11 दिसंबर, 2009

ज़िन्दगी


ज़िन्दगी कभी समतल ज़मीं पर नहीं चलती
उस के मायने खो जाते हैं
तूफानों की तोड़फोड़
ज़िन्दगी की दिशा बनती है
रिश्तों के गुमनाम अनजाने पलों से
आत्मविश्वास की लौ निकलती है

42 टिप्‍पणियां:

  1. सच कहा आपने "रिश्तों के गुमनाम अनजाने पलों से, आत्मविश्वास की लौ निकलती है" |

    उत्तर देंहटाएं
  2. तूफानों के तोड़ फोड़ से आत्मविश्वास की लौ निकलती है ...
    फिर जयशंकर प्रसाद ये क्यों कह गए ...
    तुम पियूष स्त्रोत सी बहा करो ...जीवन के सुन्दर समतल में
    जब जीवन समतल ही नहीं ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. हर व्यक्ति अपनी भावनाओं के गर्भ से ख्याल लेकर आता है......

    उत्तर देंहटाएं
  4. rishto ke gumnaam anjaan palo se ...

    kitni sundar baat kahi hai aapne
    jivan ka vistaar
    samgr rup se aese hi ho pata hai

    bahut hi achchha rashmi prabha ji ..

    kishor

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस कविता में अनुभूति की सघनता एवं संवेदना का संश्लिष्ट प्रभाव स्पष्ट है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. ज़िन्दगी का यूँ समतल ज़मी पर ना चलना ही उसकी खूबसूरती को और बढ़ा देता है... हर नए पल में नया एहसास, नयी खोज, नया रिश्ता...

    उत्तर देंहटाएं
  7. जिंदगी का रास्ता ऊबड़खाबड़ है , सहमत हूं

    उत्तर देंहटाएं
  8. ज़िन्दगी में रिश्ते बहुत अहम् भूमिका निबाहते हैं...अच्छी पेशकश .

    उत्तर देंहटाएं
  9. zindagi samtal hoti to uske mayne hi kho jate..........bilkul sahi kaha zindagi ke ubad khabad raston se gujrkar ha rtoofan se ladne ke baad hi aatmvishwas badhta hai........chand shabdon mein hi zindagi ko bayan kar diya........badhayi.

    उत्तर देंहटाएं
  10. kuch shabdo main bahut si ankahi baat samjha jana koi aap se seekhe....ILu...!

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर और उत्तम भाव लिए हुए.... खूबसूरत रचना......

    उत्तर देंहटाएं
  12. रश्मि दी ! वाह क्या बात कही है ...एकदम सच्चाई की धरातल पर सुंदर भावनाए.

    उत्तर देंहटाएं
  13. मम्मी जी.... बहुत ही बेहतरीन अभिव्यक्ति के साथ ....बहुत सुंदर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  14. Jindgi ki dagar jitni muskil hoti hai, insan use utni hi shiddat se asan banane mein jut jata hai.kafi prernadayak hai aapki yah prastuti.Prakriti aur manushya ke rishto aur usse upja atmwishwas.Behad kubsurat hai.

    उत्तर देंहटाएं
  15. रिश्तों के गुमनाम अनजाने पलों से,
    आत्मविश्वास की लौ निकलती है|


    -सटीक व्याख्या....बहुत बढ़िया!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. तूफानों की तोड़ फोड़ और ज़िन्दगी जीने की जद्दोजहद...सही कहा आपने इनसे ही आत्मविश्वास की लौ निकलती है

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपने जो लिखा वह सत्य है
    मगर लगा कि कविता तो अभी शुरू हुई थी....!

    उत्तर देंहटाएं
  18. shayad rasta samtal ho jaye to zindgi zine ka maja bhi khatam ho jayega.....

    उत्तर देंहटाएं
  19. आपकी क्षणिकाएँ सीधे दिल में उतर जाती हैं।।

    उत्तर देंहटाएं
  20. कम शब्दों में बेहतरीन अभिव्यक्ति।
    हेमन्त कुमार

    उत्तर देंहटाएं
  21. जीवन की उथल-पुथल और उससे प्राप्त होते आत्मविश्वास, प्रतिभाषित करते हैं आपके लेखन को ............
    उथल-पुथल और आत्मविश्वास....एक विरोधाभास का समन्वय ...

    प्रणाम के साथ शुभकामनायें.........

    उत्तर देंहटाएं
  22. आपके चिंतन में नये अर्थ हैं .......
    ये सच है जीवन में नये रिश्ते बनते हैं और उनसे आत्मविश्वास भी आता है ...... पर कभी कभी रिश्तों से आत्मविश्वास डगमगाने भी लगता है .....
    आपकी रचना उद्वेलित करती है मन को ......

    उत्तर देंहटाएं
  23. jo samtal hoti zindgi ki dagar to shayad itna accha na lagta ye safar... fir zindgi gujar jaati bas....

    उत्तर देंहटाएं
  24. कम शब्दों में बहुत ही अच्छी रचना...बेहतरीन अभिव्यक्ति.....

    उत्तर देंहटाएं
  25. सच कहा आपने "रिश्तों के गुमनाम अनजाने पलों से, आत्मविश्वास की लौ निकलती है" |

    उत्तर देंहटाएं

पुनरावृति

दिए जा रहे हैं बच्चों को सीख  ! "ये देखो वो देखो ये सीखो वो सीखो देखो दुनिया कहाँ से कहाँ जा रही है ! गांव घर में खेती थी ...