08 जनवरी, 2010

प्रत्यंचा




मन की धाराएँ
तटों से टकराकर
जब गुमसुम सी लौटती हैं
तो दिशा बदल
क्षितिज के विस्तार में
बढ़ने लगती हैं
और धरती से आकाश तक
अपनी प्रत्यंचा खींच देती हैं

46 टिप्‍पणियां:

  1. aap kam panktiyon mein koi bhi baat vistaarpoorvak kah jati hain.

    ye bahut achchha lagta hai

    उत्तर देंहटाएं
  2. vicharon ke teer chubhte hein
    magar lahoon nahi nikalta
    apni aankh ke paniyon ko dhoondhne lagti hoon
    ek boond ...bas ek boond us namkeen pani ki nikal jaye
    to mann ki dhara par bhi kisi pushp ke pallawait hone ki sambhavna jage....!

    Rashmi di...... aapki rachnayein behad behad prerit kar jaati hein... aur kuchh na kuchh likh hi jaati hoon....! khush naseeb hun jo aapka saath uplabdh ho paya...!

    उत्तर देंहटाएं
  3. मन की धाराएं.....क्षितिज का विस्तार और धरती से आकाश तक प्रत्यंचा

    बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति......बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. यही कहेंगे की - "कम शब्दों में गहरी बात "...ILu..!

    उत्तर देंहटाएं
  5. इंद्र्धनुष जैसा सुंदर भाव

    उत्तर देंहटाएं
  6. Ye pratyancha nature ki ho ya fir man ki....zaroori hai jeene ke liye....control ke liye

    उत्तर देंहटाएं
  7. Ye pratyancha nature ki ho ya fir man ki....zaroori hai jeene ke liye....control ke liye

    उत्तर देंहटाएं
  8. मन और मन में बनते-बिगड़ते भावों का सुंदर चित्रण..धन्यवाद ..रचना अच्छी लगी..

    उत्तर देंहटाएं
  9. bahut sundrta se phir bhav khinche hai yaha

    hamesha ki tarah bahut acha laga padna

    उत्तर देंहटाएं
  10. इस रचना मे शब्दों का समावेश व अभिव्यक्ति प्रभावशाली है किंतु भाव कल्पना से ओतप्रोत जान पडते हैं, .. धाराएं कौन से तटों से टकराकर विस्तार रूप ले रहीं हैं और कहां प्रत्यंचा खींच रहीं हैं .. !!!!
    टिप्पणीकारों द्वारा भी लेखक की तारीफ़ में खूब वाह-वाही दर्ज की है जो अपनी उपस्थिति दर्ज कराने ... !!!!
    लेखक की कल्पनाशीलता बेहद प्रभावशाली है जो निश्चिततौर पर बधाई के योग्य है !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. धाराएँ दिशा बदलकर प्रत्यंचा चढ़ा लेती हैं ...क्या खूब कहा ...
    आप तो दिनोदिन मेरी आदर्श बंटी जा रही है ...प्रणाम ..:)

    उत्तर देंहटाएं
  12. Pradam di,
    Hamesa ki tarah gagar me sagar bhari di hai aapne...badhai swikare

    उत्तर देंहटाएं
  13. गुमसुम से मान की दौड़ कहाँ जा कर रुकेगी कोई नही जानता .........
    मान के एहसास को गहरे से बयान किया है आपने ........

    उत्तर देंहटाएं
  14. Pranam,
    badhi mriduta se vicharo ka samavesh kiya hai apne.
    ap ki profile bahut hi achhchhi hai

    उत्तर देंहटाएं
  15. Didi, bahut manmohak kavita kahi hai. Aapki kavitayein mere liye kisi sapne ke samaan hoti hai. bahut khoobsurat kavita aur baat kehne ka tareeka to kya kahun...waah!!

    --Gaurav

    उत्तर देंहटाएं
  16. आपको और आपके परिवार को नए साल की हार्दिक शुभकामनायें!
    बहुत बढ़िया रचना लिखा है आपने!

    उत्तर देंहटाएं
  17. क्षितिज के विस्तार में जाने का संकेत!
    मन की उथल पुथल को दिशा दे रही है....आप की यह कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  18. हमेशा की तरह..गागर में सागर..

    उत्तर देंहटाएं
  19. ये प्रत्यंचा बहुत खूब है पर इनपे चाप नहीं चढ़ता !!!

    उत्तर देंहटाएं
  20. और यह खिची हुई प्रत्यंचा चित्र में भी दिख रही है.
    बहुत खूबसूरत

    उत्तर देंहटाएं
  21. रश्मि जी कम शब्दों मे इतनी बडी बात कह दी। बहुत बहुत बधाई। इस प्रत्यंचा को खींचे रखें तभी तो हमे इतनी सुन्दर रचनायें पढने को मिलेंगी। शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  22. शब्दों के इंतज़ार में है यह मन की अपने भावो को कैसे आप से कहे ....
    हसीन है आप के शब्दों का संसार ...

    अमित

    उत्तर देंहटाएं
  23. रश्मि जी,बहुत दिनों से ऐसी ही एक कविता की आशा में था जो जीवन का पूरा विस्तार लिए आगे बढती हो. इन्द्रधनुषी बिम्बों के सहारे आपके भावों ने जो रूप धरा हैं वह अपने- आप ही सब कुछ कह जाता है.

    उत्तर देंहटाएं
  24. सीमित से असीमित की आपकी यात्रा ने बहुत प्रभवित किया है.

    उत्तर देंहटाएं
  25. rashmi ji,
    sundar bhaawaabhivyakti, aapki kalpanashilta par daad kubool karen.

    उत्तर देंहटाएं
  26. WAAAAHHH !!!! KYA BAAT KAHI.....

    ITNE KAM SHABDON ME AAPNE POORA BIMB SAKAAR KAR DIYA...CHITRA KI TO KOI AAWASHYKTA HI NA BACHI...

    उत्तर देंहटाएं
  27. jee ekdam yaho hota hai..gumsum si lautti bhi hain aur pratyancha bhi banati hain...saaare prayog karti hain..saare..

    उत्तर देंहटाएं
  28. थोड़े से शब्दों में भावों का विस्तार भी क्षितिज के विस्तार से कम नहीं.
    सुन्दर अभिव्यक्ति.
    महावीर शर्मा

    उत्तर देंहटाएं
  29. बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द ।

    उत्तर देंहटाएं
  30. बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति.....

    उत्तर देंहटाएं
  31. मन और मन में बनते-बिगड़ते भावों का सुंदर चित्रण..धन्यवाद ..रचना अच्छी लगी..

    उत्तर देंहटाएं
  32. आपका भी जवाब नहीं...!शब्दों और भावनाओं की सुन्दर अभिव्क्ति..

    उत्तर देंहटाएं
  33. मन और मन में बनते-बिगड़ते भावों का सुंदर चित्रण..धन्यवाद ..रचना अच्छी लगी..

    उत्तर देंहटाएं

रामायण है इतनी

रूठते हुए  वचन माँगते हुए  कैकेई ने सोचा ही नहीं  कि सपनों की तदबीर का रुख बदल जायेगा  दशरथ की मृत्यु होगी  भरत महल छोड़  स...