28 जून, 2008

पैगाम ......



विश्वास की ज़मीन

रंगोली से सजी है,

विजय ध्वज लहराता सूरज

आँगन उतरा है,

पक्षियों के खोए कलरव

वाद्य-यंत्रों से गूंज उठे हैं,

आंखों से खुशियों की बरसात हुई है,

ह्रदय आशीर्वचनों से मुखर हुआ है,

संगम के तीरे आज मेला लगा है.......

मेरे सपने साकार हुए,

मेरे अपने निहाल हुए,

मेरी जिंदगी में खुशियों के फूल खिले हैं,

मेघराज की गर्जना नगाडों - सी हुई है,

बूंदें नई जिंदगी के पैगाम लायी है...........

13 टिप्‍पणियां:

  1. मेरे सपने साकार हुए,

    मेरे अपने निहाल हुए,

    मेरी जिंदगी में खुशियों के फूल खिले हैं,

    मेघराज की गर्जना नगाडों - सी हुई है,

    बूंदें नई जिंदगी के पैगाम लायी है...........
    bahut khubsurat,badhai

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी खुशियों में और चार चाँद लगे....

    उत्तर देंहटाएं
  3. "मेघराज की गर्जना नगाडों - सी हुई है,

    बूंदें नई जिंदगी के पैगाम लायी है...........
    "
    ek aur khubsurat kavita

    ...Ehsaas!

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut achee panktiyan aur shubhkamana hai man men ye basant bana rahe khushiyan aur vijay saths ath chale sada

    Anil

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया अभिव्यक्ति है खुशियों की दीदी........

    उत्तर देंहटाएं

रामायण है इतनी

रूठते हुए  वचन माँगते हुए  कैकेई ने सोचा ही नहीं  कि सपनों की तदबीर का रुख बदल जायेगा  दशरथ की मृत्यु होगी  भरत महल छोड़  स...