09 फ़रवरी, 2010

कुछ कह दो


कुछ भी पुराना नहीं
कुछ भी अनजाना नहीं
कुछ भी अनकहा नहीं
कुछ भी अनसुना नहीं
फिर भी क्यूँ हैं हम अजनबी से
क्यूँ ओढ़ ली है हमने
ख़ामोशी की चादरें
क्यूँ हमने अपनी-अपनी सरहदें बना ली हैं

प्यार की बातें भी तो
हमने ही की थीं
एहसास की बातें
हमने ही की थीं
तो फिर क्यूँ
-
आज आँखें वीरान हैं
क्यूँ दिलों की धरती
बाँझ हुई जाती है
मौन तोड़ो
कुछ कह भी दो !

36 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर पंक्तियों में पिरोई गई........ एक बहुत ही सुंदर रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ख़ूबसूरत रचना लिखा है आपने! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  3. "maun todo
    kuch keh bhi do"

    rishton ke beech maun naa apne liye naa samaj ke liye achha hai... vyapak sandarbh ke baat ko kitni sahjta se kehti hain aap !

    उत्तर देंहटाएं
  4. मम्मी जी......बहुत ही सुंदर शब्दों में पिरोई गई.....एक बहुत सुंदर रचना.....

    उत्तर देंहटाएं
  5. bas shayad vaqt ki kasauti hoti hai....bahut bhavpurn likha hai di!

    उत्तर देंहटाएं
  6. आज के दौर में दिलों में बढती दूरियों से पीड़ित मनःस्थिति को सुन्दर शब्द दिया आपने | सुन्दर कविता |

    उत्तर देंहटाएं
  7. मौन भी तो बहुत कुछ कहता है
    सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति की कविता

    उत्तर देंहटाएं
  8. maun todo
    kuch kah bhi do

    uff ! ye panktiyan dil cheer gayin ......sab kuch ankah sama gaya hai inhi mein.

    उत्तर देंहटाएं
  9. "मौन तोड़ो
    कुछ कह भी दो ....."

    क्या बात है. बेहतरीन है. बहुत बढ़िया.

    उत्तर देंहटाएं
  10. कुछ भी अनकहा नहीं...
    कुछ भी अनसुना नहीं ..
    इसलिए ही तो नहीं खिंच गयी कहीं सरहदें ...
    ज्यादा नजदीकियां बन गयी दूरियों का सबक कही ...
    भीतर जितना कोलाहल था बाहर उतना घटा मौन ....
    घुटने दम लगा मेरा जब गहराया मौन ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. क्या कहें आपकी कविता ही बहुत कुछ कह रही है। सुन्दर रचना के लिये बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  12. क्या कहें आपकी कविता ही बहुत कुछ कह रही है। सुन्दर रचना के लिये बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  13. आज कविता और पाठक के बीच दूरी बढ़ गई है। संवादहीनता के इस माहौल में आपकी यह कविता इस दूरी को पाटने की दिशा में महत्वपूर्ण कदम माना जा सकता है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बुद्धिजीवियों की गणना और प्रकार में बढ़ोत्तरी हो गई है ,इसलिए .....

    उत्तर देंहटाएं
  15. us qalam ki tareef karoon ya syahi ki ya un hathon ki jisne ye kavita likhi??? chitra bhi bahut sundar lagaya mammy ji...

    उत्तर देंहटाएं
  16. Sambandho ki khamoshi ko
    bahut hi sundar dhang se
    keh diya di aapne
    badhai

    उत्तर देंहटाएं
  17. मौन तोडो
    कुछ कह भी दो ...

    रश्मि जी .. नमस्कार
    सच है कभी कभी मौन असहनीय हो जाता है ...... चीख कर सब कुछ कहना और सुनना चाहता है .... बहुत हो गहरे ज़ज्बात लिए रचना ......

    उत्तर देंहटाएं
  18. अपनों के बीच संवादहीनता के उपजी टीस को बखूबी आपने शब्द दिए हैं...
    भावुक करती सुन्दर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  19. मौन रह के ही कुछ कहना चाहूँगा......

    उत्तर देंहटाएं
  20. रश्मिजी,
    आपकी कविताओ मे जो संवेदना है,
    जीवन के हर पहलु की अनुभूती की शब्दमाला बनाने क
    सामर्थ्य है, वाकई काबिले तारीफ है. हालांकी मै तो उसमे
    शब्दस्वामी पन्तजी के आशीर्वाद को ही देखता हू.
    मगर आशीर्वाद के साथ् खुद का भी तो कुछ होना चाहिए.
    जो ईश्वरने खुले हाथो से दिया है...
    - पंकज त्रिवेदी

    उत्तर देंहटाएं
  21. रश्मिजी,
    आपकी कविताओ मे जो संवेदना है,
    जीवन के हर पहलु की अनुभूती की शब्दमाला बनाने क
    सामर्थ्य है, वाकई काबिले तारीफ है. हालांकी मै तो उसमे
    शब्दस्वामी पन्तजी के आशीर्वाद को ही देखता हू.
    मगर आशीर्वाद के साथ् खुद का भी तो कुछ होना चाहिए.
    जो ईश्वरने खुले हाथो से दिया है...
    - पंकज त्रिवेदी

    उत्तर देंहटाएं
  22. संवाद से कई समस्याएं हल हो जाती हैं.
    ...अच्छा सन्देश देती कविता...बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  23. महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  24. लफ़्जों का पुल हर रिश्ते को बांधे रखता है... एक हँसते खिलखिलाते रिश्ते के बीच ये मौन कब, कैसे, क्यूँ आ जाता है... पता नहीं... पर वो हम ही थे जिसने वो रिश्ता सजाया था और वो हम ही हैं जो उसे बचा सकते हैं इस मौन को तोड़ के...

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत प्रभावशाली रचना सुंदर दिल को छूते शब्द . सच ही कहा है. कुछ लोग आदतन ही सब कुछ जान कर अनजान बनते हैं या ये सिर्फ एक इत्तिफाक होता है?????????????????

    उत्तर देंहटाएं
  26. bahut sunder abhivayakti
    kuch kah bhi do
    kavita dil tak gahre jaakar chhuti rahi

    उत्तर देंहटाएं
  27. आदरणीया रश्मि जी, बहुत सुन्दर शब्दों में आपने बेहतरीन रचना लिखी है।---साथ ही चित्र भी आकर्षक लगा है। शुभकामनायें। पूनम

    उत्तर देंहटाएं
  28. aap ka mere blog par aakar utsah baradan karana achcha laga aap ke rachana uttam hai muka mila to ise jaroor padunga

    उत्तर देंहटाएं
  29. aapkee ek aur kavita hi iska javab deti hai...

    waah 'kuch kah do'... waah

    उत्तर देंहटाएं
  30. आज के दौर में संवाद हीनता एक बडी समस्या है क्यूं कि हम रिश्ते में अनबन का सामना करने से बचते हैं ।
    इसी भाव को शब्दों में ढालती है आपकी यह कविता

    उत्तर देंहटाएं

मृत्यु को जीने का प्रयास

मौत से जूझकर जो बच गया ... उसके खौफ, इत्मीनान, फिर खौफ को मैं महसूस करती हूँ ! कह सकती हूँ कि यह एहसास मैंने भोगा है एक हद तक ...