yaad aagaeee

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  34. स्त्री ?? ये कौन से प्राणी का नाम है..हा वही ना जो अपना निर्णय भी खुद ले नहीं सकती...वो ही ना जो अपने वजूद के लिए लड़ भी नहीं सकती...और वो ही ना जो ये आजाद देश की गुलाम है...हा इसे तो कही देखा है..घर के कपडे धोते हुवे...४० साल शादी को हो जाये फिर भी मईके के नाम से गाली खाते हुवे...उसे कहा शर्म और अपनी इज्जत की कुछ रक्षा करनी आती ही है..वो दुसरो के सामने सर उठाकर जीती है ..पर अपने ही घर वालो के सामने सर जुकाकर जीती है..रोज उसकी वासना का शिकार बनती है रोज सास की गलिया खाती है...पर फिर भी उसीके साथ जीती है...क्योकि माता पिता तो रखेंगे नहीं और यहाँ भी उसका घर थोडी है ये तो ये सास का है या पति का..उसका तो कुछ भी नहीं..ना बच्चों के पीछे उसका नाम लगता है..
    पर अपना भारत देश महान है यहाँ तो सती सावित्री ने जनम लिया था..और सब पतियों को सावित्री ही चाहिए..और सावित्री बनने की कोशिष में वो अपना आखरी सास ले के मर जाती है..बात ख़तम स्त्री नाम के प्राणी की...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  35. @ preeti ji : hahahaahahahaha :P may be,,,apki comment sar aankho par :P

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  36. parshan to ati uttam hai aapke .par wo parshan hi kya jiska uttar ekdam satik mil jaye................. aourat kya hai y khud aorat bhi nhi janti ...... ishwar ne use srijan ka kam diya ,dharywan banaya ....... par practical life mai ye sab kahna kitna aasan hai par sachmuch mai nari ko bahut samjhote karne parte hai .gar na kare to ashanti hoti hai .so .....jis cheez se tanav ho use aviod karo purush bhi koi aasman se nhi utra hai bas uski parvarish hi usko aisa bana deti hai par hote kitne bhole hai purush ....... gar ek stree din bhar ghar k liy khat ti hai to purush bhi ghar k liy mehnat karta hai ....................... muze to garv hai apne nari hone par n apne jivan mai aaye purusho par .chahe wo pita bana kar aaye ya bhai ya .mere hubby ........... i love them

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  37. Rashmi Mam, aap kitna aacha likhti hain .......aapne to hamari soch ko ek nai disha di.... Bahut kuch milega sikhne ko aapse

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  38. @ NIvia ji.....
    समस्या का आकलन व्यक्तिगत परिप्रेक्षय में नहीं होता, दृष्टि अपने इर्द गिर्द घुमानी पड़ती है ... दुसरे के आंसुओं की भाषा को समझना होता है , फिर जज्बातों को लिखना होता है . हम रोज अच्छा खाते हैं से परे कई लोग भूखे हैं क्या इस् सत्य से आँख चुरा लें ...और हाँ स्त्री पुरुष एक-दूजे के पूरक होते हैं , इसका ज्ञान तो सबको है ....
    क्या ऐसा ही सामान्यतः होता है ?
    अगर यही होता तो प्रश्न कैसा ?

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  39. गौतम बुद्ध ने कहा है "अपना दीपक आप बन"
    अपने सवालों का जवाब हमें खुद ही तलाशना होता है।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  40. संवेदना गहरी है ,अभिव्यक्ति सुन्दर ,बधाई।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  41. acha blog hai ji aapka.. this is th first hindi blog I am visiting..

    good job... keep it up !!!

    SidFx
    http://www.apnahomepage.in
    Making Indian Weblife a comfortable journey...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  42. यदि आप अपने ब्‍लॉग हेडर में दिया गया कैप्‍शन छोटा कर दें, तो ज्‍यादा अच्‍छा हो।

    -----------
    मॉं की गरिमा का सवाल है
    प्रकाश का रहस्‍य खोजने वाला वैज्ञानिक

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  43. rashmi didi ;

    bahut hi sundar bhaav aur ek jwalant prashn ,jinke uttar sambhav nahi hai ..

    itni acchi rachan ke liye badhai


    vijay
    http://poemsofvijay.blogspot.com

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  44. sach kahaa aapne ungaliyaan stree ki or hi uthtee hain, lekin vakt teji se badal rahaa hai.
    - vijay

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  45. उंगलियां स्‍त्री की तरफ

    उठती हैं जब भी

    उसे भीतर तक
    भेदती ही हैं
    1

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  46. जब तक वह जलती है,
    सब मौन रहते हैं !
    पर उसके विरोध में उठे क़दमों पर
    सबकी गंभीर दृष्टि होती है !
    मेरी आंखों में नींद नहीं,
    मेरा सम्पूर्ण वजूद
    आज प्रश्न लिए खड़ा है ,
    उत्तर की तलाश है............
    नहीं
    kuchh kah nahee rahaa hoon ,manan chintan kar rahaa hoon vyathaa samajh rahaa hoon -

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  47. ....MAI UTAR DETA HU.........

    NA KHARGHOSE HARA THA NA KACHUA
    US SAMAY BHI KOI HARA THA
    TO WAH THI
    NARI NARI AUR KEWAL NARI
    AB UTAR DETA HU...........
    BADLAO PRAKRITI KA NIYAM HAI KHARGOSH KE HARNE KA KEWAL EK HI KARAN THA JEET KE LIYE PURI TARAH SE TAYAR NA HPNA........................
    USI TARAH "NARI" US SAMAY JEET KE LIYE PURI TARAH TAYAR NAHI THI YA PRYASH ME KOI NA KOI KAMI THI, IS LIYE NARI HAR JAGAH DABI THI............

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं