30 अप्रैल, 2010

सुवासित वक़्त







पतझड़ में गिरे शब्द
फिर से उग आए हैं
पूरे दरख़्त भर जायेंगे
फिर मैं लिखूंगी

पतझड़ और बसंत
शब्दों के
तो आते-जाते ही रहते हैं

जब सबकुछ वीरान होता है
तो सोच भी वीरान हो जाती है
सिसकियों के बीच बहते आंसुओं से
कोंपले कब फूट पड़ती हैं
पता भी नहीं चलता

मन की दरख्तों से
फिर कोई कहता है
कुछ लिखो
कुछ बुनो
ताकि गए पंछी लौट आएँ
घोंसला फिर बना लें
शब्दों के आदान-प्रदान के कलरव से
खाली वक़्त सुवासित हो जाये

45 टिप्‍पणियां:

  1. Sundar vicharon se saji sundar kavita :), Shabdon ke liye basant bana rahe, aur unke aadan - pradan se utpann hone wala kalrav bhi badastur jari rahe.

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छे भाव लिए हुए ...... सुन्दर रचना ....एक शानदार प्रस्तुति ...बधाई स्वीकारे

    http://athaah.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  3. Kuchh isi prakaar ka patjhad yahan par bhi chal raha hai !

    Atyant sundar rachna !

    Man Ko Chhoo Gayi !

    Aabhar !

    उत्तर देंहटाएं
  4. खाली वक़्त सुवासित हो जाए....
    वाह ! खूब ख्याल है...
    ज़रा इस अंदाज़ पर भी गौर फरमाइए...

    तनहा हूँ में..
    बहुत तनहा..
    अब ये बात और की " तनहाई " मेरी माशूका है..!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. "वाह कितनी सुन्दर कृति है.."

    उत्तर देंहटाएं
  6. हमेशा की तरह आपकी रचना जानदार और शानदार है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह्…………………क्या भावों को पिरोया है…………गज़ब कर दिया………………बहुत ही सुन्दर अन्दाज़ है शब्दों को पकड्ने का और फिर उन्हें बाँधने का।

    उत्तर देंहटाएं
  8. आदरनीय प्रभा जी आपके आशा व उम्मीद के दरख्तों तले बहुत सुकूं मिला
    भावों की घनी छांव है यहाँ ,शब्दों की शीतलता भी ..इस भावाभिव्यक्ति के लिए साधुवाद

    उत्तर देंहटाएं
  9. भाव पूर्ण सुन्दर प्रस्तुति है...
    अर्थ भी सरल है.

    प्रथम पैरा में शब्द पत्ते के रूप में हैं, परन्तु अंतिम पैरा में कुछ सामंजस्य की कमी लगी... (हो सकता है मैं कहन को ठीक से समझ न पाया हूँ)

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही सुन्दर और भावपूर्ण रचना! दिल को छू गयी हर एक पंक्तियाँ! लाजवाब!

    उत्तर देंहटाएं
  11. उगे हुए शब्द
    लिखने को आतुर होंगे ही
    बेहतरीन

    उत्तर देंहटाएं
  12. शब्दों के आदान-प्रदान के कलरव से
    खाली वक़्त सुवासित हो जाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  13. rachna prakriya ko kitni sahajta se bata diya hai... abhutpurb!

    उत्तर देंहटाएं
  14. बेहतरीन रचना है ! ये रचना खुद वो शज़र है जिसपे शब्दों के फूल उग आये हैं ... बस अब टिप्पणियों के भँवरे चारो तरफ से घिर आएंगे ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. पतझड़ के बाद बसंत का आना समष्टि मेँ विराट की सिरजन प्रक्रिया का संकेत है।इस प्रक्रिया से व्यष्टि भला कैसे विमुख हो सकती है।यह क्रम आपकी कविता मेँ दिखाई देता है।बहुत अच्छी लगी आपकी कविता।बधाई हो!

    उत्तर देंहटाएं
  16. आशावाद की इबारत है आपकी कविता

    'पतझड़ में गिरे शब्द
    फिर से उग आए हैं'

    बहुत सुंदर .......बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत सुंदर ओर गहरे भावो से सजाया है आप ने अपनी कविता को धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  18. शब्दों का बसंत हमेशा खिलता रहे..panchhi chahchahate rahen...shubhkamanayen.

    उत्तर देंहटाएं
  19. शब्द यूँ ही सुवासित रहें...पतझड़ और बसंत का भी अपना मज़ा है...आपके ये भाव की पंछी लौट आयें....बहुत पसंद आया....बेहतरीन रचना

    उत्तर देंहटाएं
  20. इसी जीवन के सापेक्ष ही साहित्यिक जीवन भी चलता है , कभी
    बरसात से भीगता तो कभी जेठ में तपता , कभी बसंत में हुलसता
    तो कभी पतझड़ में छीजता !
    लेखन में भी एक चक्रीय प्रक्रिया बनती है !
    सुन्दर कविता ..

    उत्तर देंहटाएं
  21. Badi apni si lagi rachna....ye shabdo ka mausam bhi na ...bas aata-jaata rahta hain....padhkar man khush hua :-)

    उत्तर देंहटाएं
  22. सच में ये शब्द ही खालीपन को भरते हैं.............. होले - होले

    उत्तर देंहटाएं
  23. और देखो हम पंछी लौट आये हैं .. बसंत भी आ गया है .... इन सब पंछियों के कमेन्ट को अपने घोंसले में सजा देना .....

    उत्तर देंहटाएं
  24. kya bat hai bahut sahi kaha shabdo ka bandhan hai kabhi patjhad kabhi sawan hai

    acha laga

    उत्तर देंहटाएं
  25. Man prasanna hua...Jaise May ki garmi mein barish ki bundein.....

    Laut ayi basant....


    THANK YOU.

    उत्तर देंहटाएं
  26. skip to main | skip to sidebar मेरी भावनायें...
    भावनाओं की दस्तकें हैं...ख्यालों की रिमझिम बारिश...सपनो की मोहक कहानियाँ...आत्मा-परमात्मा की एक रूपता...कुछ कहो, कुछ जी लो, कुछ मुट्ठियों में भर लो....रास्ते ही रास्ते हैं....
    आपका स्वागत है...


    मेरे एहसास इस मंदिर मे अंकित हैं...जीवन के हर सत्य को मैंने इसमे स्थापित करने की कोशिश की है। जब भी आपके एहसास दम तोड़ने लगे तो मेरे इस मंदिर मे आपके एहसासों को जीवन मिले, यही मेरा अथक प्रयास है...मेरी कामयाबी आपकी आलोचना समालोचना मे ही निहित है...आपके हर सुझाव, मेरा मार्ग दर्शन करेंगे...इसलिए इस मंदिर मे आकर जो भी कहना आप उचित समझें, कहें...ताकि मेरे शब्दों को नए आयाम, नए अर्थ मिल सकें ...

    • सुवासित वक़्त • अनंत विस्तार • गर्मी है !!! • तूफ़ान और ख़ामोशी • गिरते हैं शहंशाह ही मैदाने जंग में • अपनी मर्जी की नहीं • मैं कुछ नहीं ! • दिल की बात ! • अपर्णा की तलाश • मेरी फितरत • होली की शुभकामनायें • .....! • खाकर देखो तो • सुकून • दिल का हिस्सा Powered By Tech Vyom
    30 April, 2010
    सुवासित वक़्त
    - रश्मि प्रभा...













    पतझड़ में गिरे शब्द
    फिर से उग आए हैं
    पूरे दरख़्त भर जायेंगे
    फिर मैं लिखूंगी
    didi ,pranam.
    vakai kya bhav ookere hai aap ne.
    sadhuwad,













    पतझड़ में गिरे शब्द
    फिर से उग आए हैं
    पूरे दरख़्त भर जायेंगे
    फिर मैं लिखूंगी

    उत्तर देंहटाएं
  27. shabdo ke aadan pradan se waqt suvasit ho jaye..... shabdo ki shakti ka adbhut prayog.. shubhkamna

    उत्तर देंहटाएं
  28. पतझड़ में गिरे शब्द
    फिर से उग आए हैं
    पूरे दरख़्त भर जायेंगे
    फिर मैं लिखूंगी
    ......Aap likhti rahen aur bujhe man mein umang bhar jeewan ka sandesh dekhar yun hi Hindi Sahitya ko samardhi pradaan karti rahi... yahi hamari haardik shubhkamnayne hain....
    Behtreen prastuti ke liye aabhar..

    उत्तर देंहटाएं
  29. 'पतझड़ में गिरे शब्द
    फिर से उग आए हैं'
    बहुत ही सुन्दर और भावपूर्ण रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  30. शब्दों का आदान - प्रदान एहसास दिलाता है हमें अपने होने का ...
    ख़ामोशी हो... कुछ पल या कुछ अधिक पल ...तो भी शब्द तो चलते ही रहते हैं अपनी रफ्तार से ...बस लिखे नहीं जाते ..
    हमारी संवेदनाएं इतनी मिलती -जुलती क्यूँ है ...कई बार सोचती हूँ ...आप भी ना....!!

    उत्तर देंहटाएं
  31. हर बात को एसे, इतना सहज़ता से कैसे समझा देती हो ? मुझे यह पढ़ ऐसा लग जैसे मेरे शब्द जो कई दिनों से पतझड़ की हवा में उड़ रहे थे, आज उसे एक ठंडी बसंत की हवा ने संभाल लिया ... ILu...!

    उत्तर देंहटाएं
  32. खाली वक्त सुवासित हो जाये !! बहु आयामी बिम्ब उकेरती एक बेहद खूब सूरत रचना !!! बधाई स्वीकारें !

    उत्तर देंहटाएं
  33. rashmi ji,
    vishwas ke sath jiwan ko suwasit karna taaki waqt khali nahin balki sukhad beete, bahut sarthak soch aur abhivyakti, badhai aapko.

    उत्तर देंहटाएं
  34. आखिर कोपलें फूट गयीं और शब्दों के कलरव से वक्त सुवासित हो गया.

    उत्तर देंहटाएं
  35. Adaraneeya Rashmi ji,
    prakriti ke saath shabdon kaa taadatmya aur unakee mukharata hee apakee kavitaon ko vishisht banataa hai---bahut sundar rachana.
    Poonam

    उत्तर देंहटाएं
  36. सोचने को बाध्य करती है आपकी रचना बहुत जबरदस्त अभिव्यक्ति बड़ी सकारात्मक बात

    उत्तर देंहटाएं
  37. बेहद सुन्दर और भावपूर्ण अभिव्यक्ति ...अतिसुन्दर दी

    उत्तर देंहटाएं
  38. शब्द ही तो जीवन है .... ओम में सब कुछ निहित है ...

    उत्तर देंहटाएं

शीशम में शीशम सी यादें

छोड़ कैसे दूँ उस छोटे से कमरे में जाना जहाँ पुरानी शीशम की आलमारी रखी है धूल भले ही जम जाए जंग नहीं लगती उसमें  ... ! न उसमे...