23 जून, 2008

हकीकत की बुनियाद!




रात रोज़ आती है


कभी हल्के,


कभी गहरे,


कभी तूफ़ान-सी!


सपने भी तैरते हैं बंद आंखों में-


कभी मीठे, कभी नमकीन, कभी बेबस-से!


पर सपने जैसे भी हों,


मुझे अच्छे लगते हैं


मैं उनकी बारीकियों पर गौर करती हूँ-


हर सपने का एक अर्थ होता है,


मैं उन्हें याद रखती हूँ........


तो जब तक जिंदा हूँ,


रात है, नींद है, सपने हैं.........


यानि हकीकत की बुनियाद है!

18 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर सही कहा सपने ही हकीकत की बुनियाद है

    उत्तर देंहटाएं
  2. रात है, नींद है, सपने हैं.........
    यानि हकीकत की बुनियाद है!

    Sapne aur neend ke beech to hamesha hi haqikat ka nata hai...

    उत्तर देंहटाएं
  3. हर सपने का एक अर्थ होता है,
    मैं उन्हें याद रखती हूँ........
    bhut khub.sundar bhav sundar rachana.

    उत्तर देंहटाएं
  4. रात है, नींद है, सपने हैं.........
    यानि हकीकत की बुनियाद है!

    वाह!!


    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  5. qah sahi,sapney hi haqiqat ki buniyaad hai,aur tab tak jeene ki aas bhi,bahut bahut khubsurat badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत उम्दा रचना, बहुत बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  7. स्वप्न उसी के पूरे होते...
    स्वप्न है जो देखा करता...
    मन के अन्दर के भावों को...
    जीवन से जोड़ा करता....

    प्रयत्न जो करता वो सपनों को ...
    पूरा इक दिन कर पाता....
    जीवन का आनंद वो पाता...
    ऐसा वो कुछ कर जाता...

    स्वप्न वस्तुतः हकीकत का आधार हैं....जो स्वप्न देखेगा ही नहीं, उसके पूरे क्या होंगे......

    बेहतरीन कविता...बधाई...ऐसे ही कवितायेँ लिख कर हमें विभोर करती रहें...

    दीपक शुक्ला

    उत्तर देंहटाएं
  8. di sapne ka haqukat se bhee koyee sambandh ho sakta hai...aksar isi paheli ka hal dhudha karta tha..
    kabhee tanhaayee main,
    to kabhee taaron ki baraat main...
    par dekhta hoon jo har pal uspe pachtaataa tha.....jo haqukat nahee uske peechhe bahagta tha..
    aapke kalam kee ye saras panktee jeewan ki paheli hal kar gayee..
    sapna haqukat ki buniyaad hai....jeene ki raah de gayee.....

    ..khubsurat kaveeta

    ....Aapka Ehsaas!

    उत्तर देंहटाएं
  9. weldone ma'am

    once again uhave proved that u have gr8 talent

    keep writing

    best wishes from me

    उत्तर देंहटाएं
  10. जीवन में घटने वाली सभी चाही - अनचाही घटनाये व्यक्ति के प्रराव्ध से जुडी होती है | आपने विल्कुल सही कहा की सपने हकीकत की बुनियाद होते है क्युकी वो सपने ही होते है जो इन्सान के भीतर नित नवीन इच्छाओ का संचार करते है और उन्हें पूरा करने को प्रेरित करते रहते है |

    उत्तर देंहटाएं
  11. राशमी जी बहुत शानदार .......आपकी कविता '' हकीकत की बुनियाद '' प्रभाव शाली है ...भावनाओं का अच्छा पुट है इसमे.....

    उत्तर देंहटाएं
  12. अपने मन की गहराइयों में इंसान का एकाकीपन कभी -२ एक गहरे यथार्थ से उसका साक्षात्कार करा देता है.यह यथार्थ दर्द,संघर्ष और समस्याओं के निहितार्थ की परिधि से कंही ज्यादा विस्तृत है ;
    जन्हा हर दर्द अगली आने वाली हँसी का ख्वाब ले कर आता है तो हर संघर्ष सफलताओं को देख कर मुस्कुराता सा नजर आता है...
    द्वेष ,क्रोध और क्षोभ से मुक्त आपकी आशावादी !!!हकीकतों की बुनियाद !!! बहुत गहरी और गंभीर लगी..!!
    शुभकामनाएं रश्मिजी !!!
    ......देश.

    उत्तर देंहटाएं
  13. sapne haqiqat ki buniyaad hain....bahut sahi kaha hai didi!

    उत्तर देंहटाएं
  14. "रात है, नींद है, सपने हैं.........
    यानि हकीकत की बुनियाद है! "
    बहुत सुन्दर पंक्तियाँ हैं, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  15. आप की कविता मे बहुत ही गहरा अर्थ छिपा है,सच है की सपने न हो तो हकीकत ही न हो,सपने हॉट है तभी साकार होते है

    उत्तर देंहटाएं
  16. "रात है, नींद है, सपने हैं.........
    यानि हकीकत की बुनियाद है! "
    bilkul sahi kaha aapne bahut hi sacchi aur sahi baat bina sapno k hum kuch kar hi nahi sakte apna lakshya kya hai ye hamare sapne hi to hamain batate hain...........

    उत्तर देंहटाएं

रामायण है इतनी

रूठते हुए  वचन माँगते हुए  कैकेई ने सोचा ही नहीं  कि सपनों की तदबीर का रुख बदल जायेगा  दशरथ की मृत्यु होगी  भरत महल छोड़  स...