About Us


मेरे एहसास इस मंदिर मे अंकित हैं...जीवन के हर सत्य को मैंने इसमे स्थापित करने की कोशिश की है। जब भी आपके एहसास दम तोड़ने लगे तो मेरे इस मंदिर मे आपके एहसासों को जीवन मिले, यही मेरा अथक प्रयास है...मेरी कामयाबी आपकी आलोचना समालोचना मे ही निहित है...आपके हर सुझाव, मेरा मार्ग दर्शन करेंगे...इसलिए इस मंदिर मे आकर जो भी कहना आप उचित समझें, कहें...ताकि मेरे शब्दों को नए आयाम, नए अर्थ मिल सकें ...

21 अप्रैल, 2010

गर्मी है !!!



उफ़ ये गर्मी !
शब्द भी बीमार हो गए हैं
डिहाईडरेशन के शिकार हो गए हैं
सर उठाते तो हैं
पर निढाल लुढ़क जाते हैं ...

एलेक्ट्रोल पिलाया है
दही सफगोल भी दिया है
निम्बू पानी तो भरपूर
फिर भी आँखें थोड़ी खुली
थोड़ी बन्द सी हैं शब्दों की

तीमारदारी ज़रूरी है
वरना बातों का क्रम रुक जायेगा
गलतफहमियां लू की तरह झुलसाने लगेंगी
और गर्मी के मारे हम अजनबी हो जायेंगे

कच्चे आम ले आई हूँ
इसे भी आजमाना है
शब्दों को बचाना है
कुछ कहना है और सुनना है ...

48 टिप्‍पणियां:

  1. हर बात आपकी ख़ास है... बहुत दिनों से आपकी कविता का इन्तजार था... आयी तो नई ताजगी के साथ... नए विषय पर... आपने हम सबके शब्दों को बचाने का उपाय बता दिया... सुंदर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  2. गलतफहमियां लू की तरह झुलसाने लगेंगी
    और गर्मी के मरे हम अजनबी हो जायेंगे

    thik kaha mummy ji garmi to bahut hi hai...

    उत्तर देंहटाएं
  3. मम्मी जी.... बहुत नायाब और शानदार अंदाज़ में लिखी बहुत ही खूबसूरत कविता.....

    उत्तर देंहटाएं
  4. उफ़ ...गर्मी का ये हाल
    इंसान तो इंसान
    शब्द भी हो गए बेहाल.
    कच्चे आम का पन्ना ,
    और निम्बू पानी
    शायद
    शब्दों को मिल जाये
    फिर से रवानी.....

    बहुत बढ़िया नज़्म है...बिलकुल नया प्रयोग...

    उत्तर देंहटाएं
  5. दीदी ,
    सादर प्रणाम, मेरी इच्छा आप की इस कविता पे कोई प्रतिक्रिया प्रदान करने की नहीं हुई क्योकि ये रचना आप के हर बार की तरह उम्दा रचना नहीं लगी , क्षमा चाहुगा .
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  6. बिकल-बेकल मन है, गर्मी से इस बार
    पारा भी कर गया है हद को ही पार॥
    गर्मी तो ऐसी है पूछिए मत!
    ना जाने कैसी है पूछिए मत!

    बहुत सही लिखा है!

    उत्तर देंहटाएं
  7. bahut sundar!!अक अलग ही अंदाज मे रचना प्रस्तुत की है।बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  8. क्षमा की क्या बात, हम अपनी सोच के साथ ही चलते हैं भाई....जो ना अच्छा लगे, तो सही है, सच ही कहना न

    उत्तर देंहटाएं
  9. shabo ko har haal mein geeto mein pirona hai..... sandesh deti kavita.......

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह! क्या बात है ! आप जैसे चिकित्सक के रहते शब्द कभी बीमार नहीं हो सकते !

    उत्तर देंहटाएं
  11. अरे दीदी ,गर्मी में ये कविता कुछ यूँ लगी जैसे शब्दों को शहद ,केसर ,चन्दन और खस का शरबत पिलाया हो ,खूब

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत शीतलता मिली
    कच्चे आम और पुदीने का असर तो होगा ही.
    बेहतरीन रचना

    उत्तर देंहटाएं
  13. kavita padaker garmi ki bhayankta ka ahsas hota hai achchhi kavita

    उत्तर देंहटाएं
  14. हां क्‍या पता कि‍स गर्मी से क्‍या हो जाये??

    उत्तर देंहटाएं
  15. Vaah .. Jhulsaati huyi garmi ka chitr khainch diya hai aapne ... bahut hi nayaab andaaz hai is rachna ka ...

    उत्तर देंहटाएं
  16. गर्मी पर क्या खूब रचना कही है आपने ...सच ये गर्मी तो जान लेवा है...हमारे बचपन में रेडिओ पर ये गीत गर्मियों में अक्सर बजा करता था...किसने लिखा ये तो पता नहीं लेकिन उसके बोल कुछ यूँ थे...

    गर्मी आई गर्मी आई
    गर्मी आई गर्मी आई
    आग बरसती
    लू है चलती
    गरम तवे सी
    धरती जलती
    गर्मी आई
    गर्मी आई

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  17. गलतफहमियां लू की तरह झुलसाने लगेंगी
    और गर्मी के मरे हम अजनबी हो जायेंगे
    ....garmee se raahat ke upaay abhivyakt karatee rachanaa ... prabhaavashaalee rachanaa !!

    उत्तर देंहटाएं
  18. garmiyon ki taklife aur rahat dono ka ahsaas karati ek anokhi rachna ,sach behad garmi hai ,tan man sab jhulsh rahe hai .

    उत्तर देंहटाएं
  19. वाह वाह कच्चे आमो की चटनी खाये, ओर फ़िर सुंदर जी कविता पर छाये... हमारे यहां तो अभी भी सर्दी है, लेकिन भारत की गर्मी का सुन कर इस सर्दी मै भी पसीने आते है, भगवान ना करे कभी आ कर रहना पडा तो क्या होगा.....

    उत्तर देंहटाएं
  20. uff !!! sach mein itni garmi hai..
    main abhi shimla mein hoon lekin pichle kuch saalon ki apekha is baar garmi sabse jyada hai..
    bilkul hi parishthiti ke anukul kavita likhi hai...
    yun hi likhte rahein
    regards
    http://i555.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  21. शब्दों को मिल जाये
    फिर से रवानी.....
    गर्मी के बहाने शब्द साधना ! अति सुंदर और सामयिक रचना के लिए बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  22. वाकई में इतनी गर्मी है की सबका हाल बहुत ही बुरा है! बहुत ही सुन्दर, शानदार और उम्दा प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  23. शब्दों को बचाना है ...
    लू से ...कैरी लेकर आई हैं ...
    अब तो बच ही जायेंगे ...क्या शक है ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  24. यह तो शब्दों की किस्मत है
    ऐसी प्यासी नारी के चित्र के नीचे झुलस ही न जाएंगे..!

    उत्तर देंहटाएं
  25. bahut hi saamayik kavita...sab behaal hain is garmi to shabd kyun nahi..

    उत्तर देंहटाएं
  26. शब्दों को बचाने का सुंदर उपाय बता दिया... सुंदर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  27. सुनों गोर से पेपसी वालों,
    बुरी नज़र न कोक पे डालों,
    चाहे जितना डियू पिलालों,
    सबसे आगे होगा नीम्बू पानी....नीम्बू पानी...
    हमने पिया है, तुम भी पिओ.....

    "इस सुन्दर पेशकश के साथ गर्मी पर अपनी बात रखने का मुझे आपने ये अवसर दिया और हम भी थोड़ा झूम लिए."

    उत्तर देंहटाएं
  28. सच कहा रश्मि जी इस गर्मी ने सबको डीहाईड्रेट कर दिया है... कोई उपाय तो करना ही होगा इन शब्दों को बचाने के लिये :-)

    उत्तर देंहटाएं
  29. एक अलग ढंग की कविता है ! पढके मज़ा आया ! हालाँकि देश से दूर हूँ, इस गर्मी का मज़ा नहीं ले पा रहा हूँ पर कल्पना कर सकता हूँ ... और कच्चे आम की शरबत का वो स्वाद ... आहा ... क्या कहने ...कभी न कभी तो फिर मिलेगा !

    उत्तर देंहटाएं
  30. नये बिंबों का अद्भुत प्रयोग है मुझे तो पसंद आया..

    उत्तर देंहटाएं
  31. Aapne ne timely glucose chadha diya.... jab tak aise doctors hai shabd to door kisi harf ki kya mazaal to beemar ho jaaye :-)

    उत्तर देंहटाएं
  32. क्या बात है.......
    लू चली तो पर आपके शब्द बचाते गये.....

    उत्तर देंहटाएं
  33. शब्दों का दर्द कोई सह्रदय कवि मन ही समझ सकता है. भाव के मानवीकरण के सहारे आपने गर्मी का जो चित्र खींचा है ,सराहनीय है.

    उत्तर देंहटाएं
  34. Sochta hoon niboliyon wala
    ped aangan mein ek lagwa loon



    Khoobsoorat kavita.... badhaai

    उत्तर देंहटाएं
  35. priy Rashmi ji,
    aapke meri kavitao k prati jo vichar hai, uske liye bahut bahut Dhanyvaad....!

    - nikita
    http://love-you-mom.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  36. यह अंदाजे बयां भी निराला है, अच्छा लगा पढना |

    उत्तर देंहटाएं
  37. इस बार तो मुंबई में भी गर्मी है । सुंदर कविता ।



    नेट की समस्या थी इसलिये ब्लाग जगत से दूर था

    उत्तर देंहटाएं
  38. Garmi mein man ko thandak pahunchati behatreen rachna.....
    Haardik shubhkamnayne...

    उत्तर देंहटाएं
  39. " गर्मी है " पढ़ी..
    अच्छी बन पड़ी है..

    उत्तर देंहटाएं
  40. वाह ...वाह ...रश्मि जी खिलाइए खिलाइए कच्चे आम भी खिलाइए ...मैं भी ले आई हूँ आज .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  41. Hi..
    Shabdon ki jadugar se ab shabd chikitsak sa dekha..
    Apne snehil sparshon se har shabd saheja sa dekha..

    Garmi main sharbat se lekar thandai tak faile aap..
    Shabdon ke dukh har baithe ho..
    Har baithe unke santaap..

    DEEPAK..

    उत्तर देंहटाएं