28 जनवरी, 2012

हम एक हुए !



दलदल में तुम थे
दलदल में मैं थी
तुम मुझे निकाल सकते थे
मैं तुम्हें
पर ....
हम दूसरों के बनाये दलदल में धंसते गए !
ये तो हमारी मजबूत पकड़ थी
कि हम साथ मरे....
अब दलदल में जो कमल खिला है
वह मंदिर का हकदार बना है
तुम मुझे पहचानते हो
मैं तुम्हें ...
लोगों की मंशाओं के दलदल से
हम ऊपर हो गए
जाने कितनी सारी गांठें खुल गई
प्रभु के चरणों में हम एक हुए !

48 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बहुत सुन्दर रश्मि दी...
    सच है जीवन के दलदल से मुक्ति ईश्वर दिला ही देते हैं...
    आप पर और आपकी लेखनी पर माँ सरस्वती की कृपा यूँ ही बनी रहे..
    ढेरों शुभकामनाओं और स्नेह के साथ...
    -अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक होना काफी है...कहीं हो...कभी हो कैसे हो ...ये मायने नहीं रखता

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रभु ही एकमात्र सहारा हैं जहाँ एक हो जाएँ सब!

    उत्तर देंहटाएं
  4. लोगों की मंशाओं के दलदल से
    हम ऊपर हो गए...
    satya evm sundar bahut hi sundar !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. ये तो हमारी मजबूत पकड़ थी
    कि हम साथ मरे....
    अब दलदल में जो कमल खिला है
    वह मंदिर का हकदार बना है
    khubsoorat ahsaas. vasant panchmi kee haardik shubhkamnaaye !

    उत्तर देंहटाएं
  6. लोगों की मंशाओं के दलदल से
    हम ऊपर हो गए
    जाने कितनी सारी गांठें खुल गई
    प्रभु के चरणों में हम एक हुए...

    रश्मी जी, रचना अच्छी लगी,..सुंदर पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर....मुझे बहुत पसंद आई आपकी कविता..
    आपको वसंत पंचमी की ढेरों शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  8. सच कहा रश्मि जी ईश्वर के चरणो में ही सब दुखो का अंत है..सुन्दर प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  9. लोगों की मंशाओं के दलदल से ,
    हम ऊपर हो गए ,

    बहुत गहरी सोच.... !
    आप हमेशा लोगों की मंशाओं के दलदल से ऊपर उठी ही रहें.... !!

    उत्तर देंहटाएं
  10. जब तक एक न हो जाएँ, दो का भेद न समाप्त हो जाए, दुनिया की दलदल में फंसता ही जाता है इंसान... जिस दिन दो का भेद मिटा, वह कमल सरीखा अस्तित्व होता है.. दलदल में रहकर भी अछूता!!
    बहुत सुन्दर!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. लोगों की मंशाओं के दलदल से
    हम ऊपर हो गए

    sakaratmak ..gahan abhivyakti ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. जीवन की दलदल से मुक्ति तो प्रभु चरणो मे ही मिलती है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. रस्मी जी ...कितनी खूबसूरत है रचना .. सच मैं जीवन किसी दलदल से कम नहीं हैं

    उत्तर देंहटाएं
  14. दलदल में तुम थे
    दलदल में मैं थी
    तुम मुझे निकाल सकते थे
    मैं तुम्हें
    पर ....
    हम दूसरों के बनाये दलदल में धंसते गए !

    अदभुत रचना, ह्रदयस्पर्शी पंक्तियाँ।

    उत्तर देंहटाएं
  15. दलदल में तुम थे
    दलदल में मैं थी
    तुम मुझे निकाल सकते थे
    मैं तुम्हें
    पर ....
    हम दूसरों के बनाये दलदल में धंसते गए !

    अदभुत रचना, ह्रदयस्पर्शी पंक्तियाँ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. लोगों की मंशाओं के दलदल से
    हम ऊपर हो गए
    जाने कितनी सारी गांठें खुल गई
    प्रभु के चरणों में हम एक हुए !

    मन की गांठें खुल जाएँ तो सब एक हों ..भाव पूर्ण अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  17. ओह..एक होना ही मायने रखता है...

    उत्तर देंहटाएं
  18. बेहतरीन...बेमिसाल... लाजवाब।

    वसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  19. उच्चस्तरीय अध्यात्मिक अहसास कराती एवं जीवन का
    सत्य बयां करती रचना।
    सराहनीय एवं सफल प्रयास.......

    उत्तर देंहटाएं
  20. कीचड में भी कमल खिलाने का हुनर नदी जानती है!
    मेरी एक कविता का अंश है !
    साथ मजबूत हो तो ईश्वर कहाँ दूर हैं !
    बेहद प्रभावपूर्ण!

    उत्तर देंहटाएं
  21. अपने दलदलीय अस्तित्वों से बचने का यही एक तरीका है..

    उत्तर देंहटाएं
  22. जीवन और संवेदनाओं की सर्वोत्कृष्ट अभिव्यक्ति. यह दर्शन है, नीति शस्त्र है और है कर्त्तव्यों की अंतिम परिणति, परम और चर्म शुभ की परपी का इससे अच्छा सुयोग भला क्या हो सकता है? बहुत दिनों बाद पढने को मिली इतनी भावमयी और गंभी रचना. कई बार पढ़ा. मन नहीं भ्रा. लगता है अपनी ही कोई कहानी है. यही तो सत्य है, सच्छी कथा वैयक्तिक नहीं, सार्वभौम होती है. इस सर्भौमिकता का एहसास करा दिया आपने. आभार और नमस्कार आपकी लेखन शैली को. मर्मस्पर्शी संवेदनाओं को,

    उत्तर देंहटाएं
  23. वाह! बेहतरीन। आपकी श्रेष्ठ कविताओं में से एक। बहुत बधाई इस कविता के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  24. बड़ी प्यारी कविता है रश्मि जी। जितना सुंदर बिंब उतना ही व्यापक अर्थ। गागर में सागर। आज तो भाव विभोर हो गया इसे पढ़कर।

    उत्तर देंहटाएं
  25. अच्छे कर्म ही प्रभु के चरणों में स्थान दिलाते हैं ।
    सुन्दर रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत उम्दा रश्मि जी....मंशाओं के दलदल से ऊपर उठे बिना एक हुआ भी नहीं जा सकता .....

    उत्तर देंहटाएं
  27. ☺ दलदल में धंसने से बचने के लिए खड़े होने के बजाय लेट कर रेंग निकलना बेहतर रहता है... (टेक्नीकल टिपपणी)

    उत्तर देंहटाएं
  28. अब दलदल में जो कमल खिला है
    वह मंदिर का हकदार बना है

    इन पंक्तियों का मर्म हृदय की अतल गहराइयों तक गोता लगाने पर ही समझा जा सकता है!
    अनुभूतियों के धरातल पर खड़ी जगमगाती रचना!
    बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  29. दल दल से निकलने के लिए, एक को दूसरे का सहारा जरूरी है ...???
    खूबसूरत भाव !

    उत्तर देंहटाएं
  30. अब दलदल मे जो कमल खिला है वह मंदिर का हकदार बना है... बहुत सुन्दर रचना ... बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  31. अब दलदल में जो कमल खिला है
    वह मंदिर का हकदार बना है....गहरी और अदभुत अभिवयक्ति......

    उत्तर देंहटाएं
  32. समाज के बनाये दलदल में भी जो साथ रहे...वो कमल सा खिलेगा और...अपनी नियति को प्राप्त करेगा....

    उत्तर देंहटाएं
  33. अब दलदल में जो कमल खिला है
    वह मंदिर का हकदार बना है
    वंदनीय भाव लिए हुए यह पंक्तियां ..

    उत्तर देंहटाएं
  34. बहुत ही गंभीर और मन को प्रभावित करने वाली गहरी रचना ... बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  35. अध्यात्म की ओर मुड़ती कविता। जीवन का सार

    उत्तर देंहटाएं
  36. मोनिका जी की बात से पूर्णतः सहमत हूँ मंशाओं के दलदल से ऊपर उठे बिना एक होना भी संभव नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  37. अति सुन्दर .... मिट कर ही प्रभु चरणों की शरण प्राप्त होती है.

    उत्तर देंहटाएं
  38. बहुत खूबसूरत है !

    दलदल में तुम थे
    दलदल में मैं थी
    सुनते ही लगने लगा
    हम दोनो ही नेता थे !

    उत्तर देंहटाएं

अक्षम्य अपराध

उसने मुझे गाली दी .... क्यों? उसने मुझे थप्पड़ मारा ... क्यों ? उसने मुझे खाने नहीं दिया ... क्यों ? उसने उसने उसने क्यों क्यों ...