20 मार्च, 2010

दिल की बात !


मेरा दिल करता है
तुम्हें अमलतास का पेड़ बना लूँ
किसी गांव की अल्हड़ बाला सी
तुमको पकड़कर
घूमती जाऊँ घूमती जाऊँ
जब तक तुम्हारी शाखाएं
मुझे थाम न लें ...

36 टिप्‍पणियां:

  1. दीदी प्रणाम,
    मैं आप को नज़र करता हुआ अपनी एक पंक्ति कहना चाहुगा ''' विलय कोण किस्मे हो ये मैं ना जानू सुनो तुम तिलक मैं ललाट बन जाऊ ''''
    सुंदर , मन को स्पर्श करतीहुई कविता.
    aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूबसूरत दिल की बात....

    उत्तर देंहटाएं
  3. "jab tak tumhari shakhayen mujhe tham na le." waah kya bat akhi hai di ! ekdam dil se nikli dil tak pahunchi hai.

    उत्तर देंहटाएं
  4. चित्र और उसके साथ दी गयी रचना...दोनों ही बेमिसाल...वाह...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  5. ये भाव अनमोल है.
    दिल का हाल - दिल की बात. बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह! बहुत खूब! अपने दिल की बात को आपने बहुत ही सुन्दरता से प्रस्तुत किया है!

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुंदर भावो से सजी है आप की यह अर्थ पुर्ण कविता

    उत्तर देंहटाएं
  8. अमलतास का पेड ...
    फ़ैली बाहें ...
    झुला क्यों ना झूले ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही उम्दा ,दिल को छू लेने वाली रचना ………………चंद शब्दों में ही सारे जज़्बात समेट दिये।

    उत्तर देंहटाएं
  10. शाखाओं पर जज्बातों का झूला
    ये कौन है जो खुद को भूला

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही बेहतरीन भाव हैं....एकदम अलमस्त से...सुन्दर कविता..

    उत्तर देंहटाएं
  12. ........ गांव की अल्हड़ बाला सी.....तुमको पकड़कर
    घूमती जाऊँ घूमती जाऊँ
    जब तक तुम्हारी शाखाएं......मुझे थाम न लें ...

    चंद पंक्तियों में कितना कुछ सम्माहित कर दिया गया....
    मुबारबाद
    रश्मि जी, मुझे हैरत है, कि अब तक.
    आपके इतनी अच्छी रचनाओं से सुसज्जित
    ब्लॉग से दूर कैसे रहा हूं.........

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही सुन्दर सोच, लेकिन अमलतास तो अब गाँव में भी नहीं मिलते जाने कुछ दिनों बाद लोग ये उपमा भी समझेंगे या नहीं.

    उत्तर देंहटाएं
  14. yaad aa gaya mujhe mere gaon ka wo amaltash jiski baahon me hum jhoola karte the... sunder abhivyakti!

    उत्तर देंहटाएं
  15. एक क्षण एक अहसास और कवि की कल्पना...........फिर जन्म लेती है कुछ ऐसी कृति

    उत्तर देंहटाएं
  16. घूमती जाऊँ घूमती जाऊँ
    जब तक तुम्हारी शाखाएं......मुझे थाम न लें ...


    wah kya abhilasha hai!!!

    ati sunder

    उत्तर देंहटाएं
  17. जहाँ हों
    कम शब्द
    वहीं हम
    हो जाते हैं निश्शब्द!

    उत्तर देंहटाएं
  18. अमलतास का पेड़ और फैली बाहें ....
    कमाल की कल्पना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  19. जब तक तुम्हारी शाखाएं
    मुझे थाम न लें ...

    बेहद ख़ूबसूरत ख़याल...

    उत्तर देंहटाएं
  20. Bhavya... gudgudata sa Bhaav... kai geet on lauta laaya...

    Khush rahiye aur likhti rahiye

    उत्तर देंहटाएं

पुनरावृति

दिए जा रहे हैं बच्चों को सीख  ! "ये देखो वो देखो ये सीखो वो सीखो देखो दुनिया कहाँ से कहाँ जा रही है ! गांव घर में खेती थी ...