14 फ़रवरी, 2010

दिल का हिस्सा


मैं दिल का वह हिस्सा हूँ
जिससे तुम कहो ना कहो
वह सुनता है
धड़कता है.....
कई बार आँखें नम होती हैं
पलकों पे ठहरी बूंद
तुम्हारी परछाईं बन जाती है

33 टिप्‍पणियां:

  1. यही तो खासियत है कि आप सब सुन लेते हो... और वो कह नही पाते..

    एक साइलेन्स के थ्रू बात करना सिर्फ़ प्यार मे डूबे दो दिलो को आता है..

    बहुत बढिया..

    उत्तर देंहटाएं
  2. आंसू परछाईं बन जाते हैं....बहुत नयी सी सोच....और दिल को छूने वाली....

    उत्तर देंहटाएं
  3. aur wahi parchayi jine ka sabab banti hai, harpal saath chalti hai...ILu...!

    उत्तर देंहटाएं
  4. वो बिना कहे सब सुन एलन ही तो सच्चा पयर है जो दिल से निकलता है और धडकन बन जाता है

    उत्तर देंहटाएं
  5. मम्मी.... बहुत सुंदर कविता..... है....

    उत्तर देंहटाएं
  6. रशिम जी मै प्रगति मेदान नही जा सका, बस समय की कमी के कारण, वरना बहुत सी किताबे खरीद कर लाता, आप की कविता हमेशा की तरहा बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  7. गहन भाव लिए आप की कविता दिल में उतर जाती है..

    ---दिल के उस हिस्से को तलाशने जा रही हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  8. इतनी प्यारी छोटी सी कविता और इतना गंभीर भाव ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. bahoot khoob prabha jee pant jee kee manas putree hone ke sath aap me vo khobiya bhee hai

    उत्तर देंहटाएं
  10. लाजवाब रचना...वाह रश्मि जी इसबार इतने कम शब्दों में कितनी सारी बात कह दी आपने..वाह...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपके शब्दों में हमेशा कुछ खास होता है

    उत्तर देंहटाएं
  12. aapke blog par kai baar aai tippani bhi ki magar aap shayad rasta bhatak gayi yaa na khush hai ,jo gantanra divas par bhi badhai na de saki ,waise main aakar aksar padhti hoon magar sankochvash tippani nahi kar pati ,aaj man vash me nahi raha isliye padhne ke saath comment bhi karke jaa rahi hoon ,baat dilo ki rahi shayad vajah yahi hui ,haq se kah diya aage dekhe kya ....
    rachna to aapki taarife kabil hi rahti hai aur baat phir dil ki hai
    to kuchh kahne ki jaroort hi nahi .

    उत्तर देंहटाएं
  13. इतनी प्यारी छोटी सी कविता और इतना गंभीर भाव ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. गहरे अर्थ सिमेटे आपकी रचना .... कुछ ही शब्दों का लंबा सिलसिला ....

    उत्तर देंहटाएं
  15. or vaastavikta yahi hai ki wahi dil ka hissa humara atrang sathi hota hai,jo humare acche bure ka sakshi bhi hai...
    aapki yeh rachna dil ko sparsh karti hai maa'm.
    bahut accha laga.

    उत्तर देंहटाएं
  16. dil kee baat dil tak pahunchi, dil ne samjha aur dil bol utha... waah...badhai rashmi ji.

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत प्रभावशाली रचना सुंदर दिल को छूते शब्द

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सुंदर है -दिल और आंसू के साथ की कविता ! बधाई स्वीकारें !

    उत्तर देंहटाएं
  19. रश्मि जी दुविधाओं के बीच बहुत अंतराल से आज पोस्ट डाली ....पहला कमेन्ट आपका देख हैरानी हुई .....!!

    आपके संकलन में कवितायें सिर्फ आपकी हैं या संयुक्त रूप में निकाली है ....विस्तार से नहीं लिखा आपने ....कुछ विस्तार से बताइए ....संपादन आपने किया प्रकाशक कौन है .....??

    उत्तर देंहटाएं
  20. वाह...क्या बात कही आपने...वाह....

    उत्तर देंहटाएं
  21. कविता ,,,,
    संक्षिप्त होते हुए भी
    बहुत प्रभावशाली बन पडी है
    भावनाओं की गहराई स्वयं बात कर रही है
    अभिवादन .

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत कम शब्दों में बहुत गहरी बात ....
    आंसुओं का परछाईं बन जाना दिल के करीब लाता है.......

    प्रणाम के साथ शुभकामनाएँ.......

    उत्तर देंहटाएं
  23. आपकी रचना का कोई जवाब नही पर इस बार फोटो सच मे बहुत कुछ कह गई

    उत्तर देंहटाएं
  24. संक्षिप्त किंतु सुंदर।

    आपकी किताब ले आये हैं मैम...उस दिन कश्मीर में इतनी बर्फबारी हुई थी कि सारे रस्ते ब्लौक थे...तो पुस्तक-मेले में दो दिन बाद पहुंच पाया था। शैलेश जी बता रहे थे विमोचन के बारे में। नुकसान मेरा ही था।

    उत्तर देंहटाएं
  25. छोटी सी लेकिन शब्दो की गहराई लाजवाब ।

    उत्तर देंहटाएं

रामायण है इतनी

रूठते हुए  वचन माँगते हुए  कैकेई ने सोचा ही नहीं  कि सपनों की तदबीर का रुख बदल जायेगा  दशरथ की मृत्यु होगी  भरत महल छोड़  स...