18 फ़रवरी, 2010

सुकून


ना किसी डाकिये की ज़रूरत है
ना कबूतर की
मेरे पंख हैं ना !
उड़कर आना
अपनी चोंच में दबे शब्द
तुम्हारी मेज पर रखना
सुकून देता है
और अगली लम्बी उड़ान की
प्रबल इच्छा होती है

44 टिप्‍पणियां:

  1. यह पंख समझा गए बहुत कुछ ....Ilu...!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर रश्मिजी !
    अपनी चोंच में दबे शब्द
    तुम्हारी मेज़ पर रखना
    सुकून देता है !
    बहुत ही मौलिक और ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति ! बधाई स्वीकार करें !

    उत्तर देंहटाएं
  3. दीदी चरण स्पर्श

    क्या कहूँ आपकी इस रचना को लेकर , आपने भले ही शब्दो का प्रयोग कम किया हो लेकिन भावार्थ बहुत है , बढिया लगी आपकी ये रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. Itni khoobsoorati se aapne man ki baat rakhi.. pankh hain na apni baat pahunchane ke liye...
    ek bemisaal kavita. kyonki aisa bhav is sandarabh me kahin suna nahin..

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह ... चंद लाइनों में जीवन का पूरा सार लिख दिया ... खुद ही आना .. प्यार का इज़हार करना .. फिर उड़ जाना लंबी उड़ान के लिए ... बहुत खूब ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. rashmi jichand shabdon mein pyar ka falsafa sikha gai... bahut sunder rachna !

    उत्तर देंहटाएं
  7. sankshipt shabdon ka maarak prabhaav....Waah !!! Lajawaab ...jabardast...

    उत्तर देंहटाएं
  8. सक्षमता को बताती खूबसूरत रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपके कुछ शब्द ही इतना बोल देते हैं कि दूसरे निशब्द हो जाएँ ...चोंच में शब्द लेकर आई चिड़िया कुछ जानी पहचानी लग रही है ...
    संचयन प्रकाशित करने के आपके सपने के पूरा होने पर बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाये ...
    ये पुस्तक पुस्तक मेले के अलावा और कहाँ से (जयपुर में ..??) उपलब्ध हो सकती है ...कृपया बताये...

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुखद एहसास कराती शानदार प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  11. अपनी चोंच में दबे शब्द
    तुम्हारी मेज़ पर रखना
    सुकून देता है
    kaash aese pankh hame mil jaaye ud ud sabse mil aaye ,in panktiyon ka jawab nahi .sundar behad sundar .

    उत्तर देंहटाएं
  12. मन कि चंचलता से पूर्ण है ये रचना .....

    उत्तर देंहटाएं
  13. Kam sabdon mein sundar bhav liye chitramay prastuti ke liye bahut badhai.......

    उत्तर देंहटाएं
  14. gambheerata aur chapalta douno ka samanvay........bahut acchee lagee aapkee ye kavita .

    उत्तर देंहटाएं
  15. और अगली लम्बी उड़ान की
    प्रबल इच्छा होती है
    ===
    लम्बी उड़ान चोंच में दबे शब्दों के सहारे वाकई सुकून देता है
    बहुत खूबसूरत भाव की रचना

    उत्तर देंहटाएं
  16. भावावेग की स्थिति में अभिव्यक्ति की स्वाभाविक परिणति दीखती है।

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत ही सुन्दर ----जीवन के लिये एक अच्छा सन्देश देती हुयी रचना। पूनम

    उत्तर देंहटाएं
  18. rashmi ji,
    adbhut lekhan aur bhaawpurn abhivyakti keliye badhai sweekaren.

    उत्तर देंहटाएं
  19. ...खूबसूरत रचना.... पेंटिंग बहुत ही प्रसंशनीय है जिसने भी बनाई है उसे बहुत बहुत बधाई!!!

    उत्तर देंहटाएं
  20. itna kuch to kah diya hai aapne maa'm in panktiyon me,
    to mere kahne ko bachta hi kya hai??
    lekin itna jrur hai,
    jab bhi aapki adbhut lekhni ke jaadu se do-char hota hun,
    to mere dil ko 'SUKUN' jarur milta hai.
    dhanyawaad maa'm,
    in khubsurat panktiyon ke liye.
    aadar sahit,
    -ROHIT

    उत्तर देंहटाएं
  21. जितनी अच्छी कविता उतनी अच्छी तश्वीर.
    चोंच में दबे शब्द असीम गहराई से चुने मोतियों से कम नहीं!

    उत्तर देंहटाएं
  22. kabhi kabhi sonchta hoon ki kavita ki parisbhasha kya hoti hai... mujhe to jo achha lagta hai likh deta hoon, unhe kuch kavita/nazmsa samjh leta hoon.. Anurag ji se ek word suna hai 'azaad nazm' ....

    aapse achha humein kaun bata sakta hai..bahut hi pyari kavita hai.. lekin ek kavita likhne ke liye bhi rules hote hain ya wo azaad hoti hai...?

    उत्तर देंहटाएं
  23. पंक्तियों ने दिल छू लिया... बहुत सुंदर ....रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  24. भावों को इतनी सुंदरता से शब्दों में पिरोया है
    सुंदर रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  25. मम्मी जी...ग़ज़ब कि अभिव्यक्ति के साथ.... बहुत सुंदर लिखा आपने....

    माय मॉम इस ग्रेट...

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत खूबसूरत भाव की रचना !!!पुस्तक प्रकाशन की हार्दिक बधाई!!क्या ये हमारे इधर भी मिल सकेगी?

    उत्तर देंहटाएं
  27. bahut hi sundar...
    udan or abhiviyekti ki ye achchi khasi misal hai jeevan ko jo sukoon de shayad vahi se udan ka dayera badta chala jata hai.

    उत्तर देंहटाएं
  28. अद्भुत रचना...मेरी बधाई स्वीकार करें
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  29. रश्मि जी
    बहुत सुन्दर रचना के लिए एवम किताब के विमोचन के लिए
    बधाइयाँ ...........

    उत्तर देंहटाएं
  30. is chunni-munni ko hamara bhi address bata digiye...hamko bhi bahut zaroorat hai inki....so sweet :-)

    उत्तर देंहटाएं
  31. इच्छा से परे उड़ान को चला जाता कभी मन ... गहरे भावो से परिपूर्ण रचनाये है आपकी ..
    स्कूल के दिनों के बाद से ही साहित्य से दूर होता चला गया थोरा .. ब्लॉग पर आपकी भाव पूर्ण रचनाये बहुत मन को भायी..

    उत्तर देंहटाएं

मृत्यु को जीने का प्रयास

मौत से जूझकर जो बच गया ... उसके खौफ, इत्मीनान, फिर खौफ को मैं महसूस करती हूँ ! कह सकती हूँ कि यह एहसास मैंने भोगा है एक हद तक ...