23 फ़रवरी, 2010

.....!


मैं अकेली कहाँ
और कब?
नज्में मेरे पास सांसें लेती हैं

38 टिप्‍पणियां:

  1. दीदी चरण स्पर्श

    बहुत ही उम्दा बात कह दी आपने चन्द शब्दो में , लाजवाब ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच...ईश्वर प्रदत्त जब ये विधा साथ हो...फिर अकेलापन कैसा??

    उत्तर देंहटाएं
  3. "शुभकामनाएँ..."
    प्रणव सक्सैना amitraghat.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. छोटी सी प्यारी सी तिन पंक्तियों में आपने सब कुछ कह डाला! बहुत खूब! आपकी लेखनी को सलाम!

    उत्तर देंहटाएं
  5. नज्मों की सांसों से
    दिल धड़कता है
    लगता है कि
    अभी हम जिंदा हैं....

    बहुत खूबसूरती से लिखा है इन चंद शब्दों में आपने अपनी पूरी दास्तान ...बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  6. चन्द शब्दों में ही रचना अपनी सम्पूर्णता व्यक्त करती हुई, भावाभिव्यक्ति की रिश्मप्रभा प्रवाहित कर रही है। लाजवाब रचना। बहुत आभार!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. अगर "गागर में सागर" शब्द का अर्थ जानना हो तो आपकी रचना को पढना पर्याप्त होगा. अद्भुत...रचना.
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  8. वो जो करवट ले के शायद सोई ,शायद जागी
    बाँहों में भरे नज्मों को पलकें उठती है
    धीमे से मुस्काती है
    बंद होठो से कुछ कहती
    कुछ गुनगुनाती है
    सुनती हूँ उसे ,जानती हूँ
    नज्म है खुद एक वो
    तभी तो अकेली कहाँ होती है
    नज्म बहती है रगों में उसके
    नज्म के साथ जीती है
    नज्म 'उनमे' सांस लेती है
    फिर.............उनके पास ? नही ,उनके भीतर ,बहुत भीतर गहराई में नज्म उनमे,वो नज्म में जीती है
    mere blog pr aayengi aap ?
    moon-uddhv.blogspot.com pr

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही दिल को छू लेने वाली बात कही आपने

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह ... नज़्म अक्सर दिल के आस पास होती है ... ग़ज़ब का लिखा है .

    उत्तर देंहटाएं
  11. dhai aakhar ke baad sabse chhoti aur sampoorn abhivyakti.. sachmuch anupam....

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह ....... खुशनसीब नज़्मे ... Ilu...!

    उत्तर देंहटाएं
  13. सच है | कम शब्दों में सुन्दर भावपूर्ण अभिव्यक्ति |

    उत्तर देंहटाएं
  14. सही कहा है
    बहुत खूब --- ढेर सारी बाते कर दी आपने तीन लाईनों में

    उत्तर देंहटाएं
  15. नज्म साथ है तो अकेलापन कैसा

    उत्तर देंहटाएं
  16. आज तो दिल ने ही वाह वाह कह दी हम से पुछे वगेर.
    बहुत सुंदर जी

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  18. adar jog rashmi ji, bahootkhoob, aisi hi meri rachana hai jo aap ko nazar karna chahuga..
    '' manav mano ek phoola hua gubaaa'''
    sadar

    उत्तर देंहटाएं
  19. aapse do teen kavitae chootee hai jab samay mile dekh leejiyega .

    उत्तर देंहटाएं
  20. होली और मिलाद उन नबी की हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  21. भावो की अभिव्यक्ति को आपने बहुत लम्बी उरान दी है ..

    उत्तर देंहटाएं

शाश्वत कटु सत्य ... !!!

जब कहीं कोई हादसा होता है किसी को कोई दुख होता है परिचित अपरिचित कोई भी हो जब मेरे मुँह से ओह निकलता है या रह जाती है कोई स्तब्ध...