08 दिसंबर, 2009

मैं साथ रहूंगी


मैं खुद एक शब्द हूँ
चाहो तो नज़्म बना लो
बना लो अपनी ग़ज़ल
कोई गीत
कोई आह्लादित सोच
कोई दुखद कहानी....
यकीन रखो
मैं साथ रहूंगी

35 टिप्‍पणियां:

  1. वाह!! .. साथ निभाना ही जरूरी है, बाकी किसी को क्या चहिये... बहुत सुन्दर!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. कम शब्दों में बहुत कुछ कहा आपने

    उत्तर देंहटाएं
  3. आप चंद पंक्तियों में भी लाजवाब बात कह जाती हैं

    उत्तर देंहटाएं
  4. सफर में जब शव्‍द साथ हों तो ऩज्‍़म, गजल, गीत और सोंच के बाद कहानी दुखद रह ही नहीं पायेगी.

    सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  5. रश्मि दी ! बस एक यही सच है ....बहुत सुंदर.

    उत्तर देंहटाएं
  6. अनुभूति की सघनता एवं संवेदना का संश्लिष्ट प्रभाव इस कविता में मिलता। इसलिए इसमें अद्भुत ताजगी है ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सच कहा,शब्द ही साथ निभाते हैं और कभी साथ नहीं छोड़ते

    उत्तर देंहटाएं
  8. boond me sagar samane walee bat kahee hai aapane .
    ati sunder rachana.

    उत्तर देंहटाएं
  9. शब्द जब नि:शब्द हो जाये
    शायद भावनाएँ अभिव्यक्त हो जाये
    शब्दो का समर्पण वाह क्या कहने

    उत्तर देंहटाएं
  10. bahut sundar ....jab khud shabd ho jayen to abhivyakti ki kahan kami.....badhai

    उत्तर देंहटाएं
  11. itne kam shabd aur itne gahre arth.... bahut khoob... idhar se gujra tha to socha salaam karta chalun... par ab soch raha hun ek aashiyan ya waisa hi kuch ho apna bhi yahan....

    उत्तर देंहटाएं
  12. क्षणिकाएँ लिखने में तो आप सिद्धहस्त हैं ही!
    हमेशा की तरह बढ़िया!

    उत्तर देंहटाएं
  13. satsaiya ke dohre jyo navak ke teer
    dekhan me chhote lage ghav kare gambhir
    ap par bhi sahi utarata hai .bahut sargarbhit rachna hai

    उत्तर देंहटाएं
  14. "yakeen rakho, mei saath rahungi'
    dil ko chu gayi ye pankti......

    उत्तर देंहटाएं
  15. छोटे छोटे शब्द गढ़ कर बेहद खूबसूरत अर्थ पूर्ण रचना प्रस्तुत की है आपने...बधाई...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  16. हर शब्‍द में गहराई, बहुत ही बेहतरीन प्रस्‍तुति ।


    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  17. mein saath rahungi... pyar mein isse jyada kya kaha jaa sakta hai... bahut kuch chhupa in kam shabon mein...

    उत्तर देंहटाएं
  18. ये साथ हो तो अद्भुत संबल है..

    उत्तर देंहटाएं

शाश्वत कटु सत्य ... !!!

जब कहीं कोई हादसा होता है किसी को कोई दुख होता है परिचित अपरिचित कोई भी हो जब मेरे मुँह से ओह निकलता है या रह जाती है कोई स्तब्ध...