About Us


मेरे एहसास इस मंदिर मे अंकित हैं...जीवन के हर सत्य को मैंने इसमे स्थापित करने की कोशिश की है। जब भी आपके एहसास दम तोड़ने लगे तो मेरे इस मंदिर मे आपके एहसासों को जीवन मिले, यही मेरा अथक प्रयास है...मेरी कामयाबी आपकी आलोचना समालोचना मे ही निहित है...आपके हर सुझाव, मेरा मार्ग दर्शन करेंगे...इसलिए इस मंदिर मे आकर जो भी कहना आप उचित समझें, कहें...ताकि मेरे शब्दों को नए आयाम, नए अर्थ मिल सकें ...

26 मार्च, 2012

परेशानियां तो दरअसल समझदारी में है



बचपन
अपने मीठे अंदाज में
कभी किलकारियां भरते
कभी ठुनकते सुबकते पीछे पीछे आता ही है ...
बस उसकी ऊँगली थाम लो
तो ज़िन्दगी के कई व्यूह खुद ब खुद टूट जाते हैं
परेशानियां तो दरअसल समझदारी में है ...

मासूमियत न हो व्यवहार में
निश्छलता न हो लेने और देने में
तो भावनाएं खंडहर की शक्ल ले लेती हैं !
यदि बचपन को गोद में उठा लो
तो सौन्दर्य , शरारत , हाँ और ना
सब खूबसूरत हो जाते हैं
जीने का अंदाज बदल जाता है ....

पर यहाँ तो समझदारी की होड़ लगी है
अफरातफरी मची है
हर कोई एक दूसरे को गिराने में लगा है
अपने सर पर खुद ताज रख
हिन्दुस्तान पर इनायत करना है
भाषण में है बच्चों का लालन पालन
और दिवस दर दिवस हिमायती यादें
......
किसी के चेहरे पर ज़िन्दगी नहीं दिखती
सब परेशान हैं समझदारी में
पसीने से लथपथ हैं !

एक चुटकी मासूमियत का सेवन करें
और इस होड़ से बाहर निकलें
वरना अंधेर ही अंधेर है आगे - ....

52 टिप्‍पणियां:

  1. 'किसी के चेहरे पर ज़िन्दगी नहीं दिखती'
    समझदारी ने सब छीन लिया...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  2. एक चुटकी मासूमियत का सेवन करें
    और इस होड़ से बाहर निकलें

    आपकी यह निश्चित खुराक ... कई लोगों के जीवन का महामंत्र बन सकता है ... आभार ।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूबसूरत रश्मिजी.. सच में हम समझदार बनने के चक्कर में रह जाते हैं और फिर होता है कि -
    आईना हमसे कहा करता है अक्सर
    अब कहां मासूमियत वो खो गई है
    बड़े होते ही हम दिल से अधिक दिमाग का इस्तेमाल शुरू कर देते हैं, और समस्या यहीं होती है।
    'एक चुटकी मासूमियत का सेवन करें' हर मर्ज की सटीक दवा है।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  4. परेशानियां तो दरअसल समझदारी में है ...

    Wah is pankti me hi sar chhipa hai!
    DI! bahut khoobsurat rachna/ jeene ka tarika/salika batati hui!

    rchna dil tak pahunchi! kamyab hai!

    badhai kabule1

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  5. सच है समझदारी ने मासूमियत छीन ली है और परेशानी ओढ़ ली है. इससे बहार आना ही होगा. संदेशप्रद रचना, बधाई रश्मि जी.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  6. मासूमियत न हो व्यवहार में
    निश्छलता न हो लेने और देने में
    तो भावनाएं खंडहर की शक्ल ले लेती हैं !
    यदि बचपन को गोद में उठा लो
    तो सौन्दर्य , शरारत , हाँ और ना
    सब खूबसूरत हो जाते हैं
    जीने का अंदाज बदल जाता है ....

    बहुत खूबसूरत !

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  7. sahi kaha aapne aur ye samjhdari aajkal bachpan ki masumiyat par bhi havi hone lagi hai..sundar rachna..

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  8. सच कहा रश्मि जी ! आज लोग समझदार बनने के चक्कर में मासुमियत का गला घोटते जारहे है...बिल्कुल नये भाव से अवगत करवाया ..आभार

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  9. तबते अत्ती बात तो अंत में कही आपने..चुटकी वाली:)अत्ता लगा।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  10. सच है जो जितना ज्यादा समझदार होगा, प्रभावों के तनाव चिंतन में परेशान होगा।

    चुटकी भर मासूमियत की पुडिया, श्रेष्ठ उपचार है।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  11. सच कहा ..समझदारी ही सबसे बड़ी परेशानी है.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  12. "एक चुटकी मासूमियत का सेवन करें
    और इस होड़ से बाहर निकलें"
    :)

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  13. मासूमियत न हो व्यवहार में
    निश्छलता न हो लेने और देने में
    तो भावनाएं खंडहर की शक्ल ले लेती हैं !

    सच कहा आपने ...न उन में वह ताजगी रह जाती है ...न रिश्तों की गर्माहट ....न विश्वास का उजास !!!!!!..

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  14. सच्ची दी....
    बेअक्ल ही भले थे....
    ignorance is bliss......

    सादर
    अनु

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  15. AAPKI KAVITA BAHUT SATEEK AUR SACH HAI ...SAMJHDAAR HONE ME SACH BAHUT DUSHVARIYAN HAI...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  16. यदि बचपन को गोद में उठा लो
    तो सौन्दर्य , शरारत , हाँ और ना
    सब खूबसूरत हो जाते हैं
    जीने का अंदाज बदल जाता है ....
    हाँ बिलकुल सच है, सब कुछ बदल जाता है, दुनिया बहुत खूबसूरत हो जाती है ... सार्थक अभिव्यक्ति के लिए आभार आपका

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  17. एक चुटकी मासूमियत का सेवन करें,और खुश रहें!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  18. सच में सारी परेशानी तो समझदारी में ही है....मूर्ख इसलिए खुश रहते हैं.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  19. किसी के चेहरे पर ज़िन्दगी नहीं दिखती
    सब परेशान हैं समझदारी में
    पसीने से लथपथ हैं !

    ....बिलकुल सच....समझदारी की दौड़ में हम मासूमियत बहुत पीछे छोड़ आये...आभार

    http://aadhyatmikyatra.blogspot.in/

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  20. समझदार से नासमझ अच्छे...खुश तो रहते हैं|

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  21. सबकुछ सीखा हमने ना सीखी होशियारी.. सच है दुनिया वालो कि हम हैं अनाड़ी.. मन ही मन गुनगुनाते हैं ये गीत और फिर भी सारा जीवन होशियारी में बीत जाता है.. बड़ा गहरा दर्शन प्रस्तुत किया है आपने दीदी!!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  22. vyavhaar me sabne kathorta ka aavaran pahan rakha hai masumiyat to kho hi gai hai...bahut sundar bhaav prerna deti rachna.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  23. बहुत खूबसूरत पंक्तियां है। मासूमियत का उल्लेख करने के लिए खुद के भी मन को उतना ही मासूम और उदार होना पड़ता है, तभी ऐसे शब्द निकलते हैं।
    एक एक शब्द और लाइने मन को छू लेने वाली है।

    एक चुटकी मासूमियत का सेवन करें
    और इस होड़ से बाहर निकलें
    वरना अंधेर ही अंधेर है आगे

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  24. एक चुटकी मासूमियत का सेवन करें
    और इस होड़ से बाहर निकलें
    सही निदान ...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  25. सहजता से सच्ची बात कही है दी आपने...
    प्रभावी रचना...
    सादर।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  26. किसी के चेहरे पर ज़िन्दगी नहीं दिखती
    सब परेशान हैं समझदारी में
    पसीने से लथपथ हैं !sahi bat......

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  27. मासूमियत ही नहीं दिखती.....
    शुभकमनाएं आपको !

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  28. यदि बचपन को गोद में उठा लो
    तो सौन्दर्य , शरारत , हाँ और ना
    सब खूबसूरत हो जाते हैं
    जीने का अंदाज बदल जाता है ....

    बेहतरीन.सटीक रचना,...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  29. एक चुटकी मासूमियत का सेवन करें
    और इस होड़ से बाहर निकलें
    वरना अंधेर ही अंधेर है आगे - ....

    सही नुस्खा .... सेवन करें ...ज़रूर लाभ होगा ॥ सुंदर प्रस्तुति

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  30. किसी के चेहरे पर ज़िन्दगी नहीं दिखती
    सब परेशान हैं समझदारी में

    is samjhdaari ne jeene na diya...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  31. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है।
    चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्टस पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं....
    आपकी एक टिप्‍पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  32. किसी के चेहरे पर ज़िन्दगी नहीं दिखती
    सब परेशान हैं समझदारी में
    पसीने से लथपथ हैं !

    :) Masumayit bani rahe bas....

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  33. परेशानियां तो दरअसल समझदारी में है ...
    सच कहा आपने

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  34. एक चुटकी मासूमियत का सेवन.....वाह !!!! चुटकियों में इलाज और दवा भी

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  35. एक चुटकी मासूमियत ...क्या दवा है !

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  36. समझदारी का मतलब सात पर्दों को ओढ़कर जीना या कि मरना ? समझदारी तो सोचने में है जो आपने सुन्दरता से कहा है .

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  37. "एक चुटकी मासूमियत का सेवन करें
    और इस होड़ से बाहर निकलें"
    बस सब कह दिया इन लफ़्ज़ों ने ही………बेहतरीन अभिव्यक्ति।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  38. "यदि बचपन को गोद में उठा लो
    तो सौन्दर्य , शरारत , हाँ और ना
    सब खूबसूरत हो जाते हैं
    जीने का अंदाज बदल जाता है"

    "किसी के चेहरे पर ज़िन्दगी नहीं दिखती
    सब परेशान हैं समझदारी में
    पसीने से लथपथ हैं !"

    अद्भुत भावपूर्ण रचना.. :)

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  39. एक चुटकी मासूमियत का सेवन करें
    और इस होड़ से बाहर निकलें
    वरना अंधेर ही अंधेर है आगे - ....

    बहुत बड़ा दर्शन छिपा हैं इन शब्दों में...बहुत खूब.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  40. किसी के चेहरे पर ज़िन्दगी नहीं दिखती
    सब परेशान हैं समझदारी में
    पसीने से लथपथ हैं ! एकदम सच है यह बात यथार्थ का आईना दिखती सार्थक प्रस्तुति....

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  41. वाह कितने सुन्दर भाव और सुन्दर शिक्षा ..उम्दा

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  42. तभी तो कहते हैं बच्चा जाना कितना अच्छा है ...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  43. पर यहाँ तो समझदारी की होड़ लगी है
    अफरातफरी मची है
    हर कोई एक दूसरे को गिराने में लगा है
    अपने सर पर खुद ताज रख
    हिन्दुस्तान पर इनायत करना है
    भाषण में है बच्चों का लालन पालन
    और दिवस दर दिवस हिमायती यादें
    ..yatharth ka sateek chintran...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  44. सर्वाधिक डर समझदार लोगों से लगता है।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  45. परेशानिया ,समझदारी में होती है...
    बहुत ही लाजवाब...और सार्थक पोस्ट....

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  46. परेशानियां तो दरअसल समझदारी में है ...bahut sahi kaha aapnee kavita ke biich ye line baarbaar khichtii hai apni taraf ..bahut khoob

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  47. खेले कूदे..मस्ती में नाचे
    बचपन की गलियों में फिर से झूम गए
    सुना होगा तुमने भी
    एह सखी ...कि
    बचपन मेरा फिर से
    तुम लौटा लाई .....अनु

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  48. sach hai badi maa, ye baat maine pichhle dino kuch jyada hi mahsoos kee ki jitne jyada samajhdaar utni jyada pareshaniyaan...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं