02 जनवरी, 2010

अकेलापन क्यूँ?




अरसा............जाने कितना अरसा हुआ
कोई चिठ्ठी लेकर डाकिया नहीं आया
लेटर बौक्स में पड़े रहे-
बिजली बिल, मोबाइल बिल
या कुछ प्रचार पत्र......
जानती हूँ,
सबकी अपनी दुनिया है
अपनी खुशियाँ, अपने दायरे
अपने गिने-चुने सम्बन्ध-
तो फिर ये अकेलापन क्यूँ?

35 टिप्‍पणियां:

  1. अपने हाथ से लिखी हुई चिठियो में अपने ह्रदय कि बात होती थी जो सबके दिल के पास होती थी बड़ा लंबा सफरतय करके
    चिठ्ठी हमारे पास होती थी जिसमे अपनों कि खुशबू होती थी जो हां सबको जोड़े रखती थी |आज इतने संवाद होने पर भी सच हम कितने अकेले है |आपकी इस छोटी सी अभिव्यक्ति ने बहूत कुछ बयां कर दिया |
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्यों डाकिये और खतों की याद दिलाती हैं ...
    क्यों जख्मों पर नमक छिड़कती हैं ...
    कौन लिखता है आजकल ख़त ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. अकेलापन चुनाव होता है किसी ऐसे का, जिसके सामने संभावनाओं की बहुतायत हो। बहुत अच्छी रचना। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. हां जी ये एकाकीपन आज के जीवन का सबसे बडा सच है , और आपने उसे बखूबी कहा

    उत्तर देंहटाएं
  5. kisi ke apne hone ka ahsaas kara jate hain aise khat jo aate hain naam hamare magar aaj uske liye sabhi taraste hain..........bahut hi umda likha.

    उत्तर देंहटाएं
  6. wow kya baat hai.....ek nostalgic feel diya aapne to......ab chittiyan nahi aati....fir bhi doori hai rishto mein......is mobile ne nazdikiyon ke naam par thag liya hamko :-)

    उत्तर देंहटाएं
  7. वो दिन हवा हुए जब चिट्ठी आती थीं...अब तो इ मेल हैं या फ़ोन .

    खूबसूरत अभिव्यक्ति ....बस अकेलेपन में खुद से ही बात कर लेते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  8. जब इन्सान दूसरो के बारे मे सोचना छोड़ देता है तो दायरे सिमट ही जाते हैं.....बहुत गहरा एह्सास कराती रचना है.......बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  9. चिट्ठी ना कोई सन्देश ...
    आज दुनिया आभासी हो गई है, अपने में मस्त, सच्चे प्यार की पहचान ना के बराबर ... social networking site पर virtually greetings भेज कर या e_mail से सन्देश भेज कर हर कोई बस एक फोर्मालिटी पूरी करता है ऐसा लगता है ... ILu..!

    उत्तर देंहटाएं
  10. Zindagi mein log aate hain
    Haath milate hain
    gale milte hain
    Do kadam saath bhi chalte hain
    Aur
    phir chale jaate hain
    Chor jaate hain tanhai
    aur
    akelapan
    Dil ke kono mein ek ajeeb sa khalipan
    Yahi to hain
    Kuch beete lamho
    aur
    kuch yaadon ki dastan...
    ..................by tusharrastogi

    उत्तर देंहटाएं
  11. खत और डाकिया तो संग्रहालय की चीज हो गये

    उत्तर देंहटाएं
  12. rashmi ji,
    sach puchhiye to ab daakiye ka intzar kisi ko nahi rahta, lekin agar kisi nimantran-patra ke alaawa koi patra aa jaye to lagta ki wo kitna apna hai jisne aaj ke jaise samay mein jab phone se haalchaal ki aupchaarikta log nibhate kisi ne itne man se apne haath se patra likha hai. lekin patra aate hin nahin ab. ye akelapan hum sabki baat hai.
    bahut badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह..शानदार मौके पर जान्दार कविता..और इसलिये बोल रहा हू क्यूकि अभी ही सेम सबजेक्ट पर लिखा मैने भी :)

    नव वर्ष की शुभकामनाये..

    उत्तर देंहटाएं
  14. भावनाओं की अच्छी अभिव्यक्ति
    हम सच जानते हुए भी
    अपने को
    एकाकी महसूस करते हैं
    --वाह!

    उत्तर देंहटाएं
  15. सब अपने अपने में मस्त हैं...इसीलिए तो अकेलापन है!

    उत्तर देंहटाएं
  16. are di kahan khat-ki yaad dilati ho...ab vo apna pan raha hi kahan rishton main..abhi to hai ye akelapan ..sab sukh hote hue bhi tanha hai insaan.

    उत्तर देंहटाएं
  17. nav varsh ki asim aur anant shubhkaamnaaye ,is rachna ko padhkar kuchh baate yaad aa gayi jisse man gila ho gaya sundar .

    उत्तर देंहटाएं
  18. इस खुबसूरत रचना के लिए बहुत बहुत आभार
    नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं ................

    उत्तर देंहटाएं
  19. सब अपने अपने में मस्त हैं...इसीलिए तो अकेलापन है!

    उत्तर देंहटाएं
  20. Sach me,
    Risste aaj apni ahmiyat khote jaa rahen hain...
    aur aapne to di gagar men sagar bhar diya hai...!

    उत्तर देंहटाएं
  21. चिट्ठियों के बिना अकेलापन तो लाजिमी है. साथ ही जीवन में रंग भी फीका ही दिखता है.
    एकाकीपन तो सच है. आपने संक्षिप्त पंक्तियों में खूब ब्यान किया है.

    वैसे ये चिट्ठिया अनमोल होती है. हाल ही लिखा था जैसा महसूस किया था मैंने.

    - सुलभ

    उत्तर देंहटाएं
  22. रश्मि जी ,सादर नमस्कार. चिठ्ठी-पत्री का दौर अब समाप्ति की ओर है और उसका स्थान दुसरे संचार माध्यमों ने ले लिया है.लेकिन अपना अतीत याद आता ही है. अतीत से बिछुड़ने का दर्द ही कविता के रूप में मरहम का काम करता है. परम्परा में बदलाव को स्वीकार कर पाना इतना आसान नहीं होता लेकिन समय के साथ यह बदलाव भी हमें प्यारा लगने लगता है.दिल को छु कर निकलती रचना के लिए धन्यवाद् .

    उत्तर देंहटाएं
  23. सुन्दर रचना
    बहुत बहुत आभार एवं नव वर्ष की हार्दिक शुभ कामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  24. BHEED BADHTI JA RAHI HAI PAR VYAKTI AATMKENDRIT HOTA JAA RAHA HAI...ISLIYE TO BHEED ME BHI DOOR TAK SANNATA,AKELAPAN PASRA RAHTA HAI....

    MAN KO CHHOOTI ATI PRABHAVI RACHNA....

    NAV VARSH KI ANANT SHUBHKAMNAYEN....

    उत्तर देंहटाएं
  25. डुजिटिलाइज दुनिया की एक और हद-बंदी..ये खतों का न आना। अपना फौजी भी नहीं लिखता क्या? खबर लेनी पड़ेगी उसकी.. :-)

    उत्तर देंहटाएं
  26. स्वतः पैदा की हुई मन की स्थिती होती है ये अकेलापन
    चारों और से तथाकथित अपनो से घिरा होलर भी आप इसे अनुभव कर सकते है |
    इ मेल के समय मे मेल की आशा ? ?
    :)

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत सच्ची बात. चिट्ठी का मुकाबला आज का संचार-तंत्र कभी नही कर सकता...

    उत्तर देंहटाएं
  28. बहुत सुन्दर ढंग से लिखी गई ख़ूबसूरत रचना ...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  29. नव वर्ष मंगलमय हो और ऐंसें ही आपकी सुंदर रचनाएँ पढ़ते रहें ।

    उत्तर देंहटाएं
  30. सबसे पहले आपको नव वर्ष की शुभकामनाएँ ........ ६-७ दिनों से बाहर था, नेट तक पहुँच नही थी ........
    हाथों से लिखी पाती अब जैसे गुज़रे ज़माने की बात हो गयी है ....... वैसे भी सब इतना मसरूफ़ हैं वक़्त की आँधी दौड़ में किसी को कोई फ़ुर्सत नही .......... बहुत ही कमाल का लिखा है हमेशा की तहर ........

    उत्तर देंहटाएं
  31. जी हाँ सभी अपने दायरे में है और शायद सम्बन्धो के दायरे और संकुचित हो गये हैं.
    वैसे अब पत्रों के माध्यम भी तो बदल गये हैं.
    ये टिप्पणियाँ भी तो पत्र ही हैं और शायद सम्बन्धो के नये आयाम भी हैं.
    खूबसूरत रचना

    उत्तर देंहटाएं
  32. प्रिय मित्रो
    परिवर्तन को हम सभी महसूस करते है देखिये ना आज मुझे यह वाल पेपर दिखा और फिर आभास हुआ की सच में समय बदल गया है ... एक पुरानी तलवार अब चूहा हो चुकी है.... एक ऐसा चूहा जिसने पल में पूरी दुनिया को अपना मुशिद बना लिया है....
    हम भी उसी की छाव में है ... पर इस परिवर्तन पर दुःख नहीं होता है... आज अगर हम इतने नज़दीक है तो इसका कारण भी यही चूहा है...
    २६ जनवरी आने वाला है एक ऐसा दिन जब हम अपने देश के स्वतंत्रता सैनानियों को अपने गणतंत्र को और एक गणतंत्र बनने की गुजरी हुई प्रक्रिया को जरूर याद करते है...
    यही वह कलम है जिसे हमारे स्वतंत्रता वीरो ने तलवार की तरह उपयोग किया था ... क्या एक पल को भी हमे इस बात का अहसास होता है की क्या दिन थे वो ... या कभी भी हम उन वीरो को भी याद कर पाते है ... क्या कभी भी हमे इतना समय मिलता है की दो पल उन्हें भी दिए जाए या उनसे भी हमे कुछ सीखना चाहिए ....
    यह सब फ़ालतू की बाते है इस पर ध्यान देना ज़रूरी नहीं है ....
    इसी लिए हम आज़ाद होकर भी गुलाम है....
    और अगर इस परिवर्तन से हम खुश है तो वो दिन भी दूर नहीं होगा जब हम एक आज़ाद देश के गुलाम के रूप में इस दुनिया से अलविदा कहेंगे...
    विचार करिए इस परिवर्तन पर ....
    तलवार बनकर जीना है की चूहा बनकर मरना है...
    शुभ रात्रि....

    उत्तर देंहटाएं

अक्षम्य अपराध

उसने मुझे गाली दी .... क्यों? उसने मुझे थप्पड़ मारा ... क्यों ? उसने मुझे खाने नहीं दिया ... क्यों ? उसने उसने उसने क्यों क्यों ...