14 दिसंबर, 2017

पुनरावृति




दिए जा रहे हैं बच्चों को सीख  !
"ये देखो
वो देखो
ये सीखो
वो सीखो
देखो दुनिया कहाँ से कहाँ जा रही है
!
गांव घर में खेती थी
अपने घर का अनाज
तेल, घी
... सब छोड़कर दूर आए बड़े शहर में
कि तुमलोगों को
आजकल की ज़िंदगी से जोड़ सकें
और तुमलोगों को अपने बड़ों का ख्याल ही नहीं
!!!."

दिए जा रहे हैं बच्चों को दोष !
"ये इतना बड़ा घर तुम्हारे लिए ही लिया
तुम दूसरे शहर में नौकरी कर रहे
वहीं बसना चाहते हो
कोई सोच ही नहीं है
.... !!!
यहाँ रहो
यहीं कुछ करो
बच्चों को बुज़ुर्गों से जुड़ने दो
भाग रही है दुनिया
उन मासूमों को कितना भगाओगे !,"
.....
चलता रहता है सिलसिला
एक हम थे !!!
हर पिछला कदम कुछ और होता है
हर अगला कदम कुछ और
..

3 टिप्‍पणियां:

मैं लिखूँगी उनका नाम

नहीं लिखूँगी मैं उनका नाम स्वर्णाक्षरों में, जिन्होंने तार तार होकर भी विनम्रता का पाठ पढ़ाया सम्मान खोकर झुकना सिखाया और रात भर ...